पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज नए रूप में दिखे, कटाक्ष के साथ योगी शासन पर किया जमकर प्रहार

बोले हम छोटे दलों के साथ गठबंधन कर जीतेंगे 350 सीटें

 

By: Narendra Awasthi

Published: 21 Jul 2021, 07:57 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

उन्नाव. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि वह छोटे पार्टियों से गठबंधन करके 350 सीटें जीतेंगे। किसी बड़े दल से गठबंधन नहीं करेंगे। लेकिन उनके दरवाजे सभी पार्टियों के लिए खुले हैं। पूर्व मंत्री मनोहर लाल की प्रतिमा का अनावरण करने उन्नाव आए अखिलेश यादव ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए उक्त विचार व्यक्त किया। इस मौके पर समाजवादी पार्टी के एमएलसी, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक भी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने महिलाओं के कपड़े छीनने वालों को बताया बीजेपी का अनुशासित सिपाही, बोले प्रशासन से कोई शिकायत नहीं

अखिलेश यादव ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी जरूरत के समय हॉस्पिटल में ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं करा पाई। भाजपा का कहना कि ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं थी सबसे बड़ा झूठ है। भाजपा ने जनता को उनके हाल पर छोड़ दिया था। सरकार ने जनता को अनाथ छोड़ दिया था। सस्ती दवाइयां भी ब्लैक कर दी गई हैं। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी सभी वर्ग को लेकर चलेगी समाजवादी पार्टी ने विकास को प्राथमिकता दिया है। समाजवादी फैसला किया है कि बड़े दलों से गठबंधन नहीं होगा। छोटे दलों के साथ से लेकर चलेगी जिसको यह भारतीय जनता पार्टी को हराना है समाजवादी पार्टी के दरवाजे खुले हैं

यह भी पढ़ें

Weather Update- मौसम विभाग द्वारा जारी की गई 21-22 और 23 जुलाई के लिए चेतावनी, क्या कहता है मौसम विभाग

अखिलेश यादव ने कहा कि सबसे अधिक सांसद विधायक भाजपा के हैं। जब जनता ने उस पर भरोसा किया है। तो बीजेपी जासूसी क्यों कर रही है। अगर जासूसी कर रही है तो यह दंडनीय अपराध है। जो दोषी हैं उन्हें सजा मिलनी चाहिए अमेरिका जैसे देश में जासूसी कांड हुए हैं तो वहां के राष्ट्रपति को इस्तीफा देना पड़ा है

यह भी पढ़ें

2 माह से बेकरी व्यापारी अपहरणकर्ताओं के चंगुल से छूट कर सीधे पहुंचा थाना, पुलिस को सुनाई चलो आपबीती

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा भारतीय जनता पार्टी द्वारा पवित्र लोकतंत्र के पवित्र स्थान में सबसे बड़ा झूठ है कि ऑक्सीजन की कमी के कारण कोई जान नहीं गई है। उन्होंने कहा समाजवादी पार्टी 350 सीटें जीतने जा रही है। पिछली बार भी रथ ले कर उन्नाव आए थे। साइकिल भी चला चुके हैं। रथ में कार्यकर्ताओं से मिलने में सुविधा मिलती है। प्रोटोकॉल के पालन में भी सुविधा मिलती है। प्रोटोकॉल से बचना है तो रथ के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned