scriptTeacher Skeleton found on river Ganga banks, his hands and feet were t | उन्नाव: बाइक की टक्कर, दिया गया मुआवजा, 6 दिन बाद मिला शिक्षक का कंकाल, बंधे थे हाथ पैर | Patrika News

उन्नाव: बाइक की टक्कर, दिया गया मुआवजा, 6 दिन बाद मिला शिक्षक का कंकाल, बंधे थे हाथ पैर

locationउन्नावPublished: Dec 24, 2023 06:01:08 pm

Submitted by:

Narendra Awasthi

उन्नाव में 6 दिनों से गायब शिक्षक का शव गंगा कटरी के किनारे मिला। जिसकी पहचान जूता और कपड़ों से हुई है। मृतक भाई ने हत्या का आरोप लगाया है। सीओ ने बताया कि सभी बिंदुओं पर जांच हो रही है। ‌

उन्नाव: बाइक की टक्कर, दिया गया मुआवजा, 6 दिन बाद मिला शिक्षक का कंकाल, बंधे थे हाथ पैर

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में शिक्षक का कंकाल प्लास्टिक की रस्सी में बंधा मिला। शव की पहचान जूते और कपड़ों से हुई है। जो पिछले 6 दिनों से गायब था। मृतक के भाई ने बताया कि हत्या करके शव को गंगा में फेंका गया है। इस संबंध में क्षेत्राधिकारी ने बताया कि सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है। घटना बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र के गंगा कटरी का है।

 

बीती शनिवार की देर रात पुलिस को जानकारी मिली के गंगा के किनारे युवक का कंकाल पड़ा है। जिसके हाथ पर प्लास्टिक के रस्सी से बंधे हुए हैं। शरीर में केवल हड्डी ही हड्डी रह गई थी। जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया और शव के शिनाख्त के प्रयास किए गए। जिसकी पहचान आशुतोष रैना पुत्र राम नारायण रैना निवासी तिस्ती रसूलाबाद कानपुर देहात के रूप में हुई है।

यह भी पढ़ें

उन्नाव: "हमें कोई जरूरत नहीं ऊपर चार जगह पहुंचाना पड़ता है रुपए...," कहने वाला बाबू निलंबित

 

 

मृतक भाई ने लगाया आरोप

मृतक के भाई अभिलाष ने बताया कि बीते 16 दिसंबर को आशुतोष मोटरसाइकिल से बिल्हौर कानपुर नगर स्थित अपने मौसी के यहां जा रहा था। रास्ते में बिल्हौर रसूलाबाद पर मोटू निवासी कंजर डेरा बिल्हौर की बाइक से टक्कर हो गई। जिसमें 6 वर्षीय प्रियांशी पुत्री मोटू घायल हो गई। घटना के बाद घायल के परिजनों ने मोटरसाइकिल अपने कब्जे में ले ली। इस दौरान दोनों पक्षों में बहस हुई। घटना की जानकारी आशुतोष ने अपने‌ परिजनों को दी।

 

दोनों पक्षों में हुआ समझौता

इधर आशुतोष सिटी हॉस्पिटल बिल्हौर जाने की बात कह कर घर से निकला। फिर वापस नहीं आया। बीते 18 दिसंबर को प्रियांशी के उपचार के लिए दोनों पक्षों में समझौता हो गया। इसके लिए 14500 रूपए घायल परिजनों को दिए गए। लेकिन आशुतोष वापस नहीं आया।

 

मृतक भाई ने बताया

अभिलाष का कहना है कि मोटू और उसके साथी जबरदस्ती उसके भाई को ले गए हैं। घटना की जानकारी पुलिस को भी दी गई। भाई को खोजने का प्रयास किया। लेकिन सफलता नहीं मिली। पुलिस ने भी कोई कार्रवाई नहीं की।

 

क्या कहते हैं क्षेत्राधिकारी?

क्षेत्राधिकारी बांगरमऊ विजय आनंद ने बताया कि बीती रात बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र के गंगा कटरी में बीती रात शव पड़े होने की जानकारी दी गई सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव के सीनागड़ का प्रयास किया जिसकी पहचान आशुतोष के रूप में हुई है। उन्होंने बताया कि शौक कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। सभी बिंदुओं पर जांच हो रही है।

ट्रेंडिंग वीडियो