बड़ी संख्या में छात्र छात्राएं पात्रता परीक्षा देने से रहे वंचित

बड़ी संख्या में छात्र छात्राएं पात्रता परीक्षा देने से रहे वंचित
UP TET 2017

Shatrudhan Gupta | Updated: 15 Oct 2017, 10:28:26 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

तमाम छात्रों को उस समय वापस होना पड़ा जब वे केंद्र व्यवस्थापक को ओरिजिनल सर्टिफिकेट नहीं दिखा पाए।

उन्नाव. उत्तर प्रदेश पात्रता परीक्षा देने आए तमाम छात्रों को उस समय वापस होना पड़ा जब वे केंद्र व्यवस्थापक को ओरिजिनल सर्टिफिकेट नहीं दिखा पाए। छात्रों का कहना था कि ऐसा पहली बार हो रहा है। जब पात्रता परीक्षा देने के लिए ओरिजिनल सर्टिफिकेट की डिमांड की जा रही है। इसके लिए छात्रों के अपने तर्क हैं। जबकि शासन परीक्षा में पारदर्शिता बनाए रखने के लिए यह व्यवस्था किया है। उत्तर प्रदेश पात्रता परीक्षा के दौरान विद्यालयों के आसपास सुरक्षा की व्यापक व्यवस्था की गई थी।जनपद के 11 कॉलेज में पर टेट की परीक्षा आयोजित की जा रही है। इसके लिए केंद्र व्यवस्थापक के साथ पर्यवेक्षक भी सतर्क थे। परीक्षा के दौरान सचल दस्ता भी सक्रिय था। दो पाली में होने वाली पात्रता परीक्षा में की पहली पाली में प्राथमिक विद्यालय और द्वितीय पाली में उच्च प्राथमिक विद्यालय की पात्रता परीक्षा को संपन्न कराया गया।

ओरिजिनल सर्टिफिकेट नहीं दिखा पाए परीक्षार्थी

उत्तर प्रदेश पात्रता परीक्षा 2017 की दो पालियों की परीक्षा सुबह 10:00 बजे शुरू हुई। जनपद के रानी शंकर सहाय इंटर कॉलेज, राजकीय इंटर कॉलेज सिविल लाइन, श्याम कुमारी सेट इंटर कॉलेज, राजकीय महाविद्यालय बक्खा खेड़ा, अटल बिहारी इंटर कॉलेज बड़ा चौराहा, जी नाथ जी इंटर कॉलेज, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज मोती नगर, राजा शंकर सहाय इंटर कॉलेज, सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज पूरन नगर और डी एस एन कॉलेज में आयोजित की गई। स्थानीय राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में लगभग आधा सैकड़ा छात्र परीक्षा से वंचित रह गए। इस संबंध में बातचीत के दौरान लखनऊ के अमित कुमार ने बताया कि वह फोटो कॉपी लेकर टेट की परीक्षा देने आए थे। परंतु उन्हे परीक्षा नहीं देने दिया गया।

अमित कुमार ने बताया कि इस संबंध में पहले उन्हें 3:00 बजे तक रुकने के लिए कहा गया। फिर बाद में कहा गया कि फोटो कॉपी को किसी गजटेड अधिकारी से अटेस्ट करा कर लाइए इस तरह की बातों से उनका समय जाया हो गया। उन्होंने बताया कि बिना ओरिजिनल सर्टिफिकेट के कैसे कोई अधिकारी फोटो काफी प्रमाणित कर सकता है। परीक्षा से वंचित छात्र छात्राओं में नाराजगी देखी गई। सेट परीक्षा के दौरान सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए विभिन्न थानों की पुलिस को परीक्षा केंद्रों पर लगाया गया था जिसके साथ भी सचल दस्ता भी क्रियाशील रही। जिला विद्यालय निरीक्षक ने विभिन्न केन्द्र का निरक्षण किया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned