सरकार! प्राइवेट स्कूल ने चौपट कर दिया सैकड़ों बच्चों का भविष्य, डीएम-एसपी तक नहीं सुन रहे फरियाद

Narendra Nath Awasthi | Publish: Sep, 08 2018 08:51:36 PM (IST) Unnao, Uttar Pradesh, India

जिला विद्यालय निरीक्षक ने कहा जांच में दोषी पाया गया, कार्रवाई होगी

उन्नाव. फर्जी स्कूल से मिली फर्जी मार्कशीट लेकर छात्र-छात्राएं दर दर की ठोकरें खा रही हैं। जनपद मुख्यालय पहुंचकर छात्र-छात्राओं ने जिलाधिकारी को संबोधित ज्ञापन नगर मजिस्ट्रेट को दिया। अपने ज्ञापन में छात्रों ने बताया कि उन लोगों ने पुरवा तहसील के मंगत खेड़ा स्थित इंटर कॉलेज में कक्षा आठ से पढ़ाई की। विद्यालय प्रबंध तंत्र ने बताया था कि उनका रजिस्ट्रेशन उत्तर प्रदेश बोर्ड में हुआ है। अपनी पढ़ाई करते रहो। लेकिन पेपर के बाद उन्हें दिया गया रिजल्ट बोर्ड ऑफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन दिल्ली का है। जिसके आधार पर स्थानीय कॉलेजों में उनका एडमिशन नहीं हो रहा है। प्रिंसिपल बताते हैं कि यह फर्जी मार्कशीट है। छात्रों का कहना था कि उन्होंने उप जिलाधिकारी से लेकर जिलाधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, पुरवा विधायक, विधानसभा अध्यक्ष से न्याय की गुहार लगा चुके हैं। लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिला। इस संबंध में बातचीत करने पर जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि जांच में यह विद्यालय गलत पाया गया है। इसके खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराया जाएगा। छात्रों के भविष्य के सवाल पर उन्होंने कहा कि माध्यमिक शिक्षा परिषद बोर्ड को इस विषय में लिखकर मार्गदर्शन मांगा जाएगा।


पंडित लालता प्रसाद सीनियर सेकेंडरी स्कूल का मामला

तरुण कुमार, योगेंद्र कुमार निलेश कुमार विशाल कुमार अंकित नेहा आकांक्षा सहित जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे अन्य छात्र छात्राओं ने बताया कि पुरवा तहसील व असोहा विकासखंड के गांव मंगत खेड़ा में स्थित पंडित लालता प्रसाद सीनियर सेकेंडरी स्कूल में कक्षा आठ से पढ़ाई कर रहे हैं। उन लोगों ने 2017 में उन लोगों ने उक्त कॉलेज से हाई स्कूल बोर्ड का पेपर दिया था। जिसका रिजल्ट उन्हें परीक्षा के डेढ़ साल बाद दिया गया। जब मार्कशीट लेकर दूसरे विद्यालय में एडमिशन के लिए गए तो उन्हें जानकारी हुई किया मार्कशीट फर्जी है। यह सुनकर उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। उन्होंने विद्यालय प्रबंधन से संपर्क कर जानकारी चाही तो उन्होंने धमकी देते हुए मौके से भगा दिया। तब से वह लोग लगातार भटक रहे हैं। परेशान छात्र छात्राएं और उनके अभिभावक विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित, पुरवा विधायक अनिल सिंह को भी विद्यालय के खिलाफ शिकायती पत्र दे चुके हैं।


उप जिलाधिकारी पुरवा को की गई शिकायत भी बेकार

इस संबंध में उन्होंने उप जिलाधिकारी पुरवा को शिकायती पत्र देते हुए कार्रवाई की मांग की थी। परंतु विद्यालय के खिलाफ आज तक कोई कार्यवाही नहीं की गई। उन लोगों ने ऑनलाइन आवेदन करने की कोशिश की। परंतु बोर्ड ऑफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन दिल्ली का कहीं नाम नहीं आया। उन लोगों का कहीं भी फॉर्म नहीं भर पा रहा है। इस संबंध में उन्होंने प्रबंधक दुर्गा प्रसाद व प्रिंसिपल हरनाम सिंह यादव से बातचीत की। तो उन्होंने धमका कर कहा कि तुम लोग हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते है। हमारी पहुंचे मुख्यमंत्री तक है। उन्होंने कहा कि मैं पैसे के दम पर विद्यालय चलाऊंगा। छात्रों का कहना है कि विद्यालय इंटरमीडिएट तक संचालित है। न्याय न मिलने के कारण वह लोग दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। उन्होंने सभी विद्यार्थियों के भविष्य को देखते हुए उचित कार्रवाई की मांग की है।


जिला विद्यालय निरीक्षक ने कहा छात्र छात्राओं के लिए लिखा जाएगा बोर्ड को

इस संबंध में बातचीत करने पर जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि मंगत खेड़ा स्थित इंटर कॉलेज के संबंध में शिकायत मिली है। जांच में विद्यालय फर्जी पाया गया। विद्यालय बिना मान्यता के संचालित है। शीघ्र ही विद्यालय प्रबंध तंत्र के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराया जाएगा। छात्र-छात्राओं के भविष्य के सवाल पर उन्होंने कहा कि माध्यमिक शिक्षा परिषद बोर्ड को पत्र लिखकर इस विषय में निर्देश मांगे जाएंगे। कोशिश होगी कि छात्र छात्राओं का समय बच जाए।

 

Ad Block is Banned