जिलाधिकारी को इस स्वास्थ्य केंद्र में शासन की प्राथमिकताओं में से एक कोविड-19 हेल्पडेस्क की कोई संभावना नहीं दिखाई पड़ी

- कोविड-19 कोरोनावायरस के दौरान भी स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर अनुपस्थित

- जिलाधिकारी ने सामूदायिक स्वास्थ्य केंद्र गंगा घाट के निरीक्षण के दौरान हुआ खुलासा

- अनुपस्थित स्टाफ का वेतन रोकने का निर्देश

By: Narendra Awasthi

Published: 26 Jun 2020, 09:45 PM IST

उन्नाव. जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने आज शुक्लागंज ठाकुरखेड़ा स्थित सामूदायिक स्वास्थ्य केन्द्र गंगाघाट का औचक निरीक्षण किया। वहां की हालत देख उन्होंने रोष व्यक्त किया और मुख्य चिकित्सा अधिकारी को अनुपस्थित पाए गए डॉक्टर व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों का वेतन रोकने का निर्देश दिया।

 

मरीजों की संख्या अधिकतम 8

रजिस्टर्ड निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने पाया कि स्वास्थ्य कर्मी की लापरवाही के कारण मरीजों की संख्या दिन-प्रतिदिन कम होते जा रही है। जिलाधिकारी ने कहा कि सामूदायिक स्वास्थ्य केंद्र में आये मरीजों की संख्या 20 जून को 4, 22 जून को 7, 23 जून को 8, 24 जून को 6, 25 जून को 4, 26 जून को 8 लोगों की रही। निरीक्षण के दौरान 5 डाक्टर अनुपस्थित पाये गये। उन्होंने ओपीडी में चिकित्सक कक्ष के निरीक्षण के दौरान माया की वहां पर साफ-सफाई का अभाव था। दवाओं के रख-रखाव की स्थिति ठीक नहीं पायी गयी। सफाई कर्मी भी अनुपस्थित मिला जिसपर उन्होंने रोष व्यक्त करते हुये सम्बन्धित सभी के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये।

 

कोविड-19 देश बनने की कोई संभावना नहीं दिखाई पड़ी

जिलाधिकारी ने कहा कि मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया गया था कि प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कोविड-19 हेल्प डेस्क बनाते हुये लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से बैनर आदि लगवायें। जो पूरा होते नहीं दिख रहा है और यहां भी ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है। जिलाधिकारी ने वहां की शौचालय आदि की साफ-सफाई व्यवस्था पर रोष व्यक्त किया। जिसपर उन्हें बताया गया कि सफाई कर्मी रोज नहीं आता है। वहां दवाइयों का रख-रखाव भी सही नहीं पाया गया। जिलाधिकारी ने वहां पर बने स्टाफ के आवास की जानकारी हासिल की। उन्हें बताया गया कि यहां पर कोई सुरक्षा व्यवस्था नहीं है। जिसपर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित थाने को निर्देश दिये कि यहां पर सुरक्षा की व्यवस्था की जाये। ताकि भविष्य में कोई अप्रिय घटना न घटित हो। निरीक्षण के दौरान उप जिलाधिकारी सदर, उप निदेशक सूचना सहित सम्बन्धित उपस्थित थे।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned