मुख्यमंत्री से मिलना है तो पास बनवा कर लाइए

पास है कि मिलता नहीं पास न मिलने के कारण तमाम फरियादी वापस लौटे

 

By: Narendra Awasthi

Published: 07 Jun 2018, 05:56 PM IST

उन्नाव. मुख्यमंत्री से मिलना है तो पास बनाकर लाइए। और पास बनना इतना आसान नहीं है। हसनगंज तहसील के रमपुरवा बीजीमऊ रसूलाबाद निवासी द्वारिका पुत्र स्वर्गीय लेखई ने उक्त जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पास बनवाने के विषय में कोई जानकारी नहीं दी। गौरतलब है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक दिवसीय दौरे उन्नाव आने का कार्यक्रम है । द्वारका जैसे अन्य तमाम लोग भी फरियाद लेकर निराला प्रेक्षागृह पहुंचे थे। उन्हें मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र देना था। जिसके लिए द्वारिका सहित अन्य लोगों ने शिकायती पत्र भी बनवा लिया था। द्वारका ने बताया कि प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद भी दबंग पड़ोसी घर बनाने में अड़ंगा डालते हैं। उन्होंने जिला प्रशासन से घर बनाने में आ रही अड़चनों को दूर करने की मांग की है।


दबंगों के कारण अपने जमीन पर नहीं बना पा रहा मकान

मामला हसनगंज तहसील के रमपुरवा बीजी मऊ का है। उक्त गांव निवासी द्वारिका ने बताया कि उसका कच्चा मकान टूट गया था। जिसकी छत गिर गई थी। लगभग 50 वर्ष पुराना कच्चा मकान गिराकर वह पक्का मकान बनाने जा रहा था। निर्माण कार्य के दौरान उनके पड़ोसी नीलम पत्नी राजू, विष्णुना पत्नी श्यामलाल ने आपत्ति की। जबकि उनका भूमि नंबर 939 (क) है और मेरा 939 (ख) है। जिसके राजस्व कागजात भी मौजूद हैं। परंतु उपरोक्त लोग अपनी दबंगई के बल पर कमरा बनाने नहीं दे रहे हैं। जिससे उनका परिवार विगत कई महीनों से खुले आसमान के नीचे रह रहा है। जिसमें घर की औरतों के साथ छोटे-छोटे बच्चे भी शामिल हैं। इस मौके पर द्वारिका ने परिवार की वह स्थिति दिखलाई जिन परिस्थितियों में सभी रह रहे हैं।


लेखपाल नजरी नक्शा भी बना चुका है

द्वारका ने बताया कि हल्का लेखपाल ने मौके पर जाकर स्थलीय निरीक्षण भी किया साथ ही नजरी नक्शा भी बनाया। जिसकी आंख्या लेखपाल द्वारा दी जा चुकी है। जिसमें कहा गया है कि अपने भूमि नंबर मैं पुराने मकान की जगह नया मकान बना रहा है। जिसकी अनुमति भी मिल चुकी थी। परंतु पड़ोसी अपनी दबंगई के बल पर मकान बनने नहीं दे रहे हैं। जिससे उनके परिवार के छोटे-छोटे बच्चे महिलाएं खुले आसमान के नीचे जीवन यापन करने को मजबूर हैं। द्वारिका मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ज्ञापन देकर अपनी भूमि संख्या 939 (ख) पुराने मकान के स्थान पर पक्का मकान बनाने हेतु अनुमति देने की फरियाद लगाई है। लेकिन द्वारका की मुलाकात मुख्यमंत्री से होना असंभव है।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned