जीएसटी के खिलाफ व्यापारियों का आंदोलन, कहा- सात महीने से जीएसटी पोर्टल नहीं कर रहा काम

जीएसटी के खिलाफ व्यापारियों का आंदोलन, कहा- सात महीने से जीएसटी पोर्टल नहीं कर रहा काम

Ruchi Sharma | Publish: Feb, 15 2018 05:59:57 PM (IST) | Updated: Feb, 15 2018 08:24:24 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

रोज बदल रहे हैं नियम सेवा करो से व्यापार प्रतिनिधि मंडल ने दिया ज्ञापन

उन्नाव. जीएसटी से व्यापारियों की समस्याएं समाप्त होने का नाम नहीं ले रही हैं । आए दिन नियमों में हो रहे बदलाव से व्यापारी आहत है। जीएसटी पोर्टल सात माह से ठीक से काम नहीं कर रहा है। जिससे व्यापारियों के जीएसटीआर दो व जीएसटीआर 3 रिटर्न आज तक नहीं जमा हो पाए हैं। पोर्टल के काम ना करने के कारण व्यापारियों को अर्थदंड देना पड़ रहा है। जिससे व्यापारी को व्यापार करना मुश्किल हो रहा है। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के जिला अध्यक्ष रजनीकांत श्रीवास्तव ने वाणिज्य विभाग जीएसटी कार्यालय पहुंच कर डिप्टी कमिश्नर वाणिज्य कर विभाग जीएसटी को अधिकारी को वित्त मंत्री को संबोधित ज्ञापन दिया।

व्यापार प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों के बिना कहीं भी ना मारा जाए छापा

अपने ज्ञापन में उन्होंने बताया कि जीएसटीआर 3बी का भार व्यापारियों पर अनावश्यक डाला गया है। जीएसटीआर 1, जीएसटीआर 2, जीएसटीआर 3 भरने आवश्यक हैं। जब तक जीएसटी में एक रिटर्न मासिक या त्रैमासिक की अनिवार्यता नहीं की जाएगी पोर्टल ठीक से काम नहीं कर सकेगा। जनपद ही नहीं वरन उत्तर प्रदेश में जीएसटी विभाग का सचल दल और एसआईबी के भ्रष्टाचार पर सख्ती से रोक नहीं लगाई जाती है। तब तक सरकार को मिलने वाले राजस्व में इजाफा नहीं होगा। उन्होंने कहा कि इ वे बिल जैसी व्यवस्था को सरकार ने लागू कर एक देश एक टैक्स एक बाजार के नारे को समाप्त करने का काम किया है। पूरे संसार में जीएसटी में टैक्स की दर एक है। परंतु भारत के अंदर जीएसटी टैक्स की 4-4 दरें है। जबकि अन्य देशों में एक दर के साथ अधिकतम 17% जीएसटी कि दर है।

जीएसटीआर 3बी का भार अनावश्यक रूप से डाला गया

अपने ज्ञापन में उन्होंने कहा कि जीएसटीआर 3बी का भार व्यापारियों पर अनावश्यक रूप से डाला गया। जिससे व्यापारियों को आसानी हो और राजस्व भी बढ़ सके जीएसटी विभाग के सचल दल और विभाग के भ्रष्टाचार को रोकने के लिए शक्ति की जाए रजनीकांत श्रीवास्तव ने कहा कि व्यापार मंडल के पदाधिकारियों को लिए बिना किसी भी प्रतिष्ठान की जांच ना की जाए। इसके साथ ही एक देश एक टैक्स एक बाजार की व्यवस्था में ई -वे बिल को समाप्त किया जाए और जीएसटी की दर 18% से अधिक ना हो। अपनी मांगों को लेकर व्यापार मंडल के जिला अध्यक्ष रजनीकांत श्रीवास्तव ने जिलाधिकारी कार्यालय के निकट स्थित झाड़ी बाबा मजार से निराला पार्क होते हुए सिविल लाइन स्थित कार्यालय पहुंचे।

ज्ञापन देने वालों में जिला संगठन मंत्री शैलेंद्र गुप्ता, नवीन तिवारी, डॉ. राजेश सिंह, मुन्ना लाल कुशवाहा, परवेज अहमद, अरविंद सिंह, रमाकांत द्विवेदी, शैलेंद्र सिंह, सुमित गुप्ता, जगदीश गुप्ता, धर्म सहाय यादव, ओमप्रकाश, दिनेश कुशवाहा, विमलेश साहू, मुकेश शुक्ला सहित सैकड़ों की संख्या में व्यापारी मौजूद था।

Ad Block is Banned