अगर है ऐसा कोई लक्षण, तो आपको हो सकता है डेंगू, भूल से भी खाई ये दवा तो...

ऐसे लक्षण होने पर तुरंत जाएं डॉक्टर के पास...

उन्नाव. डेंगू का मच्छर साफ पानी में पनपता है और यह सुबह शाम दिन में काटता है। किसी भी व्यक्ति में अकस्मात तेज सर दर्द, बुखार होना, मांस पेशियों और जोड़ों में दर्द होना, ऑखों के पीछे दर्द होना जो कि ऑखों को घुमाने से बढ़ता है, जी मिचलाना एंव उल्टी होना, गम्भीर मामलों में नाक, मुॅह, मसूड़ों से खून आना अथवा त्वचा पर चकते उभरना डेंगू के लक्षण है। ऐसा होने पर तत्काल नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें। उक्त जानकारी देते हुये मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. लालता प्रसाद ने दी। उन्होंने बताया कि आज राष्ट्रीय डेंगू दिवस को डेंगू के विरुद्ध प्रदेश सरकार के संयुक्त प्रयास से मनाया जा रहा है। इसका उद्देश्य समस्त विभागों एंव जन सामान्य से डेंगू नियन्त्रण के मुख्य उपाय मच्छर रोधी शुष्क दिवस घोषित करवाने का है। प्रत्येक रविवार मच्छर पर वार कार्यक्रम को प्रमुखता प्रदान करते हुये स्वास्थ्य विभाग, सहयोगी अन्य विभागों की सहभागिता से प्रचार-प्रसार के विभिन्न माध्यमों से कार्य सम्पन्न कराया जायेगा।

 

विभिन्न भागों के माध्यम से चलाया जा रहा है जागरूकता अभियान

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत डेंगू एलाइजा जॉच केन्द्र एस.एस. एच. लैब से संदिग्ध रोगियों की जॉच, रासायनिक वेक्टर नियन्त्रण हेतु लार्वी साइडल का छिड़काव, मच्छर प्रजनन स्थलों का निरीक्षण व अनावश्यक जल पात्रों का खाली कराया जाना तथा अन्य विभागों का अपेक्षित सहयोग प्राप्त करते हुये नियमानुसार सम्पूर्ण कार्यवाही करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति में अकस्मात, तेज सर दर्द व बुखार होना, मांस पेशियों और जोड़ों में दर्द होना, ऑखों के पीछे दर्द होना जो कि ऑखों को घुमाने से बढ़ता है, जी मिचलाना एंव उल्टी होना, गम्भीर मामलों में नाक, मुॅह, मसूड़ों से खून आना अथवा त्वचा पर चकते उभरना आदि हो सकता है।

 

लें केवल पेरासिटामोल

डेंगू रोग से बचने हेतु घर के आस-पास जमा पानी जैसे कूलर, पानी की टंकी, पक्षियों के पीने का बर्तन, फ्रिज की ट्रे, फूलदान, नारियल का खोल, टूटे हुये बर्तन व टायर, पशुओं की नाद आदि में पानी जमा न होने दिया जायें। पानी से भरे बर्तनों व टंकियों को ढक कर रखा जायें। कूलर को खाली करके सूखा दिया जायें। उन्होनें बताया कि डेंगू रोग मादा मच्छर एडीज एजिपटाई के कटाने सें होता है। यह मच्छर साफ पानी में पनपता है। जो सुबह या शाम को दिन में काटता है। इसलिये ऐसे कपड़े पहने जो बदन को पूरी तरह ढ़के रहें। डेंगू के उपचार के लिये कोई खास दवा या वैक्सीन नहीं है। बुखार उतारने के लिये केवल पैरासिटामॉल लिया जा सकता है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने चेतावनी दी कि उपरोक्त बीमारी या लक्षण होने पर एस्प्रीन या आईब्रूफेन टैबलेट का इस्तेमाल न करें। डेंगू के लक्षण होने पर तत्काल चिकित्सक से सलाह लें। डेंगू के हर रोगी को प्लेट्लेट्स की आवश्यकता नहीं पड़ती है। स्वास्थ्य सम्बन्धी असामान्य घटना होने पर टॉल फ्री नं0 - 1075 एंव दूरभाष नंबर - 0515-2840512 पर संपर्क करें।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned