उन्नाव कांड: मामले को दिल्ली ट्रांसफर कराना चाहता है पीड़ित परिवार

उन्नाव दुष्कर्म मामले में चल रही सीबीआई जांच को दुष्कर्म पीड़िता परिवार दिल्ली ट्रांसफर कराना चाहता है।

उन्नाव. उन्नाव दुष्कर्म मामले में चल रही सीबीआई जांच को दुष्कर्म पीड़िता परिवार दिल्ली ट्रांसफर कराना चाहता है। इस संबंध में दुष्कर्म पीड़िता परिवार का कहना है कि उन्नाव में उनका परिवार घर द्वार छोड़कर गेस्ट हाउस में रह रहा है। यहां वह अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा है। इस संबंध में दुष्कर्म पीड़िता परिवार कई अन्य कारणों के साथ सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कह रहा है। वहीं दूसरी तरफ केंद्रीय जांच ब्यूरो के द्वारा डॉक्टर से पूछताछ शुरू हो गई है। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक सहित अन्य डॉक्टरों से भी पूछताछ करने की चर्चाएं। गौरतलब है दुष्कर्म पीड़िता के पिता के उपचार में जिला अस्पताल में डॉक्टरों द्वारा घोर लापरवाही बरती गई थी। उपचार के दौरान ही दुष्कर्म पीड़िता के पिता को जेल भेज दिया गया था। सीबीआई की टीम डॉक्टरों से क्या पूछेगी, उनके सवाल क्या होंगे पर निलंबित डॉक्टरों के साथ अन्य डॉक्टरों की भी धड़कनें बढ़ रही है। इधर मुख्य चिकित्साधिक्षक डा. डी. के. द्विवेदी अपने निलम्बन के खिलाफ अदालत का दरवाजा खटखटाया है।

शुरू से पीड़ित परिवार मामला दिल्ली स्थानांतरित करने की मांग कर रहा है
दुष्कर्म पीड़िता के चाचा ने बताया कि वह अपना घर परिवार और व्यापार छोड़कर गेस्ट हाउस में रह रहे हैं। जिससे उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उनका कहना है कि अगर इन सभी मामलों को दिल्ली ट्रांसफर कर दिया जाए तो उनकी सुरक्षा भी हो जाएगी और उनका निजी व्यवसाय भी चलता रहेगा। इस संबंध में दुष्कर्म पीड़िता के चाचा सुप्रीम कोर्ट में अर्जी डालने की बात कह रहे हैं। दुष्कर्म पीड़िता के चाचा का कहना है कि उन्नाव में चल रहा है पाक्सो कोर्ट के मुकदमे सहित अन्य सभी मामलों को दिल्ली स्थानांतरित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाएंगे। गौरतलब है सीबीआई दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों की बारी बारी से लखनऊ की सीबीआई अदालत में कलमबंद बयान ले रही है। जिसके लिए सीबीआई लगातार उन्नाव आ रही है। इसके साथ ही डॉक्टरों से भी पूछताछ की जा रही है।

विगत सप्ताह सीबीआई पहुंच चुकी है जिला अस्पताल
विगत सप्ताह सीबीआई अस्पताल मैं अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुकी है और अभिलेखों का निरीक्षण भी किया। गौरतलब है लापरवाही बरतने के आरोप में जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ डीके द्विवेदी और डॉक्टर प्रशांत को शासन पहले ही निलंबित कर चुका है। इसके साथ ही कई और डॉक्टर सीबीआई के रडार पर हैं। जिसमें घर दुष्कर्म पीड़िता के पिता का उपचार करने वालेडॉक्टर मनोज सिंह डॉ जे पी सचान भी शामिल है। जिन्होंने पुलिस के कहने पर घायल को जिला अस्पताल से जिला कारागार रिफर किया था। इसके साथ ही दुष्कर्म पीड़िता के पिता का जिला कारागार में उपचार करनेे वाले डॉ आलोक पांडे, डॉ एस एन गुप्ता के साथ डॉक्टर गौरव व पोस्टमार्टम करने वाले 3 डॉक्टरों के पैनल भी सीबीआई की पूछताछ के दायरे में है। जिससे डॉक्टरों में खलबली मची है।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned