खतरनाक - अप्रशिक्षित चालक बिना ईएमटी के ला रहे मरीजों को इमरजेंसी वार्ड में

- अपनी मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे हैं एंबुलेंस चालक वीडियो बनाकर वायरल कर रहे हैं

By: Narendra Awasthi

Published: 29 Jul 2021, 11:05 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

उन्नाव. उमा शंकर दीक्षित संयुक्त चिकित्सालय के इमरजेंसी वार्ड में आने वाले एंबुलेंस का वीडियो हड़ताली एंबुलेंस चालकों द्वारा किया जा रहा है.जिसमें दिखाया जा रहा है कि अप्रशिक्षित चालक किस प्रकार से मरीजों को एंबुलेंस से उतार रहा है और किस तरह से अपनी सेवाएं दे रहा है इस संबंध में बातचीत करने पर नगर मजिस्ट्रेट ने कहा कि अप्रशिक्षित चालक नहीं है। यह चालक बोलेरो या स्कूल बस चलाने वाले हैं। उन्होंने कहा कि पैरामेडिकल स्टाफ न होने के कारण अकेले ही एंबुलेंस का संचालन चालक कर रहे हैं। जिससे यह दिक्कत आई है। अब सभी एंबुलेंस में एक पैरामडिकल स्टाफ रखने के निर्देश दिए गए हैं।

वायरल वीडियो परेशान करने वाला

जिला अस्पताल में धरना दे रहे एंबुलेंस चालक संचालित एंबुलेंस का वीडियो बनाकर वायरल कर रहे हैं। यह वीडियो खतरनाक है। जिनमें देखा जा सकता है कि मरीज को किस प्रकार एंबुलेंस चालक हैंडल कर रहे हैं। एक वीडियो में तो स्ट्रेचर एंबुलेंस से निकालते समय पैर तरफ का हिस्सा तो चालक सुरक्षित ले जाता है। लेकिन सर की तरफ का हिस्सा अचानक एंबुलेंस से नीचे गिर जाता है। जिससे मरीज को भी चोट लगती है। विचलित करने वाला यह वीडियो तीमारदारों को परेशान करने वाला है। इसी प्रकार के कई एक अन्य वीडियो भी हड़ताली एंबुलेंस चालकों की तरफ से वायरल किया गया है। उन्होंने बताया कि अप्रशिक्षित एंबुलेंस चालक मरीजों के जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

नगर मजिस्ट्रेट चंदन पटेल ने कहा

इस संबंध में बाधित करने पर नगर मजिस्ट्रेट चंदन पटेल ने कहा कि एंबुलेंस में रखे गए सभी चालक किया तो स्कूल बस के हैं या फिर बोलेरो चला चुके हैं. एंबुलेंस चालक के साथ पीएमटी के ना होने के कारण दिक्कतें आ रही हैं। जिसे दूर कर लिया गया है अब संचालित सभी एंबुलेंस में एक पैरामेडिकल स्टाफ या फिर पीएमटी अवश्य रहेगा. इस संबंध में सभी स्वास्थ्य केंद्रों को निर्देशित किया गया है। उन्होंने बताया कि जिले में 65 एंबुलेंस चल रही है।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned