अपनी मांगो को लेकर बैंकों में रही ताला बंदी, लेनदेन हुआ प्रभावित

यूपी बैंक इंप्लाइज यूनियन के आह्वान पर आज बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहे। जिससे व्यापारियों व अन्य उपभोक्ताओं का लेनदेन प्रभावित रहा।

By: Abhishek Gupta

Published: 22 Aug 2017, 09:56 PM IST

उन्नाव. यूपी बैंक इंप्लाइज यूनियन के आह्वान पर आज बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहे। जिससे व्यापारियों व अन्य उपभोक्ताओं का लेनदेन प्रभावित रहा। बैंकों में ताला बंदी के कारण व्यापारियों के साथ अन्य लोगों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। विभाग के कार्य के साथ बैंकिंग सेवाएं भी प्रभावित रही। बैंकों के निजीकरण और एक-दूसरे में हो रहे बैंकों के विलय के विरोध में हड़ताल की जा रही है। एक दिवसीय हड़ताल पर स्थानीय पंजाब नेशनल बैंक की मुख्य शाखा में बैंक कर्मचारियों  ने बैठक कर हड़ताल के पक्ष में अपने विचार व्यक्त किए।

वक्ताओं ने कहा कि सरकार निजी करण कर के कर्मचारियों के हितों को अनदेखा कर रही है। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के बैनर तले आयोजित प्रदर्शन में विभिन्न बैंकों के कर्मचारी व अधिकारी मौजूद थे। हड़ताल के कारण सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, Punjab National Bank सहित अन्य तमाम बैंकों के ताले नहीं खुले। बैंकों में लेन देन प्रभावित होने के साथ एनी टाइम मनी वाली मशीन ने भी जवाब दे दिया। जिससे जरूरतमंदों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

पंजाब नेशनल बैंक की मुख्य शाखा के सामने दिया धरना

सेन्ट्रल बैंक ऑफ इण्डिया में आयी वृद्ध महिला ने बताया कि यहां पर किसी प्रकार की सूचना नहीं लिखी गयी है कि बैंक कल खुलेगा कि नहीं। यही स्थिति अन्य बैंक शाखाओं की थी। बैंक ऑफ बड़ौदा, इलाहाबाद बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इण्डिया, पंजाब नेशनल बैंक सहित अन्य बैंक की शाखाओं में भी ताला बंदी रही। बैंक यूनियन के नेताओं का कहना था कि सरकार बैंकों के निजी करण के लिये प्रयासरत है। इसके साथ ही बैंकों का आपस में मर्ज कर रही है। जिसका बैंक यूनियन विरोध करती है। उन्होंने कहा कि नवम्बर 2011 से बैंक कर्मियों का वेतन संशोधित नहीं हुआ है। कई बार इस विषय में वार्ता हुयी। परंतु सरकारे ध्यान नहीं दे रही है।

बैंकों में हड़ताल के कारण वित्तीय लेन देने पूरी तरह प्रभावित रहा। एटीएम भी शोपीस बन कर रह गयी। आवास विकास स्थित एटीएम सहित शहर के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित एटीएम भी बंद पड़ी दिखाई पड़ी। जिससे उपभोक्ताओं का काम पूरी तरह ठप हो गया। बैंक में ताला बंदी से उपभोक्ताओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। दूर दराज से आये बैंक उपभोक्ताओं को बिना रूपये के ही वापस लौटना पड़ा। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में आई एक वृद्ध महिला को भी वापस लौटना पड़ा। जो बिना लेन देन के ही वापस हो गई।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned