scriptयूपी की एक ऐसी वीआईपी सीएचसी, ग्रामीणों का दावा सिर्फ उपस्थिति पंजिका में मिलते डॉक्टर साहब | Patrika News
यूपी न्यूज

यूपी की एक ऐसी वीआईपी सीएचसी, ग्रामीणों का दावा सिर्फ उपस्थिति पंजिका में मिलते डॉक्टर साहब

योगीराज में भी स्वास्थ्य सेवाएं सुधारने का नाम नहीं ले रही। एक ऐसी वीआईपी सीएचसी जहां के ग्रामीणों का दावा है कि यहां पर एक स्त्री रोग विशेषज्ञ की तैनाती की गई है। लेकिन वह कभी आते नहीं। सिर्फ कागजों में उपस्थित रहते हैं।

गोंडाJul 05, 2024 / 05:37 pm

Mahendra Tiwari

Gonda news hindi

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनकापुर

गोंडा जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य मनकापुर अपने उद्देश्य बेपटरी हो चला है। यहां से उधारी के कर्मचारी बांटे गए जो वापस लौट के ही नहीं आए। तैनात चिकित्सकों के नाम पर कागजी घोड़े दौड़ाए जा रहे हैं। मैन्युअल रजिस्टर में डॉक्टर साहब वाई फाई सिग्नेचर बना जाते हैं। सूत्रों की मानें तो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनकापुर में मरीजों की संख्या को देखते हुए विभाग के द्वारा एक स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर वीरेंद्र कुमार की नियुक्ति की गई थी। लेकिन आसपास के लोगों की बात पर भरोसा करें तो नियुक्ति के महीनों बाद भी डॉक्टर का अस्पताल में दर्शन नहीं हुआ है। लगभग डेढ़ माह बाद डॉक्टर साहब एक ऑपरेशन करने के लिए आए थे। ऑपरेशन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद डॉक्टर साहब फिर गायब हो गए। वही सूत्र बताते हैं कि उपस्थिति पंजिका में चिकित्सक का प्रतिदिन हस्ताक्षर बन जाता है। एक ही रजिस्टर में चिकित्सकों का हस्ताक्षर बनाया जाता है। जिसमें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉ एसएन सिंह भी अपना हस्ताक्षर बनाते हैं। ऐसे में प्रश्न यह उठता है कि जब स्त्री रोग विशेषज्ञ अस्पताल में आते ही नहीं है। तब उनके दस्तखत को कौन कर जाता है? ऐसे में स्वास्थ्य केंद्र अधीक्षक के मिली भगत की बू आ रही है।

स्टाफ नर्स के आने जाने का कोई समय नहीं

स्वास्थ्य केंद्र में अक्सर देखने को मिलता है कि दोपहर बाद ड्यूटी पर अन्य कर्मचारियों के साथ में स्टाफ नर्स की भी ड्यूटी लगाई जाती है। लेकिन ओपीडी सेवा समाप्ति के बाद कभी कभी ही स्टाफ नर्स ड्यूटी पर रहती है। ऐसा प्रतीत होता है कि इच्छानुसार आना जाना होता है। बता दे की कोरोना काल के दौरान मनकापुर सीएचसी से एक फार्मासिस्ट को जिले पर संबद्ध किया गया था। तब से फार्मासिस्ट की मनकापुर में वापसी नहीं हो सकी। वहीं इसके अतिरिक्त कुछ और अन्य भी कर्मचारी जिला मुख्यालय पर संबद्ध किए गए थे। लेकिन उनकी अपनी तैनाती स्थल पर वापसी नहीं हो पाई है।

एसीएमओ बोले- अभी तक ऐसी शिकायत नहीं मिली

वहीं इस मामले में एसीएमओ ने दूरभाष पर बताया कि मनकापुर सीएचसी में महिला चिकित्सक डॉ वीरेंद्र कुमार की तैनाती है। उनके अस्पताल न आने की अभी तक शिकायत नहीं मिली थी। लेकिन यदि ऐसा है तो जांच की जाएगी।

Hindi News/ UP News / यूपी की एक ऐसी वीआईपी सीएचसी, ग्रामीणों का दावा सिर्फ उपस्थिति पंजिका में मिलते डॉक्टर साहब

ट्रेंडिंग वीडियो