scriptबाढ़ से निपटने को तैयार योगी सरकार, बनाया मास्टर प्लान, 29 अति संवेदनशील जिलों पर पैनी नजर | Yogi govt gears up to tackle flood situation in 29 high-risk districts | Patrika News
यूपी न्यूज

बाढ़ से निपटने को तैयार योगी सरकार, बनाया मास्टर प्लान, 29 अति संवेदनशील जिलों पर पैनी नजर

प्रदेश में 20 से 25 जून के बीच मानसून के आगमन की संभावना है। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले ही बाढ़ से निपटने के लिए अधिकारियों को तैयारी करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही मुख्यमंत्री 29 अति संवेदनशील जिलों पर खुद नजर रख रहे हैं।

लखनऊJun 17, 2024 / 02:10 pm

Ritesh Singh

yogi government

yogi government

भीषण गर्मी और लू से परेशान प्रदेशवासियों के लिए राहत भरी खबर सामने आयी है। मौसम विभाग के वैज्ञानिकों के अनुसार प्रदेश में 20 से 25 जून के बीच मानसून आने की संभावना है। ऐसे में योगी सरकार मानसून को लेकर अलर्ट हो गयी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्च स्तरीय बैठक कर मानसून की सक्रियता के बाद बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए अधिकारियों को खाका तैयार करने का आदेश दिया था ताकि प्रदेशवासियों और उनके मवेशियों को समय रहते सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा सके।

एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पीएसी की कराई जा चुकी है प्रीपोजीशनिंग

राहत आयुक्त जीएस नवीन ने बताया कि मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप बाढ़ की स्थिति से निपटने की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। उन्होंने बताया कि बाढ़ से निपटने के लिए प्रदेश को तीन भागों में बांटा गया है। इसमें अति संवेदनशील श्रेणी में 29, संवेदनशील श्रेणी में 11 और सामान्य श्रेणी में 35 जनपद शामिल हैं। इन जिलों में विशेष निगरानी के लिए टीमों का गठन कर अलर्ट कर दिया गया है, जिसमें सिंचाई विभाग, कृषि विभाग और पशुपालन विभाग के अधिकारी के साथ कर्मचारी शामिल हैं। इसके अलावा एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, पीएसी और मौसम विभाग भी अलर्ट मोड पर है।
यह भी पढ़ें

Railway Vacancy 2024: उत्तर पूर्व रेलवे में निकली बंपर भर्ती, तुरंत करें आवेदन, जानें रिक्त पदों की संख्या

राहत आयुक्त ने बताया कि बाढ़ से निपटने के लिए एनडीआरएफ की 7 टीमें, एसडीआरएफ की 18 टीमें और पीएसी की 17 टीमों की प्रीपोजीशनिंग की जा चुकी है। इसके साथ ही राहत आयुक्त कार्यालय द्वारा बाढ़ की अवधि में मौसम विभाग, सिंचाई विभाग, कृषि विभाग और केंद्रीय जल आयोग से रिपोर्ट प्राप्त कर दैनिक समीक्षा का रोस्टर तैयार कर लिया गया है ताकि बाढ़ प्रबंधन के संबंध में आवश्यक कार्यवाही की जा सके।  

बाढ़ से निपटने को आपदा मित्रों और वालंटियर्स को दी गयी ट्रेनिंग

बाढ़ से निपटने के लिए राज्य स्तरीय इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर को भी एक्टिव कर दिया गया है, जहां चौबीसों घंटे राहत हेल्पलाइन 1070 के लिए 20 सीटर कॉल सेंटर संचालित कर दिया गया है। इमरजेंसी सेंटर के माध्यम से प्रदेश के बाढ़ प्रभावित जिलों में फील्ड में तैनात अधिकारियों को एसएमएस और वॉयस कॉल के माध्यम से वास्तविक स्थिति से अपडेट किया जाएगा ताकि समय रहते स्थिति से निपटा जा सके।
यह भी पढ़ें

Bakrid 2024: ईद-उल-जुहा पर डुम्बा बकरा बना सेलिब्रिटी, कीमत 3.2 लाख रुपये 

इतना ही नहीं सभी जिलों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा समेत 24 घंटे डिस्ट्रिक्ट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर स्थापित कर दिये गये हैं। साथ ही इन्हे राज्य स्तरीय राहत कंट्रोल रूम से जोड़ दिया गया है। वहीं बाढ़ की तैयारी के लिए सभी जनपदों को बाढ़ पूर्व तैयारी चेक लिस्ट भेजी जा चुकी है। योगी सरकार ने प्रदेश में बाढ़ समेत अन्य आपदा से निपटने के लिए 400 आपदा मित्रों की तैनाती की है। इन्हे 15 दिन की ट्रेनिंग के साथ यूनीफार्म, आईडी कार्ड, सर्टिफिकेट तथा इमरजेंसी रिस्पांडर किट उपलब्ध करायी गयी है। इसके अलावा 10500 वालंटियर्स को प्रशिक्षण दिया गया है।

Hindi News/ UP News / बाढ़ से निपटने को तैयार योगी सरकार, बनाया मास्टर प्लान, 29 अति संवेदनशील जिलों पर पैनी नजर

ट्रेंडिंग वीडियो