scriptBJP will connect 37 castes of OBC through 17 conferences | 17 सम्मेलनों से ओबीसी की 37 जातियों को जोड़ेगी भाजपा | Patrika News

17 सम्मेलनों से ओबीसी की 37 जातियों को जोड़ेगी भाजपा

उप्र विधानसभा चुनाव 2022 को जीतने के लिए भाजपा पिछड़ी और अति पिछड़ी के अलावा दलित जातियों पर फोकस कर रही है। इसीलिए वे 17 अक्टूबर से लगातार 17 जातीय सम्मेलन आयोजित करेगी। इस तरह कुल 37 जातियों के मुखिया को भाजपा से जोड़ा जाएगा।

लखनऊ

Published: October 16, 2021 03:33:15 pm

लखनऊ.(पत्रिका न्यूज नेटवर्क).भारतीय जनता पार्टी ने विधानसभा चुनाव २०२२ के लिए अपना फोकस पिछड़ों और अति पिछड़ों पर करना शुरू कर दिया है। भाजपा जानती है कि जातीय गणित साधने से सारे काम हो जाएंगे। पार्टी ने पिछड़े वोट बैंक के साहरे ही पिछली बार 2017 बहुमत से ज्यादा सीटें प्राप्त की थी। अब एक बार फिर से 17 अक्टूबर से पार्टी की ओर से जातीय सम्मेलनों की शुरूआत होने जा रही है।
bjp-supporters.jpeg
bjp strategy
भाजपा ने अभी फिलहाल 17 सम्मेलन करने का निर्णय लिया है। इन सम्मेलनों का खाका तैयार हो चुका है। यह प्रदेश स्तरीय सम्मेलन इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान, गन्ना संस्थान, पंचायती राज संस्थान के सभागार में होंगे। जिस जाति का सम्मेलन होगा, उसके एक से लेकर दो हजार तक लोगों की उपस्थिति का लक्ष्य रखा गया है। इनमें से 17 अक्टूबर को पंचायत भवन में प्रजापति यानि कुम्हार समाज का होगा। 18 को कुर्मी, पटेल, गंवार समाज का, ऐसे ही दर्जी, पाल बघेल, मौर्या, कुशवाहा, केवट कश्यप, रठौर, तेली, नाई, सैनी, सविता, लुनिया, भुर्जी, चैरसिया, विश्वकर्मा, लोधी, यादव समेत करीब 37 जातियों के सम्मेलन होंने जा रहे हैं। इनका नाम सामाजिक सम्मेलन दिया गया है। यह फिलहाल अभी 31 अक्टूबर तक आयोजित होंगे। इसके बाद यह हर एक विधानसभा में भी यह आयोजित होंगे। करीब 200 सम्मेलन आयोजित कराने की पार्टी ने पूरी रणनीति तैयार की है।
जातियों के मुखिया को जोडऩे की नीति
यूपी के विधानसभा चुनाव में अपनी जीत दोहराने के लिए भाजपा के रणनीतिकारों ने यह योजना बनाई है। सम्मेलनों के जरिए पार्टी की योजना पिछड़ी और अति पिछड़ी जाति के बुद्धिजीवी लोगों को जोडऩे की है। ताकि इनके जरिए उनके गांव-गली, इलाके के लोगों का साथ मिल सके। इन जातीय सम्मेलन में सामाजिक और जातीय संगठनों के मुखिया सहित संबंधित जाति के प्रभावशाली चेहरों को मंच में जगह दी जाएगी। साथ ही पार्टी के बड़े नेताओं को भी इसमें बुलाया जाएगा।
लाभार्थी वोटबैंक का हर हाल में चाहिए साथ
350 से अधिक सीटों का लक्ष्य बनाकर मैदान में उतरने जा रही भाजपा हर वर्ग और क्षेत्र से वोट जुटाना चाहती है। दलित और पिछड़ा वर्ग पर खास नजर है। चूंकि, सरकार की विभिन्न योजनाओं के लाभार्थी इन्हीं वर्गों से ज्यादा हैं, इसलिए पार्टी लाभार्थी वोटबैंक के रूप में इन्हें अपने साथ मजबूती से जोड़े रखना चाहती है, ताकि जाति आधारित छोटे दलों का कोई सियासी दांव राह में रोड़ा न बन सके। इस कारण यह सब निर्णय लिए जा रहे हैं।
पिछड़ा वर्ग की जातियों से शुरुआत
भाजपा प्रदेश के उपाध्यक्ष और ओबीसी मोर्चा के प्रभारी दयाशंकर सिंह ने बताया कि अभी फिलहाल पिछड़ा वर्ग की जातियों के सम्मेलन की शुरूआत राजधानी से हो रही है। आगे चलकर यह हर जिलों में आयोजित किए जाने हैं। भाजपा ने पिछड़ा वर्ग के लिए बहुत कुछ किया है। यह वर्ग हमेशा से भाजपा के साथ रहा है। उन्होंने कहा कि चाहे पिछड़ा वर्ग का कोटा बढ़ाना या फिर आयोग बनाना हो। सब बातों में देखें तो आजादी के बाद से वंचित पिछड़े समाज के लिए भाजपा केन्द्र और राज्य सरकारों ने बहुत काम किया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीAstro Tips : इन राशि वालों के रिश्ते ज्यादा कामयाब नहीं हो पाते, जानें ज्योतिष की नजर में क्या है इसका कारण?Sharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

दिल्ली में हटा वीकेंड कर्फ्यू, बाजारों से ऑड-ईवन भी हुआ खत्म, जानिए और किन प्रतिबंधों में दी गई छूटराहुल गांधी ने फॉलोवर्स सीमित होने पर Twitter पर लगाया सरकार के दबाव में काम करने का आरोप, जानिए क्या मिला जवाबकेरल और कर्नाटक में 50 हजार तक सामने आ रहे नए केस, जानिए अन्य राज्यों का हालटाटा ग्रुप का हो जाएगा अब एयर इंडिया, कर्मचारियों को क्या होगा फायदा और नुकसान?झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदला8 साल की बच्ची से रेप के आरोप में मस्जिद के इमाम गिरफ्तार, पढ़ने के लिए मस्जिद जाती थी लड़कीUttarakhand Assembly Elections 2022: हरीश रावत की सीट बदली, देखिए Congress की नई लिस्टCG की बेटी अंकिता ने किया लद्दाख की 6080 मीटर सबसे ऊंची बर्फीली चोटी फतह, माइनस 39 डिग्री टेम्प्रेचर में भी हौसला रहा बुलंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.