बीएसएनएल के उपभोक्ता क्यूं है नाराज, जानिए

know why bsnl customers are angry at bhilwara भारतीय दूरसंचार निगम में अधिकारियों व कर्मचारियों की बड़ी संख्या में स्वैच्छिक सेवा निवृृत्ति एवं महाप्रबंधक दूरसंचार विभाग के घटे कद ने जिले में दूरसंचार सेवा की ताल बिगाड़ दी है। इससे बीएसएनएल उपभोक्ताओं की परेशानी भी बढऩे लगी है।

By: Narendra Kumar Verma

Updated: 13 Sep 2021, 07:41 AM IST

भीलवाड़ा। भारतीय दूरसंचार निगम में अधिकारियों व कर्मचारियों की बड़ी संख्या में स्वैच्छिक सेवा निवृृत्ति एवं महाप्रबंधक दूरसंचार विभाग के घटे कद ने जिले में दूरसंचार सेवा की ताल बिगाड़ दी है। नेटवर्क की समस्या सुलझने के बजाए लगातार बढऩे लगी है। इससे बीएसएनएल उपभोक्ताओं की परेशानी भी बढऩे लगी है। वहीं दूरसंचार निगम का दावा है कि दूरसंचार सेवाओं में नफरी का संकट होने के बावजूद सुधार हुआ है। know why bsnl customers are angry at bhilwara

भारतीय दूर संचार निगम में हुए बड़े फैसले से कोरोना संकट से महज दो माह पहले यानि ३१ जनवरी २०२० को जिले में अधिकारी व कर्मचारी समेत कुल ११८ कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति ले ली। इससे महाप्रबंधक दूरसंचार निगम के कर्मियों की नफरी एक साथ साठ फीसदी कम हो गई। इसके बाद यहां नेहरू रोड स्थित महाप्रबंधक दूरसंचार निगम कार्यालय का कद भी केन्द्रीय संचार निगम ने और छोड़ा कर दिया।

यह विभाग अब उप महानिदेशक ऑपरेशन हो गया है। लेकिन गत दिनों तबादले के बाद से उपमहाप्रबंधक का पद भी रिक्त है। इससे विभागीय समस्याओं के साथ ही उपभोक्ताओं की दिक्कतें बढ़ गई है।

जिले की दूरसंचार सेवा अब महाप्रबंधक दूरसंचार निगम अजमेर के अधीन है।

दूरसंचार निगम ने स्थाई स्टाफ की संख्या कम होने के बाद निजी कंपनियों को लाइनों के रखरखाव की जिम्मेदारी सौंप दी, लेकिन संविदा कर्मियों की कार्य क्षमता उपभोक्ताओं को नजर नहीं आ सकी है। लैंडलाइन टेलीफोन कनेक्शन की लाइनें तो आए दिन टूट रही है। सीवरेज व जलदाय विभाग तथा अन्य कंपनियों की तरफ से सड़क की खुदाई के दौरान निगम की क्षतिग्रस्त हुई लाइनों को भी ठीक होने में कई दिन लग रहे है।

देश की निजी मोबाइल कपंनियां एक तरफ फाइव जी के लिए प्रयासरत थी, वही दूरसंचार निगम में नफरी की कमी से थ्रीजी सेवा के लिए भी संकट की स्थित उभर आई। लैंडलाइन टेलीफोन कनेक्शन लगातार घटते जा रहे है। लैंडलाइन कनेक्शन २५ हजार से घटकर पांच हजार रह गए है। जबकि मोबाइल कनेक्शन का भी बीएसएनएल का ग्राफ बढ़ नहीं पा रहा है। ब्रॉडबैंड सेवा को लेकर भी शिकायतें कम नहीं हो रही हंै।

वैभवनगर निवासी मंयक अग्रवाल की पीड़ा है कि बीएसएनएल ब्रॉडबैंड की सेवाएं डांवाडोल है। मासिक बिल लेने के पश्चात भी बीएसएनएल की सेवाएं बार-बार बंद हो जाती हैं। अनेक बार बीएसएनल ब्रॉडबैंड विभाग में शिकायत दर्ज की जा चुकी है। इसके पश्चात भी अभी तक कोई सुधार नहीं किया गया है। इस संदर्भ में अधिकारियों का कहना है कि क्षेत्र में भूमिगत केबल क्षतिग्रस्त होने से यह समस्या आ रही है।

एजेंसी संभालें है व्यवस्था
दूरसंचार निगम की सेवा प्रभावित नहीं हो इसके हर संभाव प्रयास होते है, भीलवाड़ा जिले में दूरसंचार लाइनों के रखरखाव की जिम्मेदारी अनुबंधित एजेंसी संभाले हुए है। know why bsnl customers are angry at bhilwara
- आरके मालपानी, महाप्रबंधक,
भारतीय दूरसंचार निगम, अजमेर

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned