10वीं के छात्र ने 250 रूपये की लागत से बनाया टचलेस ऑटोमेटिक सेनेटाइजर मशीन

प्रधानमंत्री मोदी से प्रभावित होकर वाराणसी में 10वीं में पढ़ने वाले एक छात्र ने घर के कबाड़ और महज 250 रुपये की लागत से 'टचलेस ऑटोमेटिक सेनेटाइजर मशीन' बनाया है

By: Karishma Lalwani

Published: 29 May 2020, 12:20 PM IST

वाराणसी. कोरोना (Covid-19) से बचाव के लिए दुनियाभर में तमाम ऐसे संसाधन इजात किये जा रहे हैं जिससे इसकी चक्र को रोका का सके। सरकार द्वारा सुझाए गए सभी उपायों का भी लोग पूरी तरह से पालन कर रहे हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी (PM Narendra Modi) से प्रभावित होकर वाराणसी में 10वीं में पढ़ने वाले एक छात्र ने घर के कबाड़ और महज 250 रुपये की लागत से 'टचलेस ऑटोमेटिक सेनेटाइजर मशीन' बनाया है जो बिना टच किये ही अपना काम बहुत ही अच्छे तरीके से कर सकेगी।

कोरोना काल में सेनेटाइजेशन सबसे अहम काम हो गया है। बाजार में ऑटोमेटिक सेनेटाइजेशन मशीनें भी आ गईं। वहीं, अब 10वीं में पढ़ने वाले वाराणसी के विवेक ने घर के कबाड़ और महज 250 रुपये की लागत से 'टचलेस ऑटोमेटिक सेनेटाइजर मशीन' बनाई है। विवेक ने बताया की इस मशीन के आगे हाथ ले जाने पर ऑटोमेटिक सेनेजाइजेशन शुरू हो जाएगा। यह टचलेस प्रक्रिया है इसमें बिना टच किए ही सेनेटाइज कर दिया जाता है।

10वीं के छात्र ने 250 रूपये की लागत से बनाया टचलेस ऑटोमेटिक सेनेटाइजर मशीन

पीएम मोदी से मिली प्रेरणा

विवेक ने बताया कि टचलेस सेनेटाइजर मशीन की प्रेरणा उन्हें पीएम मोदी के उस कथन से मिली जिसमें उन्होंने कहा था कि किसी भी चीज को छूने से बचें। जिसके बाद घर के कुछ कबाड़ और कुछ बाजार से चीजों को खरीदकर मैनें टचलेस सेनेटाइजर मशीन बनाई है। विवेक की इच्छा है की इस मशीन को पीएम मोदी या यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ लांच करें।

ये भी पढ़ें: कुम्हारों को राहत, कोरोना काल में बढ़ी मिट्टी के घड़ों की मांग, लोग फ्रिज के पानी से बना रहे दूरी

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned