इन प्रोफेसर साहब ने तो पार्क में ही जला दिया कूड़ा

बीएचयू के हैं सेवानिवृत्त शिक्षक, शुक्रवार की शाम घर का कूड़ा पार्क में जला दिया। दूर-दूर तक के लोग परेशान।

By: Ajay Chaturvedi

Published: 10 Nov 2017, 10:06 PM IST

वाराणसी. एक तरफ समूचा उत्तर भारत वायु प्रदूषण से कराह रहा है। दिल्ली से लेकर बनारस तक की आबोहवा जहरीली हो गई है। सांस लेना दूभर हो रहा है। सर्वोच्च न्यायालय ने किसानों को खेत में पराली (धान कटाई के बाद बची खूंटी व पत्ते) जलाने पर रोक लगा दी है। कूड़ा जलाने पर पहले से ही प्रतिबंध है। लेकिन अशिक्षित व कम पढ़े लिखे किसान और नगर निगम के कर्मचारियों को कौन कहे काशी में तो प्रोफेसर साहब ही जला दे रहे हैं सार्वजनिक स्थल पर घर का कूड़ा। सार्वजनिक स्थल क्या पार्क में जहां लोग सुबह शाम टहलने जाते हैं ताकि ताजी हवा मिले।

महमनापुर कालोनी पार्क में जलता कूड़ा

काशी में पिछले चार दिनों से भगवाव भास्कर की तेजी नजर नहीं आ रही है। आसमान पर साफ धुंध है। यह दीगर है कि जिला व नगर निगम प्रशासन की ओर से इस दिशा में कोई पहल अब तक नहीं की गई है। लोग खुदी सड़कों के उड़ती धूल को वायु प्रदूषण का जिम्मदार मान रहे हैं। नगर निगम के सफाई कर्मचारियों पर अपना गुस्सा उतार रहे हैं कि वो जहां-तहां कूड़ा जला दे रहे हैं। लेकिन हकीकत यह कि पढ़े लिखे ही नहीं काशी हिंदू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर साहब जो अब सेवानिवृत्त हो गए हैं, जब वही घर का कूड़ा पार्क में जला दे रहे हैं तो औरों की क्या कहा जाए। उन्होंने जहां कूड़ा जलाया है वहां के नागरिकों का कहना है कि एक शिक्षक वह भी एशिया के सबसे बड़े विश्वविद्यालय का शिक्षक ऐसी हरकत करे तो उनके शिष्य क्या करेंगे।

महमनापुर कालोनी पार्क में जलता कूड़ा

यह वारदात है शुक्रवार शाम की, घटना स्थल है लंका-नरिया मार्ग पर स्थित महामना पुरी कालोनी का। इस कालोनी में ज्यादातर बीएचयू के प्रोफेसर व प्रशासनिक अधिकारी ही रहते हैं। वहां शाम तक सब कुछ ठीक था। लोगों के बीच धुंध की चर्चा तो थी पर अपने बीच का ही कोई प्रोफेसर पार्क में कूड़ा जला देगा यह किसी को अंदाजा भी नहीं था। कूड़ा जलते ही पूरी कालोनी में धुआं-धुआं हो गया। इतना ही नहीं इस धुएं को कालोनी के बाहर लंका-नरिया मार्ग से भी देखा जा सकता है। इस मार्ग पर आने-जाने वाले राहगीरों को इस धुएं से परेशानी होने लगी। लेकिन प्रोफेसर साहब कूड़ा जला कर अपने घर में कैद हो गए। हालांकि प्रोफेसर साहेब के इस कृत्य को मोहल्ले के ही कुछ लोगों ने अपनी फेसबुक वॉल पर पोस्ट भी कर दिया है।

महमनापुर कालोनी पार्क में जलता कूड़ा
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned