JNU बवाल के विरोध में बनारस से आप ने राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन, केंद्रीय गृहमंत्री से मांगा इस्तीफा

-JNU में महिला प्रोफेसर की पिटाई का किया विरोध

By: Ajay Chaturvedi

Published: 06 Jan 2020, 06:47 PM IST

वाराणसी. JNU बवाल के विरोध में बनारस में सोमवार को दिन भर विरोध प्रदर्शन होता रहा। यूं तो विरोध प्रदर्शऩ करने वालों में छात्र ही प्रमुख रहे, लेकिन आम आदमी पार्टी ने सबसे अलग हट कर जेएनयू में महिला प्रोफेसर की पिटाई पर कड़ा विरोध जताया। पार्टी नेताओं का प्रतिनिधिमंडल जिला मुख्यालय पहुंचा राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन डीएम प्रतिनिधि को सौंपा।

आम आदमी पार्टी नेताओं ने कहा कि देश की राजधानी दिल्ली में जेएनयू कैंपस में घुस कर सैकड़ों की तादाद में नकाबपोश असामाजिक तत्वों ने छात्रों को लाठी-डंडे से पीटा। यहां तक कि एक महिला प्रोफेसर का सिर फोड़ दिया। कई छात्र अस्पतालों में जीवन व मौत के बीच संघर्ष कर रहे हैं। यह पहली घटना है जिसमें पुलिस बल कैंपस के भीतर लोगों को सुरक्षा नहीं दे पाई। इसकी भनक गृहमंत्री तक को नहीं लगी। पार्टी नेताओे ने इसकी निंदा की।

कहा कि देश में छात्र ही नहीं बल्कि हर भारतवासी अपने को असुरक्षित महसूस कर रहा है। वहीं गृहमंत्री कानून व्यवस्था कायम करने में पूरी तरह से अक्षम हैं। नेताओं ने गृहमंत्री से इस्तीफे की मांग भी की ताकि जेएनयू सहित देश में अन्यत्र इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो।

प्रतिनिधिमंडल में जिलाध्यक्ष कैलाश पटेल, विनोद जायसवाल, रेखा जायसवाल, घनश्याम पांडेय, कन्हैया मित्रा, एसएस राठौर, रमेश पटेल, अनीष गुप्ता, जय प्रकाश यादव, रोशन, महसिना परवीन, रोहित मौर्या, सौसभ यादव, अनिल जायसवाल, राहुल द्विवेदी,मो आकिब, सरोज शर्मा आदि शामिल थे।

Amit Shah
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned