scriptAjan Vs Hanuman Chalisa Controversy Sankat Mochan Mandir Mahant Vishwambharnath said politics on Hanuman Chalisa unfair | अजान बनाम हनुमान चालीसा पाठः संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो विश्वंभर नाथ बोले हनुमान चालीसा का राजनीतिकरण सही नहीं | Patrika News

अजान बनाम हनुमान चालीसा पाठः संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो विश्वंभर नाथ बोले हनुमान चालीसा का राजनीतिकरण सही नहीं

अजान बनाम हनुमान चालीसा पाठ विवाद अब कर्नाटक, महाराष्ट्र होते यूपी के धार्मिक-सांस्कृतिक नगरी काशी पहुंच गया है। काशी विश्वनाथ- ज्ञानवापी मुक्ति आंदोलन से जुड़े सुधीर सिंह ने अपने निवास पर ही लाउडस्पीकर लगा दिया है। उनका कहना है कि सुबह-शाम अजान के वक्त हनुमान चालीसा का पांच बार पाठ किया जाएगा। उन्होंने ऐसा शुरू भी कर दिया है। तो जानते हैं कि इस मसले पर संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो विश्वंभर नाथ मिश्र ने क्या कहा...

वाराणसी

Updated: April 16, 2022 11:27:32 am

वाराणसी. धर्म व संस्कृति की राजधानी काशी में इन दिनो अजान बनाम हनुमान चालीसा पाठ को लेकर बड़ा विवाद खड़ा हो गया है। काशी विश्वनाथ- ज्ञानवापी मुक्ति आंदोलन से जुड़े सुधीर सिंह ने अपने निवास पर ही लाउडस्पीकर लगा दिया है। उनका कहना है कि सुबह-शाम अजान के वक्त पांच बार हनुमान चालीसा का पाठ किया जाएगा। उन्होंने ऐसा शुरू भी कर दिया है। इस मसले पर विश्व प्रसिद्ध संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो विश्वंभर नाथ मिश्र का कहना है कि हनुमान जी को राजनीति से अलग रखना चाहिए। उन्होंने बताया कि गोस्वामी तुलसी दास ने हनुमान चालीसा मुगल काल में लिखा तब तो किसी को कोई आपत्ति नहीं हुई। फिर हनुमान चालीसा पाठ का अपना महत्व व विधान है।
संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो विश्वंभर नाथ मिश्र
संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो विश्वंभर नाथ मिश्र
विवाद समझ से परे, शंकराचार्य से बात करनी चाहिेए

प्रो मिश्र ने कहा कि काशी में सारे धर्मों के साथ लेकर चलने वाले हैं। सबके बीच अच्छा सामंजस्य है। ऐसे में अजान बनाम हनुमान चालीसा का कोई मतलब नहीं। हर धर्म का अपना नियम है विधान है। अगर किसी को किसी तरह की दिक्कत है तो शंकराचार्य हैं उनसे बात कर सकते हैं। कोर्ट है, वहां जा सकते हैं अपनी फरियाद ले कर। इस मसले पर विवाद सही नहीं। ये देश संविधान से चलता है। सभी को अपने धर्म के पालन की छूट है। ऐेसे में ये विवाद समझ से परे है।
हनुमान चालीसा को लेकर कोई विवाद नहीं

संकट मोचन मंदिर के महंत ने कहा कि, किसी के विवाद पैदा करने से कुछ होने वाला भी नहीं। हनुमान चालीसा का पाठ करने के नियम व सिद्धांत है। हनुमान चालीसा में ही साफ लिखा है, "जो शत बार पाठ कर कोई...।" जो नियमित तौर पर धार्मिक कृत्य नही कर सकता तो उसके लिए कहा गया है कि वो हनुमान चालीसा का पाठ करें। वो भी हनुमान विग्रह के सम्मुख खड़े हो कर। विग्रह नही भी मिलता तो हनुमान जी का ध्यान कर पाठ करें। उन्होंने कहा कि हनुमान चालीसा का पाठ करें तो सात बार, 100 बार करें। ये पांच बार ही क्यों? ऐसा कोई नियम नहीं है। नियमानुसार पाठ करने से बड़ा संबल मिलता है। गोस्वामी जी ने इसे कुछ खास उद्देश्य से लिखा था। इसके नियमित पाठ से सिद्धि मिलती है, कल्याण होता है। लेकिन उसका भी नियम है उसी के अनुसार पाठ करें। इसे नाहक किसी राजनीतिक विवाद का एजेंडा नहीं बनाया जाना चाहिए।
ये आंधी-तूफान जैसे आया है वैसे ही चला जाएगा

उन्होंने कहा कि काशी स्प्रिचुअल स्पेश है। यहां अजान बनाम हनुमान चालीसा का कोई मतलब नहीं। अब यहां ये विवाद क्यों किया जा रहा, कौन कर रहा है ये नहीं जानता पर ये बता सकता हूं कि इस देश में हर किसी को अपने धर्म के अनुसार पूजा-पाठ, करने की छूट है। इस देश में हर धर्म के लोग आपसी समन्वय से रहते है। अपने-अपने धर्म के अनुसार धार्मिक कृत्य करते है। इस पर विवाद नहीं हो सकता। ये आंधी-तूफान जैसे आया है वैसे ही चला जाएगा। वैसे भगवान भी देख रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: RCB ने राजस्थान को जीत के लिए दिया 158 रनों का लक्ष्यपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.