पूर्वांचल दौरे पर अखिलेश यादव, चुनाव तैयारियों को देंगे धार, जौनपुर में बोले किसी काम की नहीं सरकार

  • कृष्णा यादव हिरासत में मौत पर उठाये सवाल, परिजनों से मिलकर बंधाया ढाढ़स
  • वाराणसी और जौनपुर के अलावा मिर्जापुर में पार्टी के तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में होंगे शामिल

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी/जौनपुर. समाजवादी पार्टी के मुखिया अपने तीन दिन के पूर्वांचल दौरे पर वाराणसी पहुंच गए। तीन दिनों में वो वाराणसी, जौनपुर और मिर्जापुर में रहेंगे। वाराणसी वाराणसी में वो संकट मोचन मंदिर के महंत से मिलेंगे और मंदिरों में मत्था टेकेंगे तो वहीं मिर्जापुर में पार्टी के तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में भी शामिल होंगे। गुरुवार को अखिलेश यादव वाराणसी पहुंचे और वहां से सीधे जौनपुर गए जहां बक्शा थाना क्षेत्र के मिर्जापुर गांव में उन्होंने कृष्णा यादव पुजारी के परिवार से मुलाकात की, जिसकी मौत बीते 12 फरवरी को पुलिस हिरासत में हो गई थी। अखिलेश यादव ने इसके लिये सरकार को दोषी ठहराते हुए जिम्मेदारों पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेजने की मांग की।


उन्होंने कहा कि यह सरकार लोगों को ठोकने का काम कर रही है। जिस तरह से किशन यादव को बेरहमी से पुलिस ने घर से उठाकर हत्या कर दी, यह इस बात का सबूत है। कृष्णा यादव को घर से ले जाकर पुलिस बेरहमी से पीटा और अस्पताल में फेक आए। कहा कि सरकार जीरो टाॅलरेंस और कानून व्यवस्था के तहत काम करने की बात तो करती है, पर यह कहीं दिखाई नहीं देता।


इस दौरान अखिलेश यादव के निशाने पर योगी सरकार रही। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। यूपी सरकार के पास काम गिनाने के लिए कुछ नहीं बचा है। अस्पताल, एंबुलेंस, यूपी हंड्रेड समाजवादी पार्टी की देन है। इसका नाम बदलकर योगी आदित्यनाथ अपनी उपलब्धि बता रहे हैं।


लाल टोपी पर योगी आदित्यनाथ के दिए गए बयान पर चुटकी लेते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि लगता है योगी आदित्यनाथ को लाल रंग से चिढ़ है। बचपन बचपन में शायद उन्होंने लाल मिर्च खा ली थी इसलिए उन्हें लाल रंग पसन्द नहीं।


मोटेरा स्टेडियम का नाम बदलकर नरेंद्र मोदी स्टेडियम किए जाने पर भी अखिलेश यादव ने तंज कसा उन्होंने कहा कि जिनको खेलना नहीं आता वह सिर्फ स्टेडियम का नाम बदलते हैं।


इसके पहले अखिलेश यादव वाराणसी पहुंचे और वहां सपा नेताओं से मुलाकात कर सीधे जौनपुर के लिये निकल गए। वहां सबसे पहले वो मछलीशहर गए जहां पूर्व विधायक स्व. ज्वाला प्रसाद के शोक संतप्त परिवार से मिलकर उन्हें सांत्वना दी। पूर्व विधायक का इसी महीने निधन हो गया था। उसके बाद अखिलेश चक मिर्जापुर कृष्णा यादव के घर गए और आखिर में वो जौनपुर में सदर विधायक रहे मरहूम हाजी अफजाल के घर जाकर उनके परिवार से मिलकर श्रद्घांजलि दी। शाम को वह वाराणसी लौटेंगे जहां संकट मोचन मंदिर के महंत पं. विश्वंभरनाथ मिश्र से मुलाकात होगी। दूसरे दिन वह मिर्जापुर में रहेंगे। अपने दौरे के तीसरे दिन वह वाराणसी में संत रविदास मंदिर जाकर वहां मत्था टेकेंगे।

input By Javed Ahmad (Jaunpur)

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned