scriptAncient India s aviation technology education in world s first virtual school of Ram | प्राचीन भारत की उड्डयन तकनीक को समझेंगे विश्व के पहले वर्चुअल विद्यालय "स्कूल ऑफ राम" के छात्र, BHU के छात्र ने किया है तैयार | Patrika News

प्राचीन भारत की उड्डयन तकनीक को समझेंगे विश्व के पहले वर्चुअल विद्यालय "स्कूल ऑफ राम" के छात्र, BHU के छात्र ने किया है तैयार

रामायण एवं वैमानिकी शास्त्र को आधार मानकर प्राचीन भारत की उड्डयन तकनीक को पढ़ाया जाएगा। एविएशन टेक्नोलॉजी ऑफ एंशिएंट इंडिया नामक एक माह के प्रमाणपत्रीय पाठ्यक्रम को तैयार किया गया है। महर्षि भारद्वाज ने दिया पुष्पक विमान की प्रौद्योगिकी का विस्तृत व्यौरा। ये पाठ्यक्रम तैयार किया है BHU के छात्र ने।

वाराणसी

Published: May 21, 2022 11:47:11 am

वाराणसी. रामायण एकांगी दृष्टिकोण का वृतांत भर नहीं है। इसमें कौटुंबिक सांसारिकता है। राज-समाज संचालन के कूट मंत्र हैं। भूगोल है। वनस्पति और जीव जगत हैं। राष्ट्रीयता है। राष्ट्र के प्रति उत्सर्ग का चरम है। अस्त्र-शस्त्र हैं। यौद्धिक कौशल के गुण हैं। भौतिकवाद है। कणाद का परमाणुवाद है। सांख्यदर्शन और योग के सूत्र हैं। वेदांत दर्शन है और अनेक वैज्ञानिक कारण भी हैं। गांधी का राम-राज्य और पं. दीनदयाल उपाध्याय के आध्यात्मिक भौतिकवाद के उत्स इसी रामायण में हैं।.वास्तव में रामायण और उसके परवर्ती ग्रंथ कवि या लेखक की कपोल-कल्पना न होकर तत्कालीन ज्ञान के विश्वकोश हैं।
प्राचीन भारत की उड्डयन तकनीक का प्रदर्शन
प्राचीन भारत की उड्डयन तकनीक का प्रदर्शन
प्राचीन भारत की एविएशन तकनीक पर आधारित चित्र"स्कूल ऑफ राम" ने तैयार किया है एविएशन टेक्नोलॉजी ऑफ एंशिएंट इंडिया नामक पाठ्यक्रम

भगवान श्री राम के जीवन पर शुरू हुए विश्व के पहले वर्चुअल विद्यालय "स्कूल ऑफ राम" द्वारा एविएशन टेक्नोलॉजी ऑफ एंशिएंट इंडिया नामक एक माह के प्रमाणपत्रीय पाठ्यक्रम को तैयार किया गया है। इसमें रामायण एवं महर्षि भारद्वाज द्वारा रचित वैमानिकी शास्त्र को आधार मानकर प्राचीन भारत की उड्डयन तकनीक को पढ़ाया जाएगा।
स्कूल ऑफ रामप्राचीन काल में राक्षस व देवता न सुविधायुक्त आकाशगामी साधनों के रूप में वाहनब्ध भी थे

इस कोर्स के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करते हुए स्कूल ऑफ राम के संयोजक बीएचयू में अध्ययनरत छात्र प्रिंस तिवारी ने बताया कि वाल्मीकी रामायण तथा अन्य विविध रामायण व अन्य ग्रंथों में ‘पुष्पक विमान’ के उपयोग के विवरण हैं। इससे स्पष्ट होता है, उस युग में राक्षस व देवता न केवल विमान शास्त्र के ज्ञाता थे, बल्कि सुविधायुक्त आकाशगामी साधनों के रूप में वाहनब्ध भी थे।
महर्षि भारद्वाज ने दिया पुष्पक विमान की प्रौद्योगिकी का विस्तृत व्यौरा

विमान नामक यंत्र तो वैदिक काल से ही इस देश में प्रचलित था। संस्कृत में “वी” पक्षी को कहते हैं और ‘मान’ का अर्थ अनुरूप या सदृश हैं। इसीलिए विमान का अर्थ पक्षी के सदिश होता हैं। प्रिंस ने बताया कि वेद में विमान बनाने की विधि बतलाते हुए कहा हैं- वेदा यो वीनां पदमन्तरिक्षेण पतताम् । वेद नावः समुद्रियः॥ (ऋग्वेद) अर्थात जो आकाश में पक्षियों की स्थिति को जानता हैं,वह समुद्र-आकाश की नाव-विमान को जानता हैं। पुष्पक विमान की प्रौद्योगिकी का विस्तृत व्यौरा महर्षि भारद्वाज द्वारा लिखित पुस्तक ‘यंत्र-सर्वेश्वम्’ में भी किया गया था। वर्तमान में यह पुस्तक विलुप्त हो चुकी है, लेकिन इसके 40 अध्यायों में से एक अध्याय ‘वैमानिक शास्त्र’ अभी प्राप्यब्ध है। इसमें भी शकुन, सुन्दर, त्रिपुर एवं रूक्म विमान सहित 25 तरह के विमानों का विवरण है।
महर्षि भारद्वाज के"वैमानिक शास्त्र" पर आधारित है पाठ्यक्रम

इस एक माह के प्रमाणपत्रीय कार्यक्रम में रामायण एवं महर्षि भारद्वाज द्वारा लिखित ‘वैमानिक शास्त्र’ को आधार मानकर प्राचीन भारत की उड्डयन तकनीक का अध्ययन करेंगे।
पाठ्यक्रम की रुपरेखा
पाठ्यक्रम की अवधि एक माह की होगी। सप्ताह में दो दिन मंगलवार एवं शनिवार क्लास चलेंगे। रात्रि 08 बजे से 8.45 बजे तक के क्लास होंगे। एक जून से पाठ्यक्रम शुरू होगा और 02 जुलाई को खत्म होगा। इस कोर्स की सबसे खास बात यह होगी की इसमें प्रतिभागिता हेतु कोई अर्हता नहीं रखी गई है। कोई भी व्यक्ति किसी भी उम्र के महिला-पुरुष, बालक-बालिका इस कोर्स का अंग बन सकते हैं। इस कोर्स में उम्र की भी कोई बाध्यता नहीं हैं। कक्षा में 75% उपस्तिथि वाले प्रतिभागियों को ही प्रमाण-पत्र प्रदान किये जायेंगे। फॉर्म भरने की अंतिम तिथि 25 मई है। https://tinyurl.com/sorviman इस लिंक से फॉर्म भर सकते है।
कुछ महत्वपूर्ण अध्यायों को सम्मिलित किया गया

●विमान की संरचना
● वेदों में विमान एवं अन्तरिक्ष यात्रा
● स्वचालित यान एवं विमान
● अन्तरिक्ष एवं समुद्र में चलने वाले यान
● भारद्वाज ऋषि का वैमानिक शास्त्र
● वैमानिक यात्रा हेतु आकाश मार्ग का चयन एवं महत्व
● विमान के प्रकार एवं उनमें प्रयुक्त होने वाला ईंधन
● विमान में विभिन्न प्रकार के अंग एवं यंत्र
● विमानों के भेद
● विमान परिचालक की अर्हताएं
● वाल्मीकि रामायण में विमान
● रामचरितमानस में विमान
● पुष्पक विमान,उड़न तश्तरियां (Flying Saucers) एवं विभिन्न प्रकार के व्यक्तिगत यान
● भागवत पुराण में विमान का महत्व
● वैमानिकी के सन्दर्भ में विभिन्न सूत्र,एवं सूत्रों के आधार पर विमानों के प्रकार
●वैमानिकी में मिसाइल का प्रयोग
● श्रीलंका की पौराणिक वैमानिक तकनीक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'Coal Scam: कोयला घोटाले मामले में ED ने पश्चिम बंगाल के 8 आईपीएस ऑफिसर को जारी किया समनजम्मू-कश्मीर के रामबन में लैंडस्लाइड व बादल फटने से दो लोगों की मौत, हिमाचल के कुल्लू में कई दुकानें बहींVP Jagdeep Dhankhar: 'किसान पुत्र' जगदीप धनखड़ ने ली उपराष्ट्रपति पद की शपथ, झुंंझुनू सहित पूरे राजस्थान में जश्न का माहौल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.