इस अपना दल नेता के साथ बेहोशी में किया दुष्कर्म फिर कर दी निर्मम हत्या

500 मोबाइल जांच की रडार पर, कई राजनीतिक दल जांच के घेरे में

By: sarveshwari Mishra

Published: 10 Nov 2017, 01:53 PM IST

इलाहाबाद. मऊआइमा की बीडीसी सदस्य व अपना दल महिला मोर्चा मण्डल की अध्यक्ष की हत्या से पहले बेहोशी में दुष्कर्म किया गया था। यह घटना सोरांव थाना क्षेत्र के कलंदरपुर में 16 अगस्त की रात में हुआ था। आरोपी ने थप्पड़ का बदला लेने के लिए दम्पत्ति की हत्या की थी। हत्या मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि एक फरार है।

 

 

 

बतादें कि सोरांव में अपना दल की महिला नेता संतोषी देवी और उसके पति जितेंद्र पटेल की हत्या का खुलासा गुरूवार को यूपी पुलिस ने कर दिया। एसपी गंगापार सुनील कुमार सिंह और एसपी क्राइम बृजेश मिश्र ने बताया कि हत्या के बाद से लगातार पुलिस हत्यारोपियों की तलाश में जुटी हुई थी। कोई सुराग नहीं मिलने पर पुलिस ने संदिग्ध लोगों के फोन नंबर सर्विलांस पर लगाए थे। जिसके माध्यम से मामले की गुत्थी सुलझाई जा सकी। उन्होंने बताया कि सोरांव के प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक दिनेश प्रताप सिंह और उसी स्कूल की महिला रसोइया के साथ अवैध संबंध थे।

 

 

 

हालांकि पुलिस ने पहले साक्ष्य के अभाव में उन्हें छोड़ दिया था। वहीं दोबारा शिक्षक का नाम जब सामने आया तो पुलिस ने महिला रसोइया से सख्ती से पूछताछ की। तब महिला रसाइयां ने कबूल किया कि हत्या के दूसरे दिन शिक्षक ने उसे फोन पर बताया था कि उसके हाथो अनर्थ हो गया है। उसने बड़गांव के धर्मेंद्र पासी के साथ मिलकर बीडीसी सदस्य और उसके पति की हत्या कर दी है। जानकारी मिलने पर पुलिस ने आरोपी शिक्षक दिनेश प्रताप सिंह को गिरफ्तार कर लिया। जबकि उसके साथ मिलकर हत्या करने वाला धर्मेंन्द्र अब भी फरार है।

 

 

 

आरोपी दिनेश ने पुलिस को बताया कि और उसकी पत्नी के बीच आए दिन लड़ाई होती रहती थी। इसके बाद शिक्षक की पत्नी उसे छोड़ कर चली मुंबई माइकेवालों के साथ में रहने लगी थी। इस मामले में बीडीसी सदस्य और उसके पति ने शिक्षक की काफी मदद की थी। इसके कारण बीडीसी सदस्य के घर शिक्षक का आना जाना बढ़ गया था। बीडीसी सदस्य की गैरमौजूदगी में शिक्षक महिला मित्र को उसके घर भी ले जाता था। घटना वाले दिन भी वह रसोइया को उसने बीडीसी सदस्य के घर बुलाया था।

 

 

मामले का खुलासा करने के लिए पुलिस ने 500 फोन नंबरों की विभिन्न तरीके से अपने जांच के रडार पर रखा था। उन्हें सर्विलांस पर रखा। इसमें से 23 की लोकेशन घटना के आसपास मिली। 54 लोगों से पूछताछ की गई। इसमें कई राजनीति से जुड़े लोगों से भी पूछताछ की गई।

sarveshwari Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned