Whatsapp पर शेयर हो रहा था सेना भर्ती का पेपर 

Whatsapp पर शेयर हो रहा था सेना भर्ती का पेपर 
written exam candidates

लखनऊ, वाराणसीए मेरठ समेत देश के विभिन्न हिस्सों में सेना के चार पदों के लिए चल रही थी लिखित परीक्षा।लखनऊ में वाट्सएप पर शेयर हो रहा था लिखित परीक्षा का एसटीएफ तक पहुंचावाराणसी कैंटोमेंट में सेना भर्ती कार्यालय पहुंची एसटीएफ, मिलान में पेपर मिला हू-ब-हू, परीक्षा रद होने के आसार

वाराणसी
सेना में चार पदों के लिए रविवार को उत्तर प्रदेश के लखनऊ, वाराणसी, मेरठ समेत अन्य देश के अन्य हिस्सों में आयोजित परीक्षा का प्रश्न पत्र आउट हो गया है। व्हाट्स एप पर शेयर हो रहा प्रश्न पत्र जैसे ही एसटीएफ के पास पहुंचा, हंडकंप मच गया। वाराणसी एसटीएफ की टीम ने तत्काल छावनी क्षेत्र स्थित परीक्षा बोर्ड कार्यालय में दबिश दी। सैन्य अधिकारियों को मामले से अवगत कराने के साथ ही सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे प्रश्न पत्र का सेना भर्ती के परीक्षा पेपर से मिलान किया तो वह हू-ब-हू निकला।   
 सेेना भर्ती के लिए सक्रिय दलालों के चलते हजारों छात्रों का भविष्य अधर में पड़ गया है क्योंकि पेपर आउट होने के बाद सेना लिखित परीक्षा रद करने की प्रक्रिया में जुट गई है। 
एसटीएफ टीम के एसआई अमित श्रीवास्तव व सुनील वर्मा ने बताया कि सुबह ही लखनऊ एसटीएफ की टीम को व्हाट्स एप पर सेना भर्ती के बाबत पेपर मिला। एसटीएफ ने प्रदेश की सभी इकाई को सतर्क कर दिया। एसटीएफ की वाराणसी इकाई ने वाराणसी के सेना भर्ती कार्यालय में पूछताछ की है। जिस मोबाइल नंबर के व्हाट्स एप से यह पर्चा आउट हुआ है, उस नंबर की पड़ताल की जा रही है। 
गौरतलब है कि फरवरी 2016 में भारतीय सेना ने चार पदों पर भर्ती निकाली थी जिसमें उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों समेत देश के अन्य हिस्सों के युवाओं ने इसमें भाग लिया था। भर्ती की विभिन्न बाधाओं को पार करने वाले अभ्यर्थियों के लिए वाराणसी समेत देश के विभिन्न हिस्सों में लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया था। 

सेना का खुफिया तंत्र सक्रिय, भीतरघात की आशंका
एसटीएफ द्वारा सेना भर्ती की लिखित परीक्षा का पेपर आउट होने के खुलासे के बाद से  सेना की खुफिया तंत्र भी सक्रिय हो गया है। पूर्व में पकड़े गए दलालों को एसटीएफ व सेना की खुफिया विंग ने अपने राडार पर लेना शुरू कर दिया है। एसटीएफ को आशंका है कि सोशल मीडिया पर पर्चा आउट करने के पीछे सेना के ही किसी जवान का हाथ होने की आशंका है। 
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned