BREAKING NEWS सरकारी इंसास के साथ फरार नक्सली गिरफ्तार

BREAKING NEWS सरकारी इंसास के साथ फरार नक्सली गिरफ्तार
maoists

सैकड़ों कारतूस व लाइसेंसी बंदूक भी बरामद,पीडब्लयूजी छोड़कर बनाया था अपना संगठन

वाराणसी. गृहमंत्री राजनाथ सिंह के गृह क्षेत्र यानि नक्सल प्रभावित चंदौली जिले से उत्तर प्रदेश की एटीएस टीम ने एक नक्सली को गिरफ्तार किया है। ग्रुप लीडर नक्सली सुनील रविदास के पास से इंसास रायफल और उसके 115 कारतूस बरामद हुए हैं। पांच साल से फरार चल रहे नक्सली की निशानदेही पर एटीएस की टीम ने चंदौली के सैयदराजा में एक अन्य नक्सली रामापति उर्फ बुढउ के घर दबिश दी। नक्सली तो फरार हो गया लेकिन उसनके घर से दो लाइसेंसी बंदूक और भारी मात्रा में कारतूस बरामद हुए। 

उत्तर प्रदेश एटीएस को सूचना मिली थी कि झारखंड, बिहार और सोनभद्र के जंगलों में छिपे नक्सली किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के लिए भारी मात्रा में हथियार इक_ा कर रहे हैं। एसपी एटीएस संतोष कुमार सिंह ने आला अधिकारियों को सूचित करने के बाद वाराणसी की एक यूनिट को नोएडा भेजा। नोएडा में किराये के मकान में अपनी पहचान छिपाकर वारदात को अंजाम देने की फिराक में प्लानिंग कर रहे नौ नक्सलियों को शनिवार रात दबोच लिया। 

एसपी एटीएस संतोष कुमार सिंह ने बताया कि गिरफ्तार नक्सलियों से पूछताछ में पता चला कि नक्सलियों का एक गुट बिहार व चंदौली गया है हथियार लेने। एके 47 समेत अन्य हथियार जुटाने की सूचना पर एटीएस की टीम यहां हरकत शुरू हो गई। एसपी संतोष कुमार सिंह के नेतृत्व में एक टीम ने चंदौली के सैयदराजा थाना क्षेत्र के लक्ष्मणपुर गोराई में दबिश दी। सुनील रविदास के ठिकाने से इंसास रायफल के साथ ही भारी मात्रा में कारतूस बरामद हुए। यह रायफल व कारतूस सीआरपीएफ के किसी कैंप से लूटे गए हैं। सुनील की निशानदेही पर इसी थाना क्षेत्र में एक अन्य नक्सली के यहां दबिश दी। वह तो फरार हो गया लेकिन उसके घर से दो बंदूक व कारतूस बरामद हुए। एटीएस के अनुसार कुल 434 कारतूस, एक इंसास व दो बंदूक बरामद हुआ है। 

एटीएस के अनुसार सुनील व उसके साथी पूर्व में नक्सली संगठन पीपुल्स वार गु्रप से जुड़े थे। वर्ष 2011 में सरेंडर करने के बाद जेल से छूटकर इन लोगों ने तृतीय सम्मेलन प्रस्तुतीकरण कमेटी बनाई और इसी संगठन के बैनर तले नक्सली गतिविधियों को अंजाम देना शुरू कर दिया। प्रदेश में अपने नक्सली संगठन का नाम करने के लिए यह लोग शहरी इलाके में वारदात करने की फिराक में थे लेकिन एटीएस का खुफिया तंत्र सक्रिय होने के कारण ये नक्सली संगठन अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाया। गिरफ्तार नक्सली की निशानदेही पर एटीएस की एक टीम बिहार में दबिश दे रही है। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned