#patrikaUPnews-काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव का हुआ हिम श्रृंगार, अद्भृत झांकी देख भक्त हुए निहाल

#patrikaUPnews-काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव का हुआ हिम श्रृंगार, अद्भृत झांकी देख भक्त हुए निहाल
Baba Kal Bhairav

Devesh Singh | Publish: Aug, 08 2019 07:47:38 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

दर्शन करने के लिए लगी भक्तों की लाइन, बाबा को चढ़ाये गये खास तरह की पकवान

वाराणसी. काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव का अद्भृत हिंम श्रृंगार देख कर भक्त निहाल हो गये। गुरुवार को बाबा के मंदिर में दर्शन करने के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ी रही। रंग-बिरंगे हिमखंडों में सजी महाकाल की अलौकिक झांकी ने सभी को मंत्र मुग्ध कर दिया।
यह भी पढ़े:-#patrikaUPnews-गंगा के उफान पर आते ही नौका संचालक पर लगी रोक

 

Baba Kal Bhairav
IMAGE CREDIT: Patrika

काल भैरव मंदिर में आयोजित हिम श्रृंगार महोत्सव के तहत मंदिर की आकर्षण ढंग से सजावट की गयी थी। महोत्सव के आयोजक एंव श्रीराम मंदिर के महंत पंडित पवन उपाध्याय के आचार्यात्व में सबसे पहले बाबा को पंचामृत स्नान कराया गया। इसके बाद बाबा को सिंदूर अर्पित कर नवीन वस्त्र और मुखौटा धारण कराया गया। इसके बाद पकवान, फल और मदिरा का भोग लगा कर श्रृंगार आरती की गयी। इसके बाद बाबा बर्फानी का दरबार भक्तों के दर्शन के लिए खोल दिया गया। हिम श्रृंगार महोत्सव के लिए मंदिर की गुलाब, गेंदा, बेला, सुगंधित मालाओं से भव्य सजावट की गयी थी। बाबा के लिए बनाये गये हिमखंड सरोवर में घूमते हुए बतख सभी के आकर्षण का केन्द्र रहे। बाबा के दर्शन का क्रम दोपहर से आरंभ हुआ। जो देर रात तक जारी था।
यह भी पढ़े:-#PatrikaCrime सीसीटीवी फुटेज से उड़ी पुलिस की नीद, सेंधा नमक से कार का शीशा तोड़ कर लैपटाप-नगदी की पार!

 

Baba Kal Bhairav
IMAGE CREDIT: Patrika

महादेव के रौद रुप है बाबा कालभैरव
महादेव के रौद रुप बाबा कालभैरव का दर्शन करने मात्र से ही जन्मों के पापों से मुक्ति मिल जाती है। काशी की धार्मिक मान्यता है कि काल भैरव का दर्शन करने से जीवन में आने वाली सारी बाधा खत्म हो जाती है। बनारस से जुड़ कोई भी मंत्री व अधिकारी जब तक काशी विश्वनाथ व बाबा कालभैरव मंदिर जाकर दर्शन नहीं करता है तब तक वह शहर में नहीं रह पाता है।
यह भी पढ़े:-#PatrikaCrime -धर्मेन्द्र गुप्ता मर्डर में दो और आरोपी गिरफ्तार, लूट की एक लाख से अधिक की रकम बरामद

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned