BREAKING NEWS बाहुबली बसपा नेता विनीत सिंह ने रांची में किया सरेंडर

BREAKING NEWS बाहुबली बसपा नेता विनीत सिंह ने रांची में किया सरेंडर
bsp leadar vineet

यूपी के सीएम को लेकर लगाया था आपत्तिजनक पोस्टर, रंगदारी के मामले में बनारस पुलिस को थी बाहुबली की तलाश

वाराणसी. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से पंगा लेने वाले बाहुबली बसपा नेता विनीत सिंह ने अपहरण के आरोप के एक पुराने मामले में शनिवार को रांची (झारखंड) की अदालत में सरेंडर कर दिया है। बसपा नेता विनीत को वाराणसी पुलिस ने फरार घोषित कर रखा है। विनीत पर रोहनिया थाना क्षेत्र के एक कारोबारी से पांच करोड़ रंगदारी मांगने और घर में घुसकर मारपीट का आरोप हैं।

बाहुबली विनीत सिंह ने इस मामले में वाराणसी की अदालत में आवेदन देकर समर्पण की अवधि बढ़ाने की मांग की थी, जिससे कोर्ट ने खारिज कर दिया था।विशेष मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट उमाकांत जिंदल की अदालत ने कोर्ट स्पष्ट किया कहा था कि हाईकोर्ट से एक माह में सरेंडर करने की मोहलत मिली है इसलिए इस अवधि में कभी भी समर्पण किया जा सकता है।

  बाहुबली बसपा प्रत्याशी विनीत सिंह ने अपनी सोशल विंग द्वारा संचालित फेसबुक पेज पर सीएम अखिलेश यादव के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्टर लगाने का आरोप है। फेसबुक पर लगे पोस्टर में दिखाया गया था कि सीएम अखिलेश यादव भाग रहे है और उन्हें बसपा का चुनाव चिह्न हाथी दौड़ा रहा है। पोस्टर में ही पीछे की तरफ बसपा सुप्रीमो मायावती व बाहुबली बसपा नेता की फोटो लगी थी।

पत्रिका ने ही सबसे पहले इस पोस्टर का खुलासा किया था उसके बाद सीएम अखिलेश यादव ने पोस्टर प्रकरण पर कार्रवाई करने को कहा था। सीएम से हरी झंडी मिलते ही वाराणसी पुलिस सक्रिय हो गयी थी। इस बीच पुलिस के हाथ जैकपॉट लग गया। रोहनिया क्षेत्र के एक कारोबारी जो कभी विनीत का मित्र भी था उसने विनीत सिंह के खिलाफ रोहनिया थाने में पांच करोड़ रुपये फिरौती मांगने का मुकदमा दर्ज करा दिया। इसके बाद से विनीत सिंह फरार चल रहे है।

पुलिस से बचने के लिए बाहुबली विनीत सिंह ने कोर्ट में समर्पण करने की अर्जी थी। हाईकोर्ट से एक माह में सरेंडर करने का आदेश मिला था इसके बाद विनीत सिंह ने स्थानीय कोर्ट में सरेंडर की अवधि को बढ़ाने के लिए आवेदन दिया था। इसी बीच रोहनिया थाने में बाहुबली नेता के वांछित होने की रिपोर्ट आ गयी थी, जिस पर अदालत ने याचिका खारिज करते हुए निर्धारित अवधि में सरेंडर करने को कहा लेकिन विनीत ने यहाँ सरेंडर करने के बजाय रांची में सरेंडर करना ज्यादा मुनासिब समझा।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned