बाहुबली एमएलसी बृजेश के कपसेठी हाउस ने मांगा तीन टिकट

बीजेपी व बीएसपी के संपर्क में परिवार, टिकट के लिए जेल के भीतर से बृजेश और बाहर से विधायक सुशील लगा रहे सियासी दांवपेंच

विकास बागी

वाराणसी. बाहुबली एमएलसी बृजेश सिंह को विधान परिषद पहुंचाने के बाद अब कपसेठी परिवार मिशन 2017 की चुनावी जंग में कूदने को आतुर है। कपसेठी हाउस के तीन सदस्य विधानसभा चुनाव लडऩे की तैयारी कर रहे हैं। भाजपा व बसपा के आला कमान से कपसेठी हाउस लगातार संपर्क में है। बस इंतजार है तो हरी झंडी का। जिस पार्टी ने झंडा थमा दिया, परिवार उसी की नाव पर बैठकर चुनाव की बैतरणी पार करेगा। टिकट मांगने वालों में बाहुबली एमएलसी बृजेश सिंह की पत्नी पूर्व एमएलसी अन्नपूर्णा सिंह, बड़े भतीजे विधायक सुशील सिंह व छोटे भतीजे यानि पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष सुजीत सिंह डाक्टर। बृजेश सिंह पत्नी व छोटे भतीजे के लिए अपने राजनीति के बाहुबलियों को एक करने में जुटे हैं तो विधायक सुशील राजलनीति के गलियारों में बने नए मित्रों के सहारे परिवार को विधानसभा का टिकट दिलाने के लिए शतरंजी चाल चल रहे।  

पत्नी की पहली पसंद हाथी की सवारी

बाहुबली एमएलसी बृजेश सिंह की पत्नी व पूर्व एमएलसी अन्नपूर्णा सिंह पति की जीत से इस कदर उत्साहित है कि अब दोबारा राजनीति के समर में कूदने की तैयारी में जुटी हैं। अन्नपूर्णा सिंह चंदौली के सैयदराजा विधानसभा सीट से चुनाव लडऩे की तैयारी में हैं। पहली पसंद बीएसपी है क्योंकि अन्नपूर्णा के लिए राजनीति के दरवाजे बीएसपी ने ही खोले थे टिकट थमाकर। बसपा एमएलसी रहते हुए अन्नपूर्णा ने चंदौली में काफी कार्य कराए थे। पार्टी भी अन्नपूर्णा पर भरोसा करती है। पार्टी और अन्नपूर्णा के रिश्तों में थोड़ी खटास तब आई थी जब बृजेश ने निर्दल एमएलसी का चुनाव लड़ा था। हालांकि उनकी जीत के बाद सबकुछ पहले जैसा सामान्य हो गया है। 

चंदौली से बनारस का सफर करना चाहते हैं सुशील

अपने चाचा को एमएलसी की सीट दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले भाजपा विधायक सुशील सिंह फिलहाल चंदौली से बनारस का सफर तय करने की तैयारी में जुटे हैं। चंदौली के सकलडीहा से विधायक सुशील सिंह वाराणसी में शहर उत्तरी से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लडऩे की तैयारी कर रहे हैं। पार्टी के आला पदाधिकारियों को अपनी इस इच्छा से अवगत भी करा चुके हैं सुशील सिंह। पार्टी में लगातार बढ़ती सक्रियता से विरोधी हैरान और परेशान हैं। सूत्रों की माने तो भाजपा में बगावत की स्थिति में सुशील सकलडीहा से ही दोबारा चुनाव लड़ सकते हैं। फिलहाल बीजेपी में सुशील के लगातार बढ़ते कद व उत्तरी विस के जातीय समीकरण को देखते हुए पार्टी किसी टिकट थमाती है, भविष्य के गर्त में हैं।

चुलबुल चाहते हैं डाक्टर हो जाए विधायक

भाजपा एमएलसी रहे उदयनाथ सिंह उर्फ चुलबुल सिंह को पंचायती चुनावों का मास्टर माना जाता है। लगातार गिरते स्वास्थ्य से चिंतित बृजेश सिंह के भाई चुलबुल अपने छोटे बेटे व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष सुजीत सिंह डाक्टर को विधायक की कुर्सी पर बैठे देखना चाहते हैं। सूत्रों के अनुसार सेवापुरी विधानसभा सीट से सुजीत को टिकट दिलाने की तैयारी चल रही है। सपा से टिकट मिलना तो फिलहाल नाममुमकिन ही है, कपसेठी परिवार सुजीत को विधानसभा भेजने के लिए बसपा की तरफ आशा भरी निगाहों से देख रहा है।
Show More
Vikas Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned