scriptBankers protest start against central government privatization policy | निजीकरण के खिलाफ बैंकर्स का विरोध प्रदर्शन शुरू | Patrika News

निजीकरण के खिलाफ बैंकर्स का विरोध प्रदर्शन शुरू

-पहले दिन मुंह पर पट्टी बांध कर किया विरोध प्रदर्शन

वाराणसी

Published: December 07, 2021 07:38:45 pm

वाराणसी. केंद्र सरकार के बैंकों के निजीकरण के खिलाफ बैंकर्स ने मंगलवार से पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत चरणबद्ध आंदोलन शुरू कर दिया। इसके तहत पहले दिन बैंकिंग कार्य निबटाने के बाद शाम को बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया गया।
बैंकर्स का विरोध प्रदर्शन शुरू
बैंकर्स का विरोध प्रदर्शन शुरू
बता दें कि बैंकर्स सितंबर से ही निजीकरण के खिलाफ आंदोलनरत हैं। उनका विरोध उस बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट के संसोधन बिल का है जिसे संसद के इसी शीत सत्र में पेश किया जाना है। बैंकर्स का आरोप है कि केंद्र इस बिल के माध्यम से किसी भी सरकारी बैंकों को कभी भी निजी हाथों में सौपा सकती है। आंदोलित बैकर्स के अनुसार वर्तमान में दो बैंको का निजीकरण प्रस्तावित है।
ये भी पढें- निजीकरण के खिलाफ बैंकर्स ने किया हड़ताल का ऐलान, इन दो दिनों में नहीं होंगे कोई काम

उनका कहना है कि सरकार द्वारा प्रस्तावित इस निजीकरण से सबसे ज्यादा नुकसान आम और गरीबी तबके की जनता को होगा। वो बताते हैं कि देश के 80 प्रतिसत गरीब एवं पिछड़े वर्ग का खाता इन्ही बैंको में है। इन्ही सरकारी छेत्रों के बैंको के माध्यम से तमाम सरकारी योजनाओं का लाभ इस गरीब जनता तक पहुंचाया जाता है। इन्हें सहायता प्रदान की जाती है। इस प्रस्तवित निजीकरण योजना का यूऑफबीयू ने पुरजोर विरोध किया है। उसी के तहत यू ऑफ बी यू द्वारा प्रस्तवित धरना-प्रदर्शन के कार्यक्रम के क्रम में मंगलवार को वाराणसी में बैंक ऑफ इंडिया के आंचलिक कार्यालय पर धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में बैंक अधिकारी और कर्मचारि उपस्थित रह।
सभा को संबोधित करते हुए यूऑफबीयू के सह संयोजक अभिषेक श्रीवास्तव, युपीबीयू के के के चौबे, संजय शर्मा, अमिताभ भौमिक आदि ने सरकार के प्रस्तावित बैंको के निजीकरण का पुरजोर विरोध और भर्तस्ना की। उन्होंने कहा कि सरकार की इस जनविरोधी नीति को किसी हाल में बैंकों के ऊपर नही लागू होने दिया जाएगा। सरकार के इस कदम से आम जनता के साथ साथ गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार को नुकसान होगा और इसको किसी हाल में होने नही दिया जाएगा। उन्होंने ही बताया कि सरकार के सरकारी बैंकों के निजीकरण के विरोध में सभी बैंकों के सभी कर्मचारी यूएफबीयू के बैनर तले सड़कों पर उतर कर विभिन्न स्थलों पर सरकार की पूंजीपति समर्थित नीतियों के खिलाफ आवाज और नारे लगाए जा रहे है।
सभा को अनंत मिश्रा, सुशील पवन गुप्ता , नितिन सिंह, अवनीश सिंह, अरविंद राय, प्रमोद द्विवेदी, शीतल दुबे, बालेश्वर, पूजा, अनंत मिश्रा, प्रवीण झा, आदि ने भी संबोधित किया। इस मौके पर बड़ी तादाद में अधिकारी और कर्मचारी उपस्थिति रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Corona cases in india: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2.35 लाख केस, 871 की मौत, संक्रमण दर हुई 13.39%UP Assembly Elections 2022: भाजपा ने किसानों से झूठा वादा किया, उन्हें धोखा दिया, प्रेस कांफ्रेंस में बोले अखिलेशदिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू खत्म, आज से नई गाइडलाइंस के साथ मेट्रो सेवाएं शुरूउत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव 2022 की डेट का ऐलान, जानें कितने सीटों के लिए और कब आएगा रिजल्टमुस्लिम वोटों को लुभाने के लिए बसपा ने किया बड़ा खेल, बाकी हैरानखतरनाक साइड इफैक्ट : इलाज के बाद ठीक हुए मरीजों पर आइआइटी का शोध, खराब हो रहे ये अंगओमिक्रॉन के नए वैरिएंट की एंट्री, मरीजों के सैंपल भेजे दिल्ली, 1418 पुलिसवाले भी संक्रमितछत्तीसगढ़ में कोरोना का कहर, 48 घंटे में 30 मरीजों की मौत, सबसे ज्यादा 8 संक्रमितों की मौत दुर्ग में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.