बारावफात के लिये गाइड लाइन जारी, जुलूस से लेकर जलसों तक जानिये क्या मिली छूट, किस पर रहेगा प्रतिबंध

  • पैगम्बर साहब की पैदाइश के दिन निकलते हैं कई किलोमीटर लम्बे जुलूस निकाले जाने की है परंपरा
  • दो दिनों तक चलती है जलसों और आयोजनों की श्रखला, गली-मुहल्लों में भी होते हैं आयोजन

वाराणसी. पैगम्बर ए इस्लाम की पैइाइश का दिन यानि ईद मिलादुन्नबी जिसे बारावफात भी कहा जाता है इसको मनाने के लिये प्रशासन की ओर से गाइड लाइन तय कर दी गई है। 29 और 30 अक्टूकर को बारावफात पूरे उल्लास और जोश ओ खरोश से मनाया जाएगा, लेकिन प्रशासन की गाइड लाइन और पाबंदियों का पालन करते हुए। प्रशासन की ओर से जुलूस से लेकर जलसे तक के लिये गाइड लाइन और पाबंदियां तय कर दी गई हैं। इनका पालन करते हुए ही बारावफात मनाया जाएगा। आयोजकों और धर्मिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ प्रशासन की बैठक में गाइड लाइन तय करते हुए जिन आयोजनों को छूट दी गई है उनके लिये परमिशन लेना अनिवार्य बनाया गया है।

 

जुलूस निकालने पर प्रतिबंध

बारावफात पर शहर में लाखों लोगों की भीड़ सड़क पर निकलती है। उस दिन कई किलोमीटर लम्बे 'जुलूस ए मुहम्मदी’ के नाम से कई जुलूस निकाले जाते हैं जो शहर के विभिन्न इलाकों से गुजरते हैं। यह जुलूस शहर के सबसे बड़े जुलूसों में शामिल है। पर प्रशासन की गाइड लाइन के मुताबिक इस बार कोरोना संक्रमण के चलते जुलूस निकालने पर प्रतिबंध रहेगा। मर्कजी यौमुन्नबी कमेटी जैसे आयोजकों ने पहले ही अपने जुलूस कैंसिल कर दिये हैं। हालांकि प्रशासन ने कहा है कि जो अंजुमनें 30 अक्टूबर को जुलूस नहीं निकाल पाएंगी वो कहीं और पंडाल लगाकर अपना कार्यक्रम करना चाहें तो इसकी इजाजत ले सकते हैं। इसके लिये उन्हें अपने थाने पर आवेदन देना होगा। इजाजत सबंधित मजिस्ट्रेट द्वारा दी जाएगी। अंजुमनों को मुहल्लों में कार्यक्रम करने के लिये अलग से अनुमति जारी की जाएगी।

 

200 लोगों की मिलेगी इजाजत

बारावफात पर जुलूस भले ही नहीं निकलेंगे लेकिन जलसों और नात की महफिलों को अनुमति होगी। पर इसमें 200 लोगों को जुटने की ही इजाजत होगी। इस तरह के आयोजनों के लिये अधिकतम 200 लोगों की अनुमति होगी। ये आयोजन या तो किसी बंद जगह पर कियेे जाएंगे या फिर टेंट लगाकर। पहले जो कार्यक्रम खुले में होते थे उसके लिये भी टेंट लगाना अनिवार्य किया गया है। सबकी सहमति से टेंट का साइज भी तय किया गया है। मजिस्ट्रेट द्वारा तीन चांदनी का टेंट लगाने की परमिशन दी जाएगी। आयोजकों को आवेदन करते समय टेंट की संख्या बतानी होगी।

 

Barawafat Meeting Varanasi

 

इसके लिये किसी परमिशन की जरूरत नहीं

बारावफात पर मस्जिदों में दुआख्वानी और नातख्वानी जैसे आयोजनों और सजावट को प्रतिबंधों से दूर रखा गया है। इसके लिये किसी तरह की इजाजत की जरूरत नहीं होगी। हालांकि किसी भी दशा में 200 लोगों से अधिक जुटने नहीं चाहिये। हालांकि सड़क पर किसी तरह के आयोजन या टेंट लगाने की मनाही है।

 

डीएम ने की आयोजकों संब बैठक

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बारावफात पर्व को लेकर अपने कैंप कार्यालय पर ईद मिलादुन्नबी के मौके पर जुलूस व अन्य कार्यक्रम करने वाले आयोजकों और संस्थओं के प्रतनिधियों के साथ बैठक की। इस दौरान सबकी सहमत से कोरोना को देखते हुए बारावफात मनाने के लिये गाइड लाइन तय की गई। डीएम ने कहा कि अुजुमनों को नातख्वानी और दुआख्वानी जैसे आयोजनों के लिये नियमों के साथ इजाजत दी जाएगी, लेकिन जुलूस निकालने पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned