UP के कई जिलों में ईवीएम बदले जाने के शक में हंगामा, रात भर धरने पर बैठे रहे अफजाल अंसारी, प्रशासन झुका

UP के कई जिलों में ईवीएम बदले जाने के शक में हंगामा, रात भर धरने पर बैठे रहे अफजाल अंसारी, प्रशासन झुका
अफजाल अंसारी

Mohd Rafatuddin Faridi | Publish: May, 21 2019 10:40:35 AM (IST) | Updated: May, 21 2019 04:11:42 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

  • गाजीपुर में भोर तीन बजे तक अफजाल अंसारी अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठे रहे।
  • इसके बाद प्रशासन ने उनके पांच लोगों को ईवीएम की निगरानी की इजाजत दे दी।
  • चंदौली में भी ईवीएम बदले जाने की अफवाह के बाद चार घंटे तक धरना दिया।

वाराणसी. मतदान खत्म होने के बाद नतीजों के आने से पहले यूपी के कई जिलों में ईवीएम को लेकर हंगामा हो गया। विपक्षी दल के समर्थकों ने ईवीएम बदलने की कोशिश का दावा करते हुए कई जिलों में हंगामा किया। गाजीपुर , चंदौली , मऊ, जौनपुर, मिर्जापुर, में जमकर हंगामा देखने को मिला। गाजीपुर में तो गठबंधन के बसपा प्रत्याशी अफजाल अंसारी अपने समर्थकों के साथ रात भर धरने पर बैठे रहे। उनका कहना था कि जिस तरह की सुरक्षा है उसमें ईवीएम को बदला जा सकता है। भोर में तीन बजे जाकर प्रशासन ने उनकी मांगें मानीं तो धरना समाप्त हुआ। चंदौली में भी गठबंधन के नेताओं ने ईवीएम से भरा मिनी ट्रक पहुंचने पर हंगामा कर चार घंटे तक धरना दिया। चार घंटे तक हंगामे के बाद ईवीएम को सकलडीहा भेज दिया गया। प्रशासन का कहना था कि ये रिजर्व ईवीएम थी। उधर ईवीएम बदलने की अफवाह को लेकर मऊ में भी गठबंधन प्रत्याशी के दर्जनों समर्थक स्ट्रांग रूम पर पहुंच गए और हंगामा किया, जिसके बाद पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए हंगामा कर रहे समर्थकों को खदेड़ा। इसी तरह ईवीएम बदलने की अफवाह को लेकर जौनपुर में भी हंगामा हुआ और बसपा प्रत्याशी श्याम सिंह यादव कई घंटे धरने पर बैठे रहे। हालांकि प्रशासन का हर जगह यही कहना है कि ईवीएम कड़ी सुरक्षा और निगरानी में है, इसमें छेड़छाड़ की कोई गुंजाइश ही नहीं।

 

 

हंगामे की शुरुआत चंदौली से हुई जहां नवीन फल मंडी में बने मतगणना स्थल पर एक पिकअप में भरकर ईवीएम पहुंचाए जाने की सूचना के बाद हंगामा हो गया। बताया गया कि ये 35 रिजर्व ईवीएम सकलडीहा से लाई गयी थी। मौके पर सपा-बसपा व कांग्रेस और जन अधिकार पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं की भीड़ जुट गयी। गठबंधन और कांग्रेस व उसके सहयोगी दल के नेताओं ने वहीं धरना शुरू कर दिया। चार घंटे तक विरोध प्रदर्शन चला, जिसके बाद जिला निर्वाचन अधिकारी के हस्तक्षेप के बाद ईवीएम को वापस सकलडीहा भेजा गया। देर रात फोर्स वहां जमी रही। जानकारी के मुताबिक मतदान के दिन खराब हुई ईवीएम को सकलडीहा तहसील कक्ष में रखा गया था। बाद में सकलडीहा से आई ईवीएम को वापस वहीं भेज दिया गया। हालांकि समर्थक इससे बेचैन थे।

 

बड़ा हंगामा गाजीपुर में हुआ, जहां मतगणना स्थल परिसर के तक ईवीएम भरी गाड़ी आने का दावा करते हुए गठबंधन समर्थकों ने जमकर बवल काटा। बसपा प्रत्याशी अफजाल अंसारी अपने समर्थकों के साथ रात के तीन बजे तक धरने पर बैठे रहे। वहां मौजूद जिम्मेदारों से अंसारी और उनके समर्थकों की तू-तू मैं-मैं भी हुई। अफजाल अंसारी सीआईएसएफ से स्ट्रांग रूम की सुरक्षा करवाए जाने को शक की निगाह से देख रहे थे। उनका कहना था कि इसकी जगह बीएसएफ या सीआरपीएफ लगायी जाय। इसके अलावा एक लिस्ट देकर हर शिफ्ट में अपने 10 लोगों को ईवीएम की निगरानी के लिये लगाए जाने की मांग कर रहे थे। एसडीएम सत्यप्रिय सिंह और सीओ उन लोगों को समझाते रहे, पर वह नहीं माने। एसडीएम ने जिलाधिकारी को पूरी घटना से अवगत कराया। मान-मनव्वल करते-करते भोर हो गयी। पशासन आखिरकार पांच लोगों को निगरानी के लिये तैनात करने पर मान गया, जिसके बाद भोर में तीन बजे धरना समाप्त हुआ।

 

मऊ में भी ईवीएम बदलने की अफवाह उड़ी, जिसके बाद वहां भी सपा-बसपा गठबंधन के समर्थकों ने हंगामा किया। घोसी से बसपा प्रत्याशी अतुल राय के दर्जनों समर्थक स्ट्रांग रूम पर पहुंच गए और वहां हंगामा किया। वो लोग वहां धरना देने लगे, जिसकी सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस बल और खुद एसपी पहुंच गए। पहले समर्थकों को समझाया गया, लेकिन फिर भी नहीं माने तो पुलिस ने कड़ाई करते हुए उन्हें खदेड़ दिया, कई समर्थक पीटे भी गए। खबरों में आए जिला निर्वाचन अधिकारी के बयान के मुताबिक हंगामा करने वाले कुछ लोगों को चिन्हित कर लिया गया है और इन पर कार्रवाई की जाएगी। हालांकि सपा जिलाध्यक्ष की ओर से कार्यकर्ताओं पर बिना वजह लाठीचार्ज का आरोप भी लगाया।

 

जौनपुर में गठबंधन समर्थकों का दावा था कि उन लोगों ने ईवीएम भरी एक गाड़ी को मतगणना स्थल की ओर आ रही थी, लेकिन उन लोगों के देखने के बाद वो वापस चली गयी। इस अफवाह के बाद समर्थकों के फोन पर बसपा प्रत्याशी श्याम सिंह यादव भी मौके पर पहुंचे और नवीन सब्जी मंडी स्थित मतगण्ना स्थल के नजदीक समर्थकों संग धरने पर बैठ गए। उनकी मांग थी कि यहां बीएसएफ लगायी जाए और उनके लोगों को भी ईवीएम की निगरानी करने की इजाजत मिले। प्रशासन ने 10 लोगों को ईवीएम की निगरानी की इजाजत दे दी। जानकारी के मुताबिक सपा जिला उपाध्यक्ष अनवारुल हक गु्ड्डू की टीम मोबाइल लेकर वहां जाती थी। सोमवार की रात मोबाइल नहीं ले जाने दिया जा रहा था। इसके बाद एक गाड़ी ईवीएम आने की अफवाह उड़ी, जिसके बाद ईवीएम बदले जाने के शक के चलते हंगामा हुआ, जो रात 12 बजे तक चला।

 

उधर मिर्जापुर में भी कांग्रेस प्रत्याशी ललितेशपति त्रिपाठी ने स्ट्रांग रूम में अतिरिक्त ईवीएम रखे जाने का आरोप लगाया। उनकी ओर से प्रेक्षक से शिकायत कर पॉलिटेक्निक स्थित स्ट्रांग रूम में 300 अतिरिक्त ईवीएम रखे जाने का दावा करते हुए इसकी शिकायत कर उसे हटाने की मांग की है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned