scriptBHU and Lucknow scientists Research skeletons found in Ajnala Punjab is Freedom Fighters of UP Bihar and Bengal | बीएचयू और बीरबल साहनी इंस्टीट्यूट का खुलासाः अंग्रेजों ने डेढ़ सौ स्वतंत्रता सेनानियों को मार कर शव डाल दिया था कुएं में | Patrika News

बीएचयू और बीरबल साहनी इंस्टीट्यूट का खुलासाः अंग्रेजों ने डेढ़ सौ स्वतंत्रता सेनानियों को मार कर शव डाल दिया था कुएं में

काशी हिंदू विश्वविद्यालय और बीरबल साहनी इंस्टिट्यूट लखनऊ के वैज्ञानिकों ने बड़ी खोज की है। इन्होंने डीएनए टेस्ट व आइसोटोप विश्लेषण से बताया है कि पंजाब के अजनाला के कुएं मे मिले नरकंकाल प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के यूपी, बिहार और पश्चिम बंगाल के स्वतंत्रता सेनानियों के हैं, न कि पंजाब या पाकिस्तान के।

वाराणसी

Published: April 28, 2022 05:50:35 pm

वाराणसी. काशी हिंदू विश्वविद्यालय और बीरबल साहनी इंस्टिट्यूट लखनऊ के वैज्ञानिकों ने स्वातंत्र्य आंदोलन के दौरान की एक बड़ी घटना का खुलासा किया है। इन दोनों संस्थानों के वैनिकों ने बताया कि 1857 के गदर के दौरान किस तरह से ब्रिटिश हुकूमत के कारिंदें भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों की हत्या कर कैसे उनके शवो को ठिकाने लगाते रहे। इतना ही नहीं इन वैज्ञानिकों ने मांग की है मौजूदा ब्रिटिश हुकूमत 1857 में हुए कत्लेआम की पूरी जानकारी दे, ताकि मृत स्वतंत्रता सेनानियों की अंतिम क्रिया भारतीय परंपरा के अनुसार की जा सके। यह जानकारी काशी हिंदू विश्वविद्यालय के जंतु विज्ञान विभाग के प्रो ज्ञानेश्वर चौबे ने पत्रिका को दी। उन्होंने बताया कि शोध में पता चला है कि 2014 में पंजाब के अजनाला के कुएं से जो नरकंकाल मिले थे वो पंजाब के नहीं बल्कि गंगा घाटी क्षेत्र के रहे।
skeltan-3.jpg
skeltan-1.jpgपंजाब के अजनाला के कुएं मिले नरकंकाल गंगा घाटी क्षेत्र के स्वतंत्रता सेनानियों के

बता दें कि 2014 में पंजाब के अजनाला कस्बे के एक कुएं से करीब डेढ सौ नरकंकाल मिले, हड्डियां आदि मिले थे। इस संबंध में पहले इतिहासकारों ने पड़ताल शुरू की। फिर यह काम पंजाब विश्वविद्यालय के एन्थ्रोपॉलजिस्ट डॉ जेएस सेहरावत ने अपने हाथ में लिया और इन कंकालों का डीएनए और आइसोटोप अध्ययन शुरू कराया। इसमें सीसीएमबी हैदराबाद, बीरबल साहनी इंस्टिट्यूट लखनऊ और काशी हिन्दू विश्विद्यालय के वैज्ञानिको ने मिलकर काम शुरू किया। प्रो चौबे ने बताया कि इन नरकंकालों की वास्तविकता जानने के लिए वैज्ञानिको की दो अलग अलग टीम ने डीएनए और आइसोटोप एनालिसिस किया। डीएनए टेस्टिंग का काम बीएचयू के जंतु विज्ञान विभाग ने किया जबकि आइसोटोप एनालिसिस काकाम बीरबल साहनी इंस्टिट्यूट लखनऊ ने किया। प्रो चौबे बताते हैं कि दोनों टीमों के शोध के बाद ये तय पाया गया कि अजनाला के कुएं में जो नरकंकाल मिले थे वो पंजाब नहीं बल्कि गंगा घाटी क्षेत्र के हैं। यह अध्ययन 28 अप्रैल को फ्रंटियर्स इन जेनेटिक्स पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।
skeltan-3.jpgदेश के पहले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के बारे में अभी तक देश है अनभिज्ञ

डीएनए विशेषज्ञ प्रो. ज्ञानेश्वर चौबे ने बताया कि डीएनए अध्ययन में पता चला कि ये नरकंकाल गंगा घाटी क्षेत्र के उन स्वतंत्रता सेनानियों के हैं जो भारत के पहले स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े रहे। पर अब तक इनका कही कुछ अता-पता चल सका था। प्रो चौबे ने कहा कि हम वैज्ञानिकों ने भारत सरकार के माध्यम से ब्रिटिश सरकार से मांग की है कि वो तब के घटना की पूरी जानकारी दें ताकि देशवासियों को अपने आजादी के दीवानों के बारे में पता चल सके और उनका भारतीय परंपरा के तहत अंतिम क्रिया की जा सके।
skeltan-2.jpgकुएं में मिले नरकंकाल यूपी, बिहार और पश्चिम बंगाल के लोगों के

प्रो चौबे ने बताया कि इन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के बारे में डीएनए टेस्ट व आइसोटोप विश्लेषण से जांच से पता चला कि कुएं में मिले मानव कंकाल पंजाब या पाकिस्तान में रहने वाले लोगों के नहीं थे, बल्कि, डीएनए सीक्वेंस यूपी, बिहार और पश्चिम बंगाल के लोगों के साथ मेल खाते हैं। उन्होंने बताया कि डीएनए विश्लेषण से अनुवांशिक संबंध और आइसोटोप विश्लेषण से उनके खान-पान की आदतों के बारे में जानकारी होती है और दोनों ही शोध में इस बात की पुष्टि हुई है कि नरकंकाल गंगा घाटी क्षेत्र के हैं। बताया कि इस शोध में 50 सैंपल डीएनए एनालिसिस और 85 सैंपल आइसोटोप एनालिसिस के लिए इस्तेमाल किये गए।
skeltan-4.jpgतत्कालीन ब्रिटिश हुकूमत ने मरवाया था भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को

शोध से मिले परिणाम ऐतिहासिक साक्ष्य के अनुरूप हैं जिसमें कहा गया है कि 26 वीं मूल बंगाल इन्फैंट्री बटालियन के सैनिक पाकिस्तान के मियां-मीर में तैनात थे और विद्रोह के बाद उन्हें अजनाला के पास ब्रिटिश सेना ने पकड़ कर मार डाला। प्रो चौबे ने बताया कि दरअसल ऐताहिसक तथ्य ये है कि बंगाल इन्फैंट्री बटालियन के सैनिकों को पहले पकड़ कुछ लोगों को मार दिया गया। फिर सौ से ज्यादा लोगो के 10 लोगों की बैरक में डाल दिया गया। ऐसे में कुछ की तो दम घुटने से मौत हो गई जबकि जो शेष बचे थे उन्हें अलग-अलग टुकड़ों में खड़ा कर मार डाला गया। फिर उसे पास के कुएं में डाल कर उस पर गुरुद्वारा बनवा दिया गया ताकि किसी को कुछ पता न चल सके। लेकिन बाद के दिनों में भारतीय इतिहासकारों व पुरातत्वविद्नों ने इसका पता लगा लिया। खोदाई के दौरान ढेर सारे नरकंकाल, खोपड़ियां, हड्डियां मिली थीं, जिनके बारे में पहले ये कहा गया कि ये भारत- पाकिस्तान युद्ध में शहीद भारतीय सैनिकों के हैं। लेकिन बाद गंभीर व वैज्ञानिक शोधपरक अध्ययन के बाद पता चला कि वे सभी नरकंकाल प्रथम भारती स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों के थे और वो भी यूपी, बिहार, बंगाल जैसे गंगाघाटी क्षेत्र के लोगों के।
पंजाब के अजनाला का कुआं और उसमे मिले हछियार और नरकंकाल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

India-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणाज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियतप्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शवFarmers protest: विरोध कर रहे किसानों से मिलेंगे CM मान, आखिर क्यों धरने पर बैठे किसान?जब कांस के दौरान खो गई दीपिका पादुकोण की ड्रेस तो आखिरी समय में किया गया ये बदलावबेटा IPL 2022 में ढा रहा कहर, मां इस बात से अनजान, भारतीय क्रिकेटर ने किया चौंकाने वाला खुलासा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.