BHU का मोबाइल एप लांच, जानलेवा बीमारियों के इलाज में होगा मददगार

डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन से चिकित्सा विज्ञान का तालमेल बिठा कर सर्वाइकल कैंसर जैसे जटिल रोगों का हो सकेगा आरंभिक स्थितियों में आकलन।

By: Ajay Chaturvedi

Published: 15 Nov 2018, 08:16 PM IST

वाराणसी. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय का मोबाइल एप गुरुवार को लांच किया गया। कुलपति प्रो राकेश भटनागर ने इस एप को लांच किया। बताया जा रहा है कि डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन से चिकित्सा विज्ञान का तालमेल बिठा कर सर्वाइकल कैंसर जैसे जटिल रोगों का हो सकेगा आरंभिक स्थितियों में आकलन।

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के स्वतंत्रता भवन सभागार में सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों, आईआईटी, आईआईएम, एनआईटी एवं आईआईएसईआर के कंप्यूटर सेंटरों के निदेशकों का डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन इन हायर एजुकेशन इंस्टिट्यूशन विषयक तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के मौके पर बीएचयू का मोबाइल एप लांच करते हुए कुलपति प्रो भटनागर ने कहा कि आने वाले समय में इसे काफी उपयोगी बताया। डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन के विषय में चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि कंप्यूटिंग तकनीक में नित होते विकास ने हर क्षेत्र में कार्यों को काफ़ी आसान किया है। लाइब्रेरी मैनेजमेंट हो या जीन बैंकिंग उच्च शिक्षा के हर घटक में डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन ने सुखद बदलाव लाया है।

विश्वविद्यालय के कंप्यूटर सेंटर के निदेशक डॉ. विवेक सिंह ने केंद्रीय उच्च शिक्षण संस्थानों में कंप्यूटर सेंटरों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा की शिक्षण से इतर कंप्यूटर सेंटर्स अपने संस्थानों के परिसर प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। इसके अलावा विश्वविद्यालयों तथा संस्थानों में डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन के माध्यम से विकास को गति प्रदान कर सकते हैं।
इस अवसर पर एचपी कंपनी के कुमारस्वामी विक्रम ने उच्च शिक्षण संस्थाओं में आते डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन पर चर्चा करते हुए काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के परिसर में आये बदलाव उसमें एचपी कंपनी की सहभागिता पर हर्ष जताया।
ईआरनेट की डॉ. नीना पाहूजा ने कम्प्यूटिंग तकनीक में होते नित नए विकासों के माध्यम से डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन को आगे बढ़ाते हुए चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र से तालमेल बिठाते हुए सर्वाइकल कैंसर जैसे जटिल रोगों के आरंभिक स्थितियों में आकलन, थ्रीडी प्रिंटिंग जैसी तकनीक से कॉर्निया प्रिटिंग सहित कृतिम अंगों के निर्माण से रोगों के ईलाज आदि संभावनाओं की जानकारी दी।
इस अवसर पर संचार मंत्रालय, भारत सरकार के प्रतिनिधि आरके पाठक ने बीएचयू के मोबाइल ऐप लॉन्चिंग के अवसर पर शुभकामनाएं देते हुए मोबाइल ऐप की चर्चा करते हुए कहा कि इस तरह के कदम छात्रों को उद्यमशील बनने में मदद करेंगे। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के संयुक्त कुलसचिव मयंक नारायण सिंह ने धन्यवाद दिया। कार्यक्रम का संचालन चंद्राली मुखर्जी ने किया।
इसके पश्चात के सत्रों में डॉ. नीना पाहूजा ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, आरके पाठक ने 5- जी तकनीक, सिलोहू राव ने डिजिटल इनिशिएटिव्स और सुनील खन्ना ने डेटा इकोसिस्टम पर अपने व्याख्यान दिए। इसके अलावा नेक्स्ट जनरेशन कनेक्टिविटी और एरा ऑफ डेटा विषयों पैनल डिस्कशन हुए तथा वक्ताओं के साथ छात्र-छात्राओं के सवाल जवाब के सत्र हुए।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned