पीएम मातृ वंदना योजना में धांधली, 60-65 साल की महिलाओं को गर्भवती बताकर बांटे पैसे

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में बड़ा घोटाला सामने आया है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के बलिया में आशा बहुओं और विभागीय कर्मचारियों की साठ-गांठ से योजना में जमकर फर्जीवाड़ा कर लूट की गई है।

By: Karishma Lalwani

Published: 18 Sep 2020, 04:32 PM IST

वाराणसी. प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में बड़ा घोटाला सामने आया है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के बलिया में आशा बहुओं और विभागीय कर्मचारियों की साठ-गांठ से योजना में जमकर फर्जीवाड़ा कर लूट की गई है। पीएम मातृ वंदना योजना में गर्भवती महिलाओं को सरकार की ओर से छह हजार रुपये दिए जाने का प्रावधान है, लेकिन कुछ अधिकारी योजना के नाम पर मोटी रकम कमाने के चक्कर में धांधली कर रहे हैं। बलिया की नगर पीएचसी पर इस योजना में जमकर धांधली की गई है। नगर पीएचसी में आशा बहुओं और विभागीय कर्मचारियों की मिलीभगत से दर्जनों अपात्र महिलाओं को योजना का लाभ दिलवा कर फर्जीवाड़ा किया गया है। लाभ पाने वाली महिलाओं में कई की उम्र 60-65 के बीच है।

विभागीय कर्मचारी लीपापोती में जुटे

मामला सामने आने के बाद विभागीय कर्मचारी लीपापोती करने में जुटे हैं। नगरा पीएचसी में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना को संचालित करने वाली यूनिट के तहत काम करने वाली रीता देवी ने मानकों के आधार पर काम न करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि उनके पास इस योजना के आवेदन फॉर्म जमा न करके, संबंधित कंप्यूटर ऑपरेटर सीधे फॉर्म जमा कर रहे हैं।

तीन सदस्यीय जांच कमेटी होगी गठित

मामले के तूल पकड़ने पर सीएमओ जितेंद्र पाल ने जांच के लिए कमेटी गठित की है। पीएचसी नगरा के प्रभारी डॉ. एस.के. गुप्ता ने बताया कि उन्होंने संबंधित कंप्यूटर ऑपरेटर से लाभार्थियों से जुड़ी पत्रावलियों को तलब किया था, लेकिन उन्हें अब तक कोई भी पत्रावली उपलब्ध नहीं करवाई गई है। इसकी सूचना उच्च अधिकारियों को दे दी गई है। मामले की जांच के लिए सीएमओ द्वारा तीन सदस्यीय जांच समिति गठित की जाएगी।

ये भी पढ़ें: ट्रस्ट ने किया एफसीआरए आवेदन, अब विदेश में रहने वाले रामभक्त दे सकेंगे आसानी से मंदिर निर्माण के लिए चंदा

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned