बीजेपी में गहराया विवाद, योगी के तीन मंत्रियों के खिलाफ खड़े हुए भाजपा सांसद

बीजेपी में गहराया विवाद, योगी के तीन मंत्रियों के खिलाफ खड़े हुए भाजपा सांसद
Bjp,

प्रदेश सरकार के तीन मंत्रियों पर बीजेपी सांसदों ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप, मोदी से की हस्तक्षेप की मांग

वाराणसी/आजमगढ़. केंद्र की मोदी सराकार के सांसद और यूपी के योगी सरकार के मंत्रियों के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। अभी हाल में मऊ सांसद और वन मंत्री का पत्र वायरल होने से सरकार की किरकिरी हुई थी, लेकिन अब मंत्री और सांसद खुलकर आमने सामने हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गुरुवार को पूर्वी यूपी के सांसदों की बैठक हुई तो आजमगढ़ मंडल के मऊ जनपद के सांसद हरिनारायण राजभर व बलिया के सांसद भरत सिंह ने योगी सरकार के डिप्‍टी सीएम सहित तीन मंत्रियों पर भ्रष्‍टाचार को बढ़ावा देने का आरोप लगा दिया। साथ ही सांसदों ने यूपी में सरकार की छवि बचाने के लिए पीएम से हस्‍तक्षेप का अनुरोध किया। पीएम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए समस्‍या के जल्‍द समाधान का आश्‍वास दिया।

यहां से हुई विवाद की शुरूआत

मऊ जिले के सांसद हरिनारायण राजभर ने पिछले दिनों पीडब्‍ल्‍युडी विभाग का निरीक्षण किया था, जिसमें काफी अनियमितता पाई गई थी। इसके बाद सांसद ने अधिशासी अभियंता के खिलाफ डिप्‍टी सीएम व पीडब्‍ल्‍युडी मंत्री केशव प्रसाद मौर्य को पत्र लिखा। इसी बीच वन मंत्री दारा सिंह चौहान मामले में कूदे और अधिशासी अभियंता का न केवल बचाव किया बल्कि उन्‍हें ईमानदार बताते हुए निलंबन रोकने के लिए उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को प्रत्र दिया। इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई, दोनों नेताओं का पत्र वायरल होने से सरकार की किरकिरी जरूर हुई। तभी से सांसद और योगी सरकार के मंत्रियों के बीच तलवारें खिंची हुई है।

मंत्री नहीं सुनते सांसदों की समस्‍या

मऊ जिले के सांसद हरिनारायण व बलिया के भरत सिंह ने शिक्षा, पीडब्‍ल्‍युडी, वन विभाग सहित कई कार्यालयों का निरीक्षण किया। इस दौरान मिली शिकायतों और भ्रष्‍टाचार की शिकायत उक्‍त सांसदों ने संबंधित विभाग और उनके मंत्रियों से की लेकिन उनकी शिकायत को अनसुनी की। वन मंत्री से सीधे सीधे मऊ सांसद के खिलाफ खड़े हो गए।

पीएम से की यह शिकायत

दोनों सांसदों ने पीएम मोदी से सिर्फ शिकायत ही नहीं की बल्कि मंत्रियों द्वारा किये गये भ्रष्‍टाचार के कुछ उदाहरण भी पीएम को दिये। उन्‍होंने कहा कि मंत्रियों की मनमानी से योगी सरकार की छबि गिर रही है। वहीं विकास कार्यो में सांसदों की सलाह भी नहीं ली जा रही है और ना ही उनकी कोई सुनवाई हो रही है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned