EXCLUSIVE दयाशंकर-स्वाति के पाला बदलने की आशंका से घबराई बीजेपी

EXCLUSIVE दयाशंकर-स्वाति के पाला बदलने की आशंका से घबराई बीजेपी
swati singh

दलित वोट के बाद क्षत्रिय वोट बैंक दरकने से बेचैन भाजपा फिर सड़क पर उतरने की तैयारी में

वाराणसी. दलित वोट बैंक दरकने के बाद क्षत्रिय वोट बैंक को भी हाथ से फिसलते देख बेचैन भाजपा एक बार फिर सड़क पर उतरने की तैयारी में है। पार्टी की लंबे समय से सेवा करने वाले दयाशंकर को भाजपा ने प्रदेश उपाध्यक्ष के पद से नवाजा था लेकिन उनके एक बोल ने उत्तर प्रदेश की राजनीति की दिशा बदल दी। घबराई भाजपा ने बिना हिचक पहले तो दयाशंकर सिंह को पद से हटाया और फिर छह साल के लिए पार्टी से बाहर का रास्ता भी दिखा दिया। दयाशंकर सिंह के बयान के पहले बैंक सीट पर मौजूद बसपा फं्रट सीट पर आ गई लेकिन बसपाइयों से भी वही गलती हो गई। बसपाइयों के बिगड़े बोल पर भाजप असमंजस में थी लेकिन दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह ने क्षत्राणी का रूप धर लिया और पूरा क्षत्रिय समाज स्वाति सिंह के साथ खड़ा हो गया। 


भाजपा को समझ में आ गया कि उससे बड़ी भूल हो गई क्योंकि जब दयाशंकर सिंह और उसके परिवार के साथ पार्टी को मजबूती से खड़ा होना चाहिए था तब भाजपा ने वोट बैंक की खातिर परिवार से पल्ला झाड़ लिया था लेकिन स्वाति सिंह के बदले तेवर ने पूरी राजनीति बदल दी। बसपा फिर से बैक सीट पर तो गई ही, भाजपा से भी क्षत्रिय समाज खफा हो गया। 


सपा समेत अन्य राजनीतिक दलों में मौजूद क्षत्रिय नेताओं ने स्वाति सिंह से संपर्क साधकर उन्हें अपनी पार्टी में आने का न्यौता देना शुरू कर दिया। बाजी हाथ से निकलते देख भाजपा ने दयाशंकर की बेटी को लेकर बसपाइयों द्वारा की गई अशोभनीय टिप्पणी के मामले में भाजपा ने आननफानन में प्रदेश में धरना-प्रदर्शन किया लेकिन स्वाति सिंह और उनके परिवार ने खास तवज्जो नहीं दी। भाजपा की बेचैनी बढ़ती गई क्योंकि एक तरफ दलित वोट बैंक दरका तो दूसरी तरफ क्षत्रिय समाज भी नाराज हुआ। 

मायावती पर की गई अभद्र टिप्पणी के मामले में गिरफ्तार दयाशंकर सिंह फिलहाल जेल से बाहर आ गए है। जेल से बाहर आने के बाद उन्होंने खामोशी की ऐसी चादर ओढ़ रखी है कि भाजपा में घबराहट है क्योंकि दयाशंकर सिंह भी अब पाला बदल सकते हैं। सूत्रों के अनुसार पूर्वांचल के एक बाहुबली क्षत्रिय नेता भी दयाशंकर सिंह के संपर्क में बने हैं ताकि उन्हें अपनी पार्टी में लाने की कवायद की जा सके।


दयाशंकर सिंह व क्षत्रिय समाज की नाराजगी दूर करने के लिए भाजपा एक बार फिर सड़क पर उतरने की तैयारी में है। पार्टी सूत्रों के अनुसार आगामी 11 अगस्त को भाजपा प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन की तैयारी में है। पिछली बार प्रदर्शन में नारा दिया गया था बेटी के सम्मान में भाजपा मैदान में लेकिन इस बार नारा होगा बहू-बेटी के सम्मान में भाजपा मैदान में। अब देखना होगा कि दयाशंकर सिंह का परिवार भाजपा के इस प्रदर्शन में शामिल होता है नहीं।  
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned