अखिलेश कराएंगे चुनाव से पहले यूपी के बुजुर्गों को तीर्थयात्रा

अखिलेश कराएंगे चुनाव से पहले यूपी के बुजुर्गों को तीर्थयात्रा
cm akhilesh yadav

21 से शुरू हो रही यात्रा के लिए जल्दी कराइए अपने माता-पिता का इस वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन

वाराणसी. समाजवादी श्रवण यात्रा शुरू करके सूबे के युवा मुखिया अखिलेश यादव एक बार फिर उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ नागरिकों को मुफ्त में तीर्थयात्रा पर ले जाने की तैयारी में जुट गए हैं। परिवार में मचे सियासी संग्राम के बीच अखिलेश यादव ने विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए इसी माह इस यात्रा के लिए हरी झंडी दे दी है। 21 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक रेलवे की मदद से यह यात्रा संपन्न होगी। तो अगर आप उत्तर प्रदेश के नागरिक हैं और आप या आपके माता-पिता वरिष्ठ नागरिक की श्रेणी में आते हैं तो फिर देर मत कीजिए, फटाफट वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराइए और बैग पैक करना शुरू कर दीजिए। योजना का लाभ पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर मिलेगा यानि बिना किसी सिफारिश के, बस आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी लेकिन आप बीते साल श्रवण यात्रा कर चुके हैं तो इस बार इसका लाभ आपको नहीं मिलेगा। सरकार की नीति के तहत सूबे के वरिष्ठ नागरिकों को सरकार की तरफ से सिर्फ एक बार ही श्रवण यात्रा का लाभ मिलेगा। 

तीर्थयात्रा जाने के लिए सरकार की वेबसाइट  samajwadishravanyatra.upgov.info पर अपना आवेदन सभी वांछित अभिलेख सहित अपलोड कर सकते हैं। इसके लिए सरकार ने दस अक्टूबर तक का समय दिया है। तीर्थयात्रा के इच्छुक नागरिक अपने जिले में जिलाधिकारी के समक्ष भी अपने दस्तावेज प्रस्तुत कर सकते हैं। जिलाधिकारियों द्वारा प्रस्तुत आफलाइन प्रार्थना पत्रों पर उनके प्राप्त होने की तिथि अंकित होगी। जिलाधिकारी उन प्रार्थना पत्रों को वेबसाइट पर फीड कराएंगे। तैयार सूची में से यात्रा के लिए यात्रियों का चयन उनकी जन्न्मतिथि और प्रार्थना पत्र प्राप्त होने की तिथि के आधार पर किया जाएगा। यहीं नहीं यात्रियों का यात्री बीमा भी कराया जाएगा। यह अलग बात है कि यात्रा कि दौरान यदि किसी तीर्थयात्री की मृत्यु होती है तो धर्माथ कार्य विभाग की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी। 

बीते वर्ष भी मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने धमार्थ कार्य विभाग के जरिए श्रावण यात्रा, समाजवादी यात्रा के नाम पर सूबे के बुजुर्गों को यात्रा करा चुके हैं। अखिलेश यादव के चलते जिन्हें भी तीर्थयात्रा का लाभ मिला वह उन्हें श्रवण कुमार के नाम से पुकारते हैं। सभी भी है क्योंकि आज की भागदौड़ की जिंदगी में ऐसे बेटे बहुत कम हैं जो अपने माता-पिता को तीर्थयात्रा पर ले जाए। 

अखिलेश सरकार इस बार रेलवे की मदद से वरिष्ठ नागरिकों को जगन्नाथ पुरी एवं भुवनेश्वर ले जा रही है। प्रमुख सचिव धर्मार्थ कार्य नवनीत सहगल की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि यह यात्रा सूबे के वरिष्ठ व मूल निवासियों के लिए अनुमन्य है। यात्रा आईआरटीसी द्वारा संपन्न कराई जाएगी। चयनित यात्रियों को एक विशेष रेलगाड़ी से चार्टर किया जाएगा जो लखनऊ से जगन्नाथ पुरी, भुवनेश्वर एवं वापस लखनऊ तक यात्रा करेगी। यात्रा के दौरान तीर्थयात्रियों को सामान्य श्रेणी की सुविधाएं अनुमन्य होगी। 

तीर्थयात्रियों को उनके गृह जनपद से लखनऊ लाने की जिम्मेदारी राज्य सड़क परिवहन निगम की तरफ से निशुल्क व्यवस्था होगी। तीर्थयात्रा के दौरान यात्रियों को सुबह की चाय, नाश्ता, दोपहर का भोजन, शाम का नाश्ता और रात का भोजन भी जो शाकाहारी होगा, उपलब्ध कराया जाएगा। 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned