अंसारी बंधुओं का किला ढहाने गाजीपुर आ रहे अखिलेश

अंसारी बंधुओं का किला ढहाने गाजीपुर आ रहे अखिलेश
akhilesh and mokhtar

अखिलेश के चलते टूटा था कौएद का सपा में विलय, 29 अगस्त को करेंगे पहली सार्वजनिक सभा


वाराणसी. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अंसारी बंधुओं को जवाब देने अगस्त में गाजीपुर की धरती पर कदम रखेंगे। मुख्यमंत्री बनने के बाद अखिलेश की यह पहली सार्वजनिक सभा होगी। गाजीपुर में उनकी होने वाली सार्वजनिक सभा को लेकर सपा के साथ ही पूर्वांचल में सरगर्मी बढ़ गई है। अखिलेश की यह सभा इसलिए खास बन गई है क्योंकि गाजीपुर-मऊ अंसारी बंधुओं का गढ़ माना जाता है। अंसारी बंधुओं की पार्टी कौमी एकता दल का सपा में विलय होते-होते रह गया था। शिवपाल यादव की कोशिशों के बाद भी अखिलेश की जिद के चलते अंसारी बंधुओं का सपा के साथ कदमताल का सपना टूट गया था। 


सपा में विलय रद होने से अंसारी बंधुओं ने अखिलेश यादव के खिलाफ सार्वजनिक रूप से मोर्चा खोल दिया था। अखिलेश यादव व सपा को आगामी विधानसभा चुनाव में औकात तक दिखाने की बात कह डाली थी। अखिलेश यादव ने अंसारी बंधुओं की बयानबाजी पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी। सपा के नेताओं को भी समझ नहीं आ रहा था कि आखिर अखिलेश यादव क्यों पूर्वांचल के बाहुबली भाइयों को जवाब नहीं दे रहे। जबकि कुछ समय पूर्व ही उन्होंने बाहुबली अतीक को सार्वजनिक मंच से धक्का देकर हटा दिया था। बसपा के बाहुबली नेता विनीत सिंह ने एक पोस्टर जारी किया और अखिलेश की नजर टेढ़ी क्या हुई, बसपा नेता अब तक फरार चल रहा है और बिहार के किसी जिले में फरारी काट रहा है।  

 
सपा को इसका जवाब मिल गया है कि आखिर क्यों उनके अखिलेश भईया खामोशी की चादर ओढ़े थे। जानकारी के मुताबिक अखिलेश यादव बाहुबली विधायक मोख्तार अंसारी व उनके भाई अफजाल व सिबगुतल्लाह अंसारी के तीखे हमलों का अपने तरीके से जवाब देने 29 अगस्त को गाजीपुर आएंगे। यहां करमपुर में मेघबरन सिंह स्टेडियम के एस्ट्रोटर्फ का उद्घघाटन करने के साथ ही सभा को संबोधित करेंगे। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री जिला मुख्यालय पर गोराबाजार में नवनिर्मित 200 बेड के जिला अस्पताल का भी लोकार्पण करेंगे। 


मुख्यमंत्री बनने के बाद अखिलेश यादव का गाजीपुर दो बार आगमन हुआ है। वर्ष 2014 में समाजवादी नेता रामकरन दादा के प्रतिमा के अनावरण व इसी साल फरवरी में पूर्व पंचायती राज्य मंत्री कैलाश यादव के त्रयोदशाह में। दोनों बार माहौल ऐसा था कि अखिलेश ने सार्वजनिक मंच पर नहीं आ सके। इस बार अखिलेश यादव पूरी तैयारी के साथ गाजीपुर की धरती पर कदम रख रहे हैं।


अखिलेश यादव के आने की खबर से अंसारी बंधुओं के खेमे में बेचैनी है क्योंकि अखिलेश यादव का युवाओं में खासा प्रभाव है। अंसारी बंधु भी इसी कारण सपा में आना चाह रहे थे। ऐसे में अखिलेश के गाजीपुर आने से गाजीपुर के साथ ही आसपास के क्षेत्रों पर भी इसका खासा प्रभाव पड़ेगा। अंसारी बंधुओं की हालत फिलहाल वैसे ही खस्ता है। आइएमआइएम ने भी कौएद के साथ फिलहाल गठबंधन की संभावना से इंकार किया है। फिलहाल सत्ता की चाह में अंसारी बंधु फिलहाल कांग्रेस के साथ ही उन दलों की तरफ देख रहें हैं जो सपा, बसपा और भाजपा के खिलाफ एकजुट होकर मैदान में उतरे। 
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned