तो फिर सीएम योगी नहीं जान पायेंगे सच,  देखते-देखते बदल गयी व्यवस्था

पीएम के संसदीय क्षेत्र में दो दिन होगी अधिकारियों की परीक्षा, जानिए क्या है कहानी


वाराणसी. मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार योगी आदित्यनाथ वाराणसी आ रहे हैं। सीएम योगी का यह दौरा 26 मई से आरंभ होगा और 27 मई तक चलेगा। सीएम के प्रोटोकाल के अनुसार दर्शन-पूजन के साथ विभिन्न योजनाओं की समीक्षा करेंगे। सीएम के आगमन से पहले ही शहर की स्थिति सुधारने में अधिकारी जुट गये हैं। जिन जगहों की सड़के खराब थी वहां पर रातों-रात सड़क पर पैचवर्क कर दिया गया है। ऐसे में सीएम योगी आदित्यनाथ को शहर की सही तस्वीर नहीं दिख पायेगी।
पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र की व्यवस्था सुधारने के लिए ही सीएम योगी आदित्यनाथ आ रहे हैं। पीएम के संसदीय क्षेत्र की स्थिति में बहुत सुधार नहीं हुआ है। विकास कार्यों के चलते यहां की सड़कों की लगातार खुदाई जारी है। एक बार सड़क खुद गयी तो उसे बनाने वाला कोई नहीं है। यूपी में जब बीजेपी की सरकार आयी थी तो लगा था कि विद्युत आपूर्ति व्यवस्था में सुधार होगा। पिछले कुछ दिनों से गर्मी के साथ ही कटौती बढ़ गयी है। अपराध नियंत्रण में पुलिस फेल साबित हुई है। भू माफिया, अवैध कब्जे, अतिक्रमण आदि को लेकर भी शासन ने अभी तक सख्ती नहीं दिखायी है।



सीएम योगी के सामने नहीं आयेगी सही तस्वीर
सीएम योगी आदित्यनाथ के सामने सही तस्वीर नहीं आ पायेगी। जिन जगहों पर सीएम योगी का जाना है वहां की व्यवस्था में पहले ही सुधार किया जा रहा है। सीएम योगी जब तक रहेंगे, तब तक विद्युत आपूर्ति व्यवस्था भी ठीक रखने की तैयारी है। ऐसे में सीएम योगी के सामने शहर ही सही तस्वीर सामने नहीं आ पायेगी।



सीएम के प्रोटोकाल में नहीं शामिल वरुणा कॉरीडोर जाना
सीएम के प्रोटोकॉल में वरुणा कॉरीडोर जाना नहीं शामिल है। वरुणा कॉरीडोर में जनता के करोड़ों रुपये खर्च हो चुके हैं और लंबे समय से काम लगभग बंद है। काम से जुड़े लोगों को बाढ़ आने का इंतजार है, जिसमे वरुणा कॉरीडोर के डूबने से सारा मामला ठंडा हो जायेगा। निर्माण में क्या खेल हुआ है इसका खुलासा भी होना कठिन होगा।



सीएम योगी के मंत्री लगातार निरीक्षण कर रहे
सीएम योगी के मंत्री सुरेश खन्ना, डा.नीलकंठ तिवारी, अनिल राजभर लगातार विकास कार्यों की समीक्षा के लिए स्थलीय निरीक्षण कर रहे हैं। इसके बाद भी व्यवस्था में अधिक परिवर्तन नहीं हुआ है। अब देखना है कि सीएम योगी आदित्यनाथ के निरीक्षण करने के बाद व्यवस्था में बदलाव होता है या नहीं। अपने मंत्रियों की तरह सीएम योगी सिर्फ चेतावनी व फटकार लगाते हैं या फिर कड़ी कार्रवाई कर अफसरशाही को जिम्मेदार बनायेंगे।

Show More
Devesh Singh
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned