PAKISTANI कलाकार गुलाम अली पर धार्मिक भावनाएं भड़काने का आरोप

PAKISTANI कलाकार गुलाम अली पर धार्मिक भावनाएं भड़काने का आरोप
pakistani artist ghulam ali

वाराणसी के न्यायालय में अधिवक्ता ने दाखिल किया परिवाद, जानिए क्या है मामला

वाराणसी. संकट मोचन संगीत समारोह में अपनी प्रस्तुति देने आए पाकिस्तान के गजल सम्राट कानूनी पचड़े में फंसते दिख रहे हैं। बुधवार को अधिवक्ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने गुलाम अली के खिलाफ वाराणसी की अदालत में परिवाद दाखिल किया है। 
अधिवक्ता ने पाकिस्तान के नागरिक व ख्यातिलब्ध गजल सम्राट पर संकट मोचन मंदिर में मंगलवार को अपनी प्रस्तुति देने पर आपत्ति जताते हुए न्यायालय में उनपर धार्मिक भावनाएं आहत करने, सांप्रदायिक माहौल बिगाडऩे का आरोप लगाया है। इस मामले में अधिवक्ता ने संकट मोचन मंदिर के महंत पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं। 

गौरतलब हैं कि संकट मोचन मंदिर संगीत समारोह में वहां के महंत विश्वंभर नाथ मिश्र ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित के साथ ही गुलाम अली को भी न्यौता दिया था। इसकी जानकारी होने पर वाराणसी में हिंदू संगठन लगातार इसका विरोध कर रहे थे। उच्चायुक्त तो वाराणसी नहीं आए लेकिन मंगलवार को विरोध के बीच गुलाम अली ने संकट मोचन मंदिर में सुर साधा। 
शिवसेना, हिंदू युवा वाहिनी व अधिवक्ताओं के एक दल का कहना था कि नौ साल पहले संकट मोचन मंदिर में पाकिस्तान की शह पर ही विस्फोट हुआ था जिसमें कई बेगुनाहों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। नृत्य-संगीत के बहाने पाकिस्तानी कलाकार भारत आते हैं और कमाई करते हैं जबकि भारत का कोई कलाकार पाकिस्तान जाने की बात करता है तो वहां की सरकार उसे वीजा देने से मना कर देती है। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned