अगस्त क्रांति दिवस पर कांग्रेस ने PM की काशी में खोला BJP के खिलाफ मोर्चा, दी गिरफ्तारी

अरसे बाद एकजुट दिखे कांग्रेसी, सभी खेमे के नेता समर्थकों संग पहुंचे जिला मुख्यालय, नोकझोंक के बाद पुलिस ने सभी को किया गिरफ्तार, पुलिस लाइन से निजी मु

By: Ajay Chaturvedi

Published: 09 Aug 2017, 06:42 PM IST

Varanasi, Uttar Pradesh, India

वाराणसी. महात्मा गांधी ने नौ अगस्त 1942 को नारा दिया था अंग्रेजों भारत छोड़ो, इस दिन को भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में मील का पत्थर माना जाता है। आजादी के बाद से कांग्रेसजन इस दिन क्रांतिकारियों, स्वतंत्रता सेनानियों को नमन करते रहे हैं। लेकिन इस बार कांग्रेस जनांदोलन समिति के संयोजकत्व में प्रदेश भर में कांग्रेस ने जेल भरो आंदोलन चलाया। इसी कड़ी में बनारस में भी कांग्रेसियों ने पूरे उत्साह के साथ आंदोलन में भागीदारी सुनिश्चित की। मजे की बात यह कि इस आंदोलन में अरसे बाद सभी कांग्रेसी पार्टीहित में खेमों को दूर रख कर एक मंच पर जुटे। उन्होंने बीजेपी नेतृत्व वाली केंद्र और प्रदेश सरकार के खिलाफ की नीतियों की जमकर मुखालफत की। जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। कलेक्ट्रेट के अंदर घुसने के प्रयास में पुलिस से उनकी नोकझोंक भी हुई। उसके बाद पुलिस ने सभी को हिरासत में ले लिया। कांग्रेसियों को पुलिस लाइन पहुंचाया गया जहां से शाम तक उन्हें निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया। गिरफ्तारी देने वालों में उत्तर प्रदेश कांग्रेस विधायक दल के नेता अजय कुमार 'लल्लू' भी शामिल थे।

 

गांधी ने जहां इस दिन को अंग्रेजों भारत छोड़ो का नारा दिया था वहीं आज कांग्रेसियों ने उसी तर्ज पर नारा दिया, 'अंग्रेजों के दलाल भारत छोड़ो, धोखेबाजों बेईमानों काशी छोड़ो' इसी नारे के साथ वे जिला मुख्यालय पहुंचे और किया जोरदार प्रदर्शन। इससे पहले अलग-अलग जत्थों में कांग्रेसी सुबह साढ़े नौ बजे से ही मुख्यालय से कुछ दूर पहले जेपी मेहता इंटर कॉलेज के समीप इकट्ठा होने लगे थे। यहां से कांग्रेसजनों का जुलूस अम्बेडकर मैदान से गोलघर होते पहुंचा जिला मुख्यालय। रास्ते भर कांग्रेसी बीजेपी की केंद्र व राज्य सरकार की नीतियों के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। उन्होंने कहा कि बीजेपी की सरकार में न सरहदें सुरक्षित हैं न देश के नागरिक। बीजेपी नारा देती है, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और करनी ये कि बीजेपी के प्रदेश स्तर के नेताओं के परिजन लड़कियों के साथ छेड़खानी करते हैं। और तो और पूरी पार्टी उनके बचाव में आ जाती है। ये बीजेपी के लोग हैं जो लगातार तीन साल से लोकतंत्र का गला घोंट रहे हैं। काशी के विकास का खुलासा भी किया उन्होने। कहा तीन साल में शहर बद से बदतर स्थिति में पहुंच गया है। प्रधानमंत्री देश भर में स्वच्छता अभियान चलाते हैं और उनके ही संसदीय क्षेत्र में गलियां और सड़कें गंदगी से बजबजा रही हैं। जगह-जगह सीवर ओवर फ्लो कर रहा है। सड़कें लगातार धंस रही हैं। एक आईपीडीएस है जो बिजली के तारों को भूमिगत कर रही जिसका नतीजा है कि उसके करंट की चपेट में आने से अभी तो बेजुबानों की मौत हो रही है, अगर समय रहते इसे दुरुस्त नहीं किया गया तो इंसान भी इसकी जद में आ सकते हैं।

 

इस आंदोलन के तहत पूर्व सांसद डॉ राजेश मिश्रा व पूर्व विधायक अजय राय के नेतृत्व में कांग्रेस जनों ने गिरफ्तारी दी। कांग्रेसियों का दावा है कि गिरफ्तारी के लिए पूलिस की गाड़ियां कम पड़ी तों कार्यकर्ता ही अपने साधन से पुलिस लाइन पहुंच गए। पुलिस लाइन भी कांग्रेसियों से भर सा गया लग रहा था। हालांकि तीसरे पहर ही सभी कांग्रेसियों को निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया। जुलुस में शामिल कार्यकर्ता धोखेबाजों काशी छोड़ो, बेईमानों की जांच कराओ, बेरोजगारों को धोखा, किसानों को धोखा, काशी संग धोखा, गंगा को धोखा, महिलाओं को धोखा आदि नारे लगा रहे थे। जेलभरो आंदोलन में शरीक होने वालों में पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्र और पूर्व मंत्री अजय राय के अलावा सतीश चौबे,अनिल श्रीवास्तव, प्रो. सतीश राय, डॉ प्रमोद पांडेय, बैजनाथ सिंह, प्रजानाथ शर्मा, अनिल श्रीवास्तव 'अन्नु', सीताराम केशरी, हरीशंकर सिंह, हरीश मिश्रा, प्रभात वर्मा, दिग्विजय सिंह, शैलेन्द्र सिंह, जेपी सिंह, नीतेश सिंह, संजय जोशी, परमहंस सिंह, श्रीष मिश्रा 'छोटा', अमिय शंकर त्रिपाठी, विजय तिवारी, अशोक पांडेय, अशोक चौरसिया, अफरोज अंसारी, अजय सिंह, शिवजी, डॉ. जितेंद्र सेठ, सैय्यद साजिद अली अनवार 'पप्पू', " डॉ. आनन्द श्रीवास्तव, प्रमोद वर्मा, पार्षदों में प्रमुख रूप से दिलिप यादव, साजिद अंसारी, अफजाल अंसारी, असलम खां, अनिसुर्रहमान अंसारी, रामकेश यादव, आनन्द कुशवाहा, संजय सिंह डाक्टर आदि प्रमख थे।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned