वाराणसी में कांस्टेबल की कोरोना से मौत के बाद जांच के आदेश, लापरवाही का अंदेशा

डीएम ने गठित की है तीन सदस्यी कमेटी।

वाराणसी. यूपी के वाराणसी में कोरोना से एक आैर मौत के बाद लापरवाही के आरोप लगे हैं। इस बार एक कांस्टेबल की बीएचयू में मौत हो गयी, जिसके बाद जिलाधिकारी ने भी लापरवाही मानते हुए न सिर्फ जांच के आदेश दिये हैं बल्कि तीन सदस्यीय कमेटी का गठन कर 24 घंटे में जांच रिपोर्ट तलब की है। बीएचयू में भर्ती मरीजों के साथ लापरवाही का यह कोई पहला मामला नहीं, इसके पहले भी तीन लोगों तीन लोगों की मौत के बाद लापरवाही के आरोप लगे थे और वीडियो भी वायरल हुए थे।


मण्डुआडीह पीआरबी पर ड्यूटी पर तैनात प्रतापगढ़ के कुंडा के रहने वाले 50 साल के कांस्टेबल मनोज पांडेय के कोरोना पाजिटिव पाए जाने के बाद उन्हें बीती 23 जुलाई को दीनदयाल उपाध्याय जिला अस्पताल में एडमिट कराया गया था। बुधवार को उनकी हालत गंभीर हुई तो उन्हेेें बीएचयू भेजा गया जहां शाम सात बजे उनकी मौत हो गई।

 

जिलाधिकार कौशल राज शर्मा ने कांस्टेबल की मौत के पीछे लापरवाही को कारण मानते हुए इसकी जांच के लिये तीन सदस्यीय कमेटी का गठन कर तीन सदस्यीय कमेटी का गठन करते हुए जांच का आदेश दिया। अपर निदेशक चिकित्सा व स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण डाक्टर बीएन सिंह की अध्यक्षता में बनी जांच कमेटी में एसएसपीजी चिकित्सालय के नेफोलाजिस्ट डाक्टर दिवाकर सिंह और एसएसपीजी के वरिष्ठ फिजीशियन डाक्टर एके सिंह को सदस्य बनाया गया है। इसय कमेटी से जिलाधिकारी ने 24 घंटे के भीतर मामले की रिपोर्ट मांगी है।

 

बताते चलें कि इसके पहले इससे पहले हरिश्चंद्र पीजी कालेज के पूर्व अध्यक्ष सुनील श्रीवास्तव कक्कू, प्रहलाद घाट के स्टूडियो संचालक अजय शुक्ला, एक फाइव स्टार होटल के मैनेजर आनंद पांडेय की मौत हो गई थी। इनके इलाज में भी लापरवाही का आरोप लगा था। आैर इनके आॅडियो, वीछियो व फेसबुक पोस्ट भी खूब वायरल हुर्इ। यही नहीं तीन दिन पहले बीएचयू में भर्ती पुणे के एक डाक्टर की मां ने भी बीएचयू पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए सीएम योगी से मुलाकात की कोशिश की थी।

Coronavirus Pandemic
Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned