पूरा देश पुलवामा नरसंहार से दुःखी, मेयर चला रही थीं कार्यकारिणी की बजट बैठक, सपा-कांग्रेस पार्षदों का बहिष्कार, शहीदों को दी श्रद्धांंजलि

पूरा देश पुलवामा नरसंहार से दुःखी, मेयर चला रही थीं कार्यकारिणी की बजट बैठक, सपा-कांग्रेस पार्षदों का बहिष्कार, शहीदों को दी श्रद्धांंजलि
कार्यकारिणी बैठक का बहिष्कार कर श्रद्धांजलि देते पार्षद

Ajay Chaturvedi | Updated: 16 Feb 2019, 02:48:46 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

नगर निगम कार्यकारिणी की बैठक में कांग्रेस के मुस्लिम पार्षदों की पहल, शहीदों को दी जाए श्रद्धांजलि। मेयर ने किया इंकार।

वाराणसी. एक तरफ पूरा देश जम्मू कश्मीर के पुलवामा नरसंहार पर दुःखी है। चारों तरफ बच्चे से बूढे तक की आंखें नम है, दिल गमज़दा है। दिमाग में गुस्सा भरा है। समूची काशी में पिछले तीन दिन से केवल श्रद्धांजलि सभा, कैंडिल मार्च निकाले जा रहे हैं। लेकिन भाजपा बहुमत वाले वाराणसी नगर निगम के प्रतिनिधिय़ों यहां तक कि मेयर तक को इससे कोई परवाह नहीं। नगर निगम की ओर से आगामी वित्त वर्ष के लिए शनिवार को कार्यकारिणी समिति की बैठक आहूत की गई। बैठक की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस और सपा पार्षदों ने पुलवामा में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देने के साथ आज की बैठक स्थगित करने का प्रस्ताव रखा जिसे कार्यकारिणसी की सभापति मेयर ने खारिज कर बैठक की कार्यवाही शुरू करने की व्यवस्था दी जिसके विरोध में पार्षदों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया और नगर निगम के समिति कक्ष जहां यह बैठक चल रही थी उसके दरवाजे पर ही धरने पर बैठ गए।

इस संबंध में पार्षदों का कहना था कि निगम कार्यकारिणी की बैठक दिन के 11 बजे शुरू हुई। यह बजट बैठक थी जिसका एजेंडा 12 फरवरी को ही कार्यकारिणी के सदस्यों को मुहैया करा दिया गया था। बैठक शुरू होते ही हम लोगों, समिति के सदस्य प्रशांत सिंह, रमजान अली, गोपाल यादव, रेशमा परवीन ने पुलवामा में सीआरपीएफ के 43 जवानों के आतंकवादी हमले में शहादत पर श्रद्धांजलि देने के लिए शोक प्रस्ताव प्रस्तुत किया। प्रशांत सिंह ने प्रस्ताव पढा। लेकिन मेयर मृदुला जायसवाल ने बैठक स्थगित न करते हुए उसे जारी रखने की व्यवस्था दी। इससे क्षुब्ध हो कर कांग्रेस और सपा के पार्षदों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया और समिति कक्ष के बाहर धरने पर बैठ गए।

कार्यकारिणी की बैठक का बहिष्कार करने वाले पार्षदों ने समिति कक्ष के बाहर की मोमबत्ती जलाई और वहीं पुलवामा में शहीद जवावों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि देश के जवान सीमा पर सुरक्षा करते हैं, तब हम संसद, विधानसभा और मिली सदन चलाते हैं। देश चलाते है। देश में इतनी बड़ी घटना हो फिर भी मेयर को बजट बैठक की पड़ी है। बजट की बैठक को स्थगित कर दूसरे दिन भी आहूत किया जा सकता था। आज पूरा देश सेना के जवानों के साथ है। नगर निगम वाराणसी को भी सेना के जवानों के साथ होना चाहिए था। लेकिन मेयर के हिटलरशाही रवैये के कारण नगर निगम की शाख को बट्टा लगा है। एक पार्षद की पत्नी की मृत्यु पर सदन की बैठक स्थगित हो सकती है तो क्या देश की रक्षा के लिए अपनी जान गंवाने वाले जवानों के शहीद होने पर सदन या कार्यकारिणी की बैठक स्थगित नहीं हो सकती।

श्रद्धांजलि सभा और बैठक का बहिष्कार करने वालों में प्रशांत सिंह, रमजान अली, गोपाल यादव, रेशमा परवीन, हारुन अंसारी, साजिद अंसारी, असलम खान आदि प्रमुख थे।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned