कोरोना काल की झकझोर देने वाली तस्वीर, बिना इलाज मर गया बेटा, ई रिक्शा में लाश ले जाने को मजबूर हुई मां

कहा जा रहा है कि महिला अपने बेटे की किडनी का इलाज कराने बीएचयू आई थी। पर इलाज न मिलने से बेटे की मौत हो गई। जिसके बाद एंबुलेंस नहीं मिली तो दुखियारी मां अपने बेटे का शव ई रिक्शा में भरकर ले जाने को मजबूर हुई।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. ई रिक्शा में बदहवास बैठी महिला और उसके कदमों में पड़ी जवान बेटे की लाश। आत्मा को झकझोर देने वाली हृदय विदारक तस्वीर वाराणसी से वायरल हुई। मां अपने बेटे की किडनी का इलाज कराने उसे लेकर बनारस आई थी, लेकिन कहा जा रहा है कि इलाज में देरी के चलते बेटे की मौत हो गई और शव लेे जाने के लिये उसे कोई एंबुलेंस भी मयस्सर नहीं हुआ, जिसके बाद दुखियारी मां ई रिक्शा में बेटे का शव इस हाल में ले जाने को मजबूर हुई। जब ये तस्वीर सोशल मीडिया पर आई तो खूब वायरल होने लगी।


जानकारी के मुताबिक मुंबई में रहकर काम करने वाला जौनपुर निवासी युवक शादी के किसी आयोजन में भाग लेने के लिये आया हुआ था। इसी बीच उसकी तबीयत बिगड़ी तो उसे इलाज के लिये वाराणसी ले जाया गया। पर यहां उसे भर्ती नहीं कराया जा सका और कहा जा रहा है कि इलाज में देरी से उसकी मौत हो गई। इसके बाद शव ले जाने के लिये एंबुलेंस नहीं मिली तो दुखियारी मां ई रिक्शा में ही जैसे तैसे बेटे का शव (Dead Body in E Rickshaw) लेकर चल दी।


बताते चलें कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर (Corona Second Wave) आने के बाद प्रदेश के दूसरे शहरों की तरह वाराणसी में स्वस्थ्य व्यवस्था का बुरा हाल है। अस्पतालों में बेड्स और ऑक्सीजन की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। वारराणसी में बीते दिन 2500 से अधिक केस सामने आए। यहां 16,152 कोरोना एक्टिव केस हैं जबकि अब तक 525 की मौत हो चुकी है। लखनऊ के बाद सबसे अधिक एक्टिव केस के मामले में वाराणसी दूसरे नंबर पर है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned