काशी में पूजी गईं गौ माता, गोशालाओ में उत्सवी माहौल

कार्तिक मास की अष्टमी तिथि को मनायी जाती है गोपाष्टमी.

By: Ajay Chaturvedi

Published: 15 Nov 2018, 04:14 PM IST

Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

वाराणसी. कार्तिक मास की अष्टमी तिथि को गोपाष्टमी के नाम से जाना जाता है। इस दिन गाय माता का विधि पूर्वक श्रृंगार कर पूजन करने की परंपरा है। शिव की नगरी काशी की गोशालाओ में गुरुवार को उत्सव सा माहौल रहा। गाय माता को नया वस्त्र सहित आभूषण पहनाकर पूजन किया गया। साथ ही आरती उतारी गई। बताया जाता है कि आज ही के दिन श्री कृष्ण सात साल के हुए थे और इनको गोपाल के नाम से जाना गया।

शिव की नगरी काशी में गुरुवार को गोपाष्टमी पर्व की धूम रही। शहर की गोशालाओ में सुबह से ही गौ भक्तो की भारी भीड़ देखने को मिली। भक्त गो माता की पूजा आराधना करने में जुटे रहे। इसके तहत दुर्गाकुंड स्थित धर्मसंघ शिक्षा मंडल की गोशाला में गायो के षोडशोचार पूजन के बाद विशेष भोग लगाया गया। फिर आरती उतारी गई। पूजन के उपरांत भव्य गो यात्रा निकाली गई। यात्रा में सबसे आगे विशाल धर्म ध्वजा साथ पांच डमरू के डिम डिम के अनुगूंज के साथ सुसज्जित गोमाता चल रही थीं, जिसके पीछे सैकड़ों बटुक धर्म ध्वजा के साथ चल रहे थे। यात्रा के अंत में गोभक्त भजन कीर्तन करते चल रहे थे।
यात्रा धर्म संघ परिसर से निकल कर गुरुधाम भेलूपुर सोनारपुरा अस्सी होते हुए धर्म संघ शिक्षा मंडल में समाप्त हुई। रास्ते में आधे दर्जन जगह गाय कि पूजा के साथ आरती उतारी गयी। शास्त्रों के अनुसार गाय में 33 कोटि देवी देवता का निवास होता है यही वजह है कि सनातन धर्म में गोमाता का विशेष महत्त्व है। साथ ही आज के दिन से ही भगवान श्री कृष्ण गायों को चराने का काम शुरू किया था। बात यदि दूसरी ओर करें तो गाय का मूत्र से दूध तक सभी मानव जीवन के लिए उपयोगी होता है बल्कि घर और मंदिर में होने वाली देव पूजा भी पूरी नहीं मानी जाती।
गो पूजन धर्म संघ शिक्षा मंडल के महामंत्री जगजीतन पांडेय के नेतृत्व में एमएलसी केदार नाथ सिंह विधायक सुरेंद्र सिंह, सुधीर मिश्र, अध्यक्ष आईएमए डॉ भानुशंकर पांडेय,अध्यक्ष सेंट्रल बार एसोसिएसन प्रभु नाथ पांडेय, सुनील सिंह आदि शामिल रहे। वहीं गो शोभायात्रा में कुमार प्रभुनारायण, मनोज पांडेय, देवेन्द्र मिश्रा, शशिकांत पांडेय, राजमंगल पांडेय, रमेश ओझा, गिरीश उपाध्याय, प्रभात सिंह, सुबोध त्रिपाठी, दिलीप पांडेय, धनंजय तिवारी, रविन्द्र सिंह, विनायक राजपूत, रजत मिश्र, बृजेश, विजय मिश्रा, सुभाष पांडेय, कृष्ण मोहन पांडेय, जयप्रकाश मिश्रा, नवीन दुबे, यशोवर्धन पांडेय का योगदान रहा।

 

cow Worshiped in  <a href=kashi on Gopashtami" src="https://new-img.patrika.com/upload/2018/11/15/cow_worshiped_in_kashi_on_gopashtami-01_3712803-m.jpg">
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned