खुशियों का सामान लाया मातम का पैगाम, शहनाई के बीच मौत की आतिशबाजी 

खुशियों का सामान लाया मातम का पैगाम, शहनाई के बीच मौत की आतिशबाजी 
cracker's blast

बालमन की चंचलता और लापरवाही के चलते हुई मासूम की मौत

वाराणसी. एक घर से बेटी हंसी-खुशी अपने विदा होकर ससुराल जाने की तैयारी कर रही थी लेकिन पड़ोस के एक घर में उठी एक गूंज ने मातम छाया गया। शादी वाले घर आया खुशियों का सामान उस परिवार के लिए मौत का पैगाम बन गया। शहनाई के बीच मौत की आतिशबाजी ने एक परिवार से उसका बेटा छीन लिया।
 
पड़ोस में आई थी बरात
कैंट थाना क्षेत्र के अनौला गांव के एक घर में बरात आई थी। पड़ोस के 12 वर्षीय छोटू ने भी शनिवार की रात अपने दोस्तों के साथ शादी में जमकर धमाल किया। बरात दरवाजे पर पहुंची तो वहां वर पक्ष की ओर से जमकर आतिशबाजी की गई। आतिशबाजी के दौरान कुछ पटाखे नहीं फूटे। आतिशबाजी करने वालों ने उसे रास्ते में यूं ही छोड़ दिया। बैंड-बाजा की धुन पर दोस्तों संग नाच रहे छोटू की नजर उन पटाखों पर पड़ गई और उसने वह उठा लिया और उसे घर ले आया। रविवार सुबह पड़ोस वाली दीदी की विदाई का कार्यक्रम चल रहा था। छोटू की मां भी पड़ोस में गई थी। इस बीच नींद खुलते ही छोटू ने उसे पटाखे को कांच की एक बोतल में डालकर उसमें आग लगा दी। पटाखा शीशी के अंदर ही फूट गया। तेज धमाके से कांच के टुकड़े छोटू के गले, सिर व शरीर के अन्य स्थानों में धंस गए। विस्फोट की आवाज सुनकर सभी लोग कमरे की ओर दौड़ पड़े। लहूलुहान छोटू को देखकर सभी के होश फाख्ता हो गए। तत्काल छोटू को समीप के एक निजी अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में डॉक्टरों की कोशिश से पहले ही छोटू की सांसे थम गई। तीन भाइयों व एक बहन में सबसे छोटे छोटू के मौत की खबर मिलते ही गांव में मातम पसर गया। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned