जयंती पर राम भक्त हनुमान की भक्ति में डूबी काशी

जयंती पर राम भक्त हनुमान की भक्ति में डूबी काशी
अक्षयवट हनुमान

Ajay Chaturvedi | Updated: 06 Nov 2018, 02:52:31 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

संकटमोचन सहित हनुमान मंदिरों में सजाई गई भव्य झांकी, दर्शन कर भक्त निहाल...

वाराणसी. दीपावली की पूर्व संध्या यानी कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्थी पर मनायी जाती है हनुमान जयंती। अब हनुमान जी की जयंती हो और भला काशी में धूम-धाम न हो ऐसा कैसे संभव हो सकता है। हनुमान भी तो भोले के ही स्वरूप हैं। भोले नाथ के पूज्य श्री राम के भक्त हैं। सबसे बडी बात कि कलयुग के एक मात्र सर्वमान्य देव है। ऐसे में काशी के हनुमान मंदिरों में सुबह से ही लग गई कतार। मंदिरों में भव्य झांकी सजाई गई। भोर में हनुमान जी का श्रृंगार कर आरती हुई और दर्शनार्थियों के लिए खोल दिया गया पट। उधर पहले से ही प्रतीक्षारत भक्तों ने पट खुलते ही पवनसुत हनुमान की जय का जो उद्घोष किया कि पूरा मंदिर प्रांगण ही हनुमतमय हो गया। चाहे वह संकटमोचन मंदिर हो, प्राचीन बनकटी हनुमान मंदिर हो, पंचमुखी हनुमान मंदिर हो या अक्षयवट हनुमान मंदिर। हर जगह सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। यह सिलसिला अब देर रात तक जारी रहेगा।

हनुमान भक्तों का सैलाब सुबह से ही हनुमत दरबार में उमड़ पड़ा। नगर से लेकर गांव तक के मंदिरों में अंजनी पुत्र की जयजयकार होने लगी। पवनसुत की निराली छवि के दर्शन कर भक्त निहाल हो गए। पवन सुत हनुमान जी की जयंती मंगलवार को संकटमोचन समेत सभी मंदिरों में धूमधाम से मनाभिई गई। यह अदभूत संयोग था कि इस बार मंगलवार ही को हनुमान जी की जयंती पड़ी। इसी क्रम में संकटमोचन मंदिर के महंत प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र के सानिध्य में प्रात: काल संकटमोचन मंदिर में तुलसी दल व सुगंधित पुष्पों से हनुमान जी का श्रृंगार कर भोर में मंगला आरती हुई। भोग लगाने के साथ ही 05:30 बजे गर्भगृह का कपाट दर्शनार्थ खोल दिया गया।


मंदिर परिसर की फूल-मालाओं से आकर्षक सजावट की गई थी। मंदिर का कपाट खुलते ही भक्तों का अधीर मन केसरीनंदन के दर्शन कर प्रसन्न हो उठा। कतारबद्ध दर्शनार्थी हाथ फैला कर पंचामृत और तुलसी का प्रसाद लेते और उसे सिर-माथे लगाते रहे। जयकारों, चौपाइयों-दोहों और कीर्तन संग गर्भगृह की परिक्रमा करते महिला-पुरुष दर्शनार्थियों की कतार मंदिर प्रांगण से मुख्य द्वार के पार तक लगी रही। महंत प्रो. विश्वम्भर नाथ मिश्र और सुमेधा मिश्र ने श्राद्धालुओं में प्रसाद वितरित किया।


उधर काशी विश्वनाथ मंदिर से सटे अक्षयवट हनुमान मंदिर में पवन-पुत्र का विधि-विधान से जन्मोत्सव मनाया गया। सोमवार की देर रात चतुर्दशी लग जाने के बाद ही मंदिर के पुजारी निर्मल झा ने पूजन किया। सर्वप्रथम अंजनी पुत्र का पंचामृत स्नान कराया गया। फिर नूतन वस्त्र धारण करा के गुलाब, गेंदा, कुंड के सुगंधित मालाओं से भव्य श्रृंगार किया गया। फिर भोर में 3.30 बजे महंत नील कुमार मिश्रा महाआरती की। आरती के बाद दर्शन हेतु कपाट खोल दिया गया। बाबा की नयनाभिराम झांकी देखने के लिए भक्तों भीड़ उमड़ी पड़ी। अक्षयवट हनुमान को लड्डू व बुनिया का भोग लगाकर भक्तों में वितरण किया गया। प्रसाद वितरण कार्य मंदिर के महंत कमल मिश्रा व अंकित मिश्रा ने किया। इस दौरान पूरे मंदिर प्रांगण को रंग-बिरंगे गुब्बारों व विधुत झालरों से सजाया गया था।

संकटमोचन में हनुमान जी के दर्शन को उमड़ा सैलाबसंकटमोचन में हनुमान जी के दर्शन को उमड़ा सैलाब
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned