बीजेपी की यह कैसी डर्टी पॉलिटिक्स

बीजेपी की यह कैसी डर्टी पॉलिटिक्स
mo shahid funeral

हॉकी के सुल्तान की अंतिम यात्रा में शामिल नहीं हुए कांग्रेसी-भाजपाई, सपा के तमाम नेता जनाजे में हुए शामिल

वाराणसी. भारतीय हॉकी के सुल्तान मो. शाहिद ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उनकी मौत पर भी राजनीति हो जाएगी। वाराणसी में बीजेपी के इस कदम ने लोगों को हैरत में डाल दिया है। विरोधी दल भी सकते में हैं कि बीजेपी की यह कैसी डर्टी पॉलिटिक्स है।   ड्रिबलिंग के बादशाह माने जाने वाले हॉकी प्लेयर और पद्मश्री, अर्जुन अवार्ड से नवाजे जा चुके मो. शाहिद की गुरुवार को निकली अंतिम यात्रा में भाजपा के जनप्रतिनिधि नहीं दिखे जिसको लेकर तमाम तरह की चर्चाएं व्याप्त थी। लोगों के मन में टीस इस बात की कि पार्टी ने इस महान खिलाड़ी की मौत पर भी राजनीति कर गई। शाहिद किसी धर्म विशेष से नहीं, काशी के बेटे थे। 
खजुरी के बाद कचहरी स्थित उनके आवास से जब जनाजा निकला तो वहां बीजेपी के किसी भी जनप्रतिनिधि की उपस्थिति नहीं दिखी जबकि जिला पंचायत अध्यक्ष अपराजिता सोनकर, सपा से मनोज राज धूपचंडी, सतीश फौजी समेत अन्य सपाई मो0 शाहिद की अंतिम यात्रा में शरीक हुए। भाजपा से जुड़े एक नेता ने हैरानी जताई कि आखिर देश के इस महान खिलाड़ी को लेकर भाजपा ने जिस तरह उदासीनता दिखाई है वह हैरानी भरा कदम है। इससे लोगों की भावनाएं आहत होंगी। 
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned