DM के निशाने पर आए CMO, मिली फटकार

DM के निशाने पर आए CMO, मिली फटकार
meeting

जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में दी कार्यप्रणाली सुधारने की चेतावनी

वाराणसी.
जिलाधिकारी विजय किरन आनंद की ताबड़तोड़ बैटिंग से तमाम सरकारी महकमे हिले हैं। डीएम ने अब स्वास्थ्य विभाग को निशाने पर लेते हुए बोल्ड किया। रविवार को जिला राइफल क्लब में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक के दौरान डीएम ने कड़े तेवर दिखाते मुख्य चिकित्सा अधिकारी को फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि पिछली बैठक के दौरान दिए गए निर्देश के अनुपालन में स्वास्थ्य केंद्रों की चिकित्सकीय व्यवस्थामें कोई  सुधार दिखाई नही दिखाई दे रहा है। उन्होंने बताया कि गत दिनों मजिस्ट्रेटो  के द्वारा उनके द्वारा कराए गए गोपनीय जांच के दौरान यह तथ्य सामने आया है की सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर चिकित्सक एवं पैरा मेडिकल कर्मचारी नहीं रहते हैं और न ही वहां पर चिकित्सा व्यवस्था संतोषजनक है। उन्होंने स्वास्थ्य महकमे को 1 सप्ताह की मोहलत देते हुए, अपनी कार्यप्रणाली सुधारने और कार्य संस्कृति बदलने की नसीहत दी है। उन्होंने कड़े निर्देश दिए हैं कि शीघ्र ही गोपनीय जांच कराया जाएगा। इस दौरान अनुपस्थित पाए गए चिकित्सकों एवम कर्मचारियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई हर हालत में किया जाएगा।

सरकारी अस्पतालों की दशा सुधारें वरना...

जिलाधिकारी ने कहा कि श्री शिवप्रसाद गुप्त  मंडलीय चिकित्सालय, राजकीय महिला चिकित्सालय एवं लाल बहादुर शास्त्री चिकितसालय रामनगर की स्थिति काफी खराब है इन अस्पतालों में शैय्या भर्ती दर काफी कम है। उन्होंने राजकीय चिकित्सालयों सहित सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में डॉक्टरों की उपस्थिति सहित चिकित्सा व्यवस्था सुधारने हेतु स्वास्थ्य महकमे को अंतिम चेतावनी दी। उन्होंने गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि अब निर्देश नहीं कार्रवाई किया जाएगा।

ANM को देनी होगी परीक्षा

जिलाधिकारी ने संस्थागत प्रसव एवं टीकाकरण सहित अन्य राष्ट्रीय कार्यक्रमों मे कार्य न करने वाली आशाओं एवं ANM की सूची 1 सप्ताह में उपलब्ध कराए जाने का निर्देश दिया है। ऎसी आशाओं एवम ANM की सेवाएं समाप्त की जाएंगी। जिलाधिकारी ने बताया कि 25 से 31 अगस्त तक समय आशा एवं एएनएम के लिए परीक्षा का समय होगा। इन लोगों के कार्यक्षमता का आंकलन करने के लिए परीक्षा देनी होगी। परीक्षा के दौरान कुल 200 नंबर के पेपर उपलब्ध कराए जाएंगे। जिसमें से 100 नंबर की परीक्षा लिखित होगी और 100 नंबर की परीक्षा ग्रुप डिस्कशन के रूप में होगा। उन्होंने सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया है कि 30 जून तक ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति के खातों में धनराशि ट्रांसफर प्रत्येक दशा में कर दें अन्यथा जुलाई महीने में उनकी वेतन वृद्धि रोकने के साथ ही विशेष प्रतिकूल प्रविष्टि दी जाएगी तथा उनका प्रमोशन भी बाधित कर दिया जाएगा। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आराजी लाइन के अधीक्षक को तुरंत हटाए जाने का निर्देश दिया है। उन्होंने सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया है कि जननी सुरक्षा योजना के लाभार्थी प्रत्येक दशा में 48 घंटे तक स्वास्थ्य केंद्रों पर रुके। इस हेतु उन्होंने उनके लिये भोजन , पानी,  साफ सफाई तथा साफ-सुथरे बेड की व्यवस्था सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया। उन्होंने 48 घंटे के अंदर लाभार्थियों को 1400 रुपये का प्रोत्साहन राशि सहित आशाओं को दिए जाने वाले मानदेय का भुगतान उनके खातों में किए जाने का भी निर्देश दिया। उन्होंने महिला राजकीय चिकित्सालय की महिला चिकित्सकों द्वारा नसबंदी न करने की जानकारी पर गहरी नाराजगी व्यक्त की तथा कड़ी चेतावनी जारी किया। जिलाधिकारी ने सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को प्रत्येक माह 50-50 नसबंदी के लक्ष्य पूर्ति करने का भी निर्देश दिया। उन्होंने शहर के 9 स्थानों विशेषकर मलिन बस्तियों एवं पिछड़े क्षेत्र को चिन्हित करने का निर्देश दिया। ताकि सम्भावित मलेरिया के दौरान उन स्थानों पर जिला मलेरिया अधिकारी शिविर लगाकर टीकाकरण का कार्य कर सके।
जिलाधिकारी विजय किरन आनंद ने आशाओ को निर्देशित किया है की वे आगामी 5 दिनों तक अपने क्षेत्र में घर घर सम्पर्क कर गर्भवती महिलाओं एवं 1 वर्ष तक के बच्चों को चिन्हित करेंगी और उन्हें रजिस्टर में अंकित कर सूची अपने क्षेत्र के सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को उपलब्ध कराए। उन्होंने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों एवं अर्बन क्षेत्र के नोडल अधिकारी को निर्देशित किया है कि आशाओं द्वारा प्राप्त सूची के अनुसार मदर एंड चिल्ड्रेन ट्रैकिंग प्रोटल पर उसकी फिडीग कराएंगे। उन्होंने बताया कि 7 जुलाई से 14 जुलाई के बीच अभियान चलाकर इंद्रधनुष अभियान के अंतर्गत 1 वर्ष तक के इन चिन्हित बच्चों का शत प्रतिशत टीकाकरण कराया जाएगा। जिलाधिकारी ने कहां कि क्षेत्र के कोटेदार एवं ग्राम प्रधानों की जिम्मेदारी होगी की उनके क्षेत्र का 1 वर्ष तक का कोई भी बच्चा टीकाकरण से वंचित न रहने पाए। उन्होंने ग्राम प्रधानों को अपने अपने क्षेत्र में मुनादी कराए जाने का भी निर्देश दिया है।
बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी वी0वी0सिंह सहित सामुदायिक कम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के सभी प्रभारी चिकित्साधिकारी डब्ल्यूएचओ के डॉक्टर सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित रहे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned