कोरोना का खौफ रोजाना सवा करोड़ का अंडा खा रहे वाराणसी व आसपास के लाेेग

कोरोना काल में इम्युनिटी बढ़़ाने के लिये प्रोटीन की जरूरत के लिये जमकर हो रहा अंडे का सेवन। सर्दी से भी महंगा बिक रहा गर्मी में अंडा।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. प्रोटीन का बेतहीन स्रोत अंडा भी महंगा हो गया है। कोरोना के खौफ के चलते लोग करोड़ों का अंडा रोजाना चटकर जा रहे हैं। गर्मी के दिनों में सस्ता बिकने वाला अंडा इन दिनों सात रुपये का एक बिक रहा है। हालांकि इस सीजन में अंडे की कीमत चार रुपये से साढ़े चार रुपये के रहती है। थोक और फुटकर दोनों रेट में इजाफा हुआ है। अंडे के महंगा होने के पीछे कारण कोरोना काल में इसकी जबरदस्त बढ़ी मांग है। लोग स्ट्रांग इम्युनिटी के लिये प्रोटीन की जरूरत को पूरा करने के लिये अंडे का जमकर सेवन कर रहे हैं। अकेले वाराणसी और उससे आसपास के जिलों में लोग रोजाना सवा करोड़ से अधिक के अंडे खा रहे हैं।


कोरोना काल में अंडे का जमकर इस्तेमाल इसकी कीमत में इजाफे का कारण बना है। हालांकि ठंड के दिनों की अपेक्षा गर्मी में अंडा लोग कम खाते हैं, लेकिन कोरोना के चलते इसका उलटा हुआ है और लोगों ने गर्मी के दिनों में जमकर अंडे खाए हैं। अंडा व्यापारियों की मानें तो अकेले वाराणसी और आसपास के जिलों में ठंड के दिनों में अंडे का कारोबार रोाजना एक करोड़ रुपये के आसपास रहता था। जबकि गर्मी में यह गिरकर 72 से 75 लाख रुपये पर आ जाता था। पर कोरोना काल में अंडे का गणित पूरी तरह उलट गया है। इस बार गर्मी में लोग रोाजना सवा करोड़ के अंडे चट कर जा रहे हैं।


अंडा व्यापारी मुन्न गुप्ता की मानें तो ऐसा पहली बार हुआ है कि गर्मी में अंडे की इतनी बिक्री हुई है। कोरोना के चलते बीते साल अंडे और चिकन के कारोबार में जोरदार गिरावट आई थी। पर इम्युनिटी बढ़ाने के लिये प्रोटीन लेने की डाॅक्टरों की सलाह के बाद इसकी बिक्री में सुधार हो गया। हालांकि बीते साल ही बर्ड फ्लू की दहशत के चलते भी अंडा कारोबार बेहद प्रभावित हुआ था और बावजूद बीते साल बर्ड फ्लू के खौफ से मुअंडे के रेट में भारी गिरावट आई थी। 180 से 185 रुपये प्रति ट्रे मिलने वाला अंडा घटकर 120 तक आ गया था।


बात करें वर्तमान में अंडे के रेट की तो 210 अंडों की एक पेटी थोक में 1160 रुपये में बिक रही है। थोक में एक अंडा साढ़े पांच रुपये के आसपास बिक रहा है, जबकि फुटकर में सात रुपये और सुदूर ग्रामीण इलाकों में आठ रुपये तक बिक रहा है। बीएचयू के मशहूर डाॅक्टर विजय नाथ मिश्रा ने बताया कि प्रोटीन से निकलने वाला अमाइनो एसिड इम्युनिटी वाले प्रोटीन का निर्माण करता है। हालांकि अधेड़ और बड़े बुजुर्गों को बहुत अधिक सेवन से एहतियात बरतना चाहिये।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned