आंदोलित बिजली अभियंताओं ने फिर शुरू किया अनशन

Ajay Chaturvedi | Updated: 02 Oct 2018, 05:16:00 PM (IST) Varanasi, Uttar Pradesh, India

निजीकरण का विरोध और वेतन विसंगति दूर करने की मांग पर अड़े हैं अभियंता।

वाराणसी. ऊर्जा क्षेत्र के निजीकरण और वेतन विसंगति दूर करने की प्रमुख मांगो को लेकर विद्युत अभियंता मंगलवार को तीसरी बार 48 घंटे का उपवास पर शुरू किया।


बता दें कि राज्य विद्युत परिषद जूनियर्स संगठन के प्रदेश नेतृत्व द्वारा अवर अभियंताओं एवं प्रोन्नत अभियंताओं के मान सम्मान प्रतिष्ठा एवं भविष्य से जुड़े महत्वपूर्ण मांगों 4600 ग्रेड पे का आदेश 2006 से करने, प्रथम समयबद्ध वेतनमान 09 वर्ष पर सहायक अभियंता, 14 वर्ष पर अधिशासी , 19 वर्ष पर अधीक्षण अभियंता के पूर्ववर्ती व्यवस्था को यथावत लागू करने की मांग को लेकर आंदोलित है। वे प्रदेश की विद्युत व्यवस्था के सुचारू संचालन एवं बेहतर उपभोक्ता सेवा प्रदान करने के लिए कारपोरेशन द्वारा जारी यार्ड स्टिक के अनुसार 3000 अवर अभियंताओं की तत्काल भर्ती , अवर अभियंता प्रभारी की भ्रष्ट एवं बेनियम व्यवस्था को वापस करने, नित प्रतिदिन अवर अभियंताओं के साथ के क्षेत्रों में हो रहे मारपीट एवं झूठे मकदमों पर सार्थक कानून बनाने , पुरानी पेंशन व्यवस्था लगु करने इत्यादि पर प्रबंधन के ध्यानाकर्षण के लिए प्रदेश भर में चलाए जा रहे सत्याग्रह आंदोलन के तृतीय चरण 48 घंटे के सामूहिक उपवास कार्यक्रम में मंगलवार को वाराणसी अंचल के अंतर्गत वाराणसी, इलाहाबाद, बस्ती, मिर्जापुर, आजमगढ़ एवं गोरखपुर क्षेत्र के अंतर्गत सभी 22 जनपदों के समस्त अवर अभियंता एवं प्रोन्नत अभियंता लगभग हजारों की संख्या में सम्मिलित हुए।

संगठन के पूर्वांचल अध्यक्ष अवधेश मिश्र ने कहा कि प्रबंधन द्वारा बिना दूरगामी सोच के नित प्रतिदिन प्रतिगामी आदेश दिए जा रहे हैं। इससे संगठन सदस्य हतोत्साहित हैं। ऊर्जा क्षेत्र का भविष्य भी संशय में दिख रहा है। संसाधनों की घोर कमी के बावजूद विद्युत व्यवस्था का सुचारू संचालन करते हुए नित प्रतिदिन सदस्यों के साथ मारपीट एवं झूठे मुक़दमे दर्ज करने की उत्पीड़नात्मक घटनाएं घट रही हैं। बावजूद इसके प्रबंधन द्वारा संगठन के ध्यानाकर्षण के उपरांत भी हठधर्मिता पूर्ण रवैया अपनाए जाने एवं समाधान की दिशा में कोई सार्थक पहल के लिए कोई सार्थक कदम न उठाए जाने से यह प्रतीत होता है कि ऊर्जा प्रबंधन को बेहतर उपभोक्ता सेवा में आ रहे व्यवधानों एवं कर्मचारी हितों से कोई लगाव नहीं है। इसीलिए संगठन अपनी समस्याओं के तरफ अग्रसर किया जा रहा है, जिसका संगठन पुरजोर विरोध करता है।

उपवास कार्यक्रम में केंद्रीय कार्यकारिणी के विशेष आमंत्रित सदस्य केदार तिवारी, आई एम द्विवेदी, मुरलीधर, एस एल आर गुप्ता, केंद्रीय पदाधिकारी राजेश यादव, अजय कुमार, पूर्व केंद्रीय पदाधिकारी ए. के. सिंह , अवधेश यादव, शत्रुघ्न यादव, रत्नेश सेठ, पुष्कर उपाध्याय, संजीव भास्कर, ए. के. उपध्याय आदि ने संबोधित किया। अध्यक्षता अवधेश मिश्रा ने की और संचालन आशीष सिंह ने किया।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned